पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58649.681.76 %
  • NIFTY17469.751.71 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479790.62 %
  • SILVER(MCX 1 KG)612240.48 %

कवर्धा की घटना के बाद भूपेश बघेल की दो टूक:मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा- अफवाह न फैलने दें और कानून व्यवस्था अपने हाथ में लें

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सरकारी योजनाओं की सफलता आंकड़ों से नहीं, लोगों की संतुष्टि से ही। - Money Bhaskar
सरकारी योजनाओं की सफलता आंकड़ों से नहीं, लोगों की संतुष्टि से ही।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने करीब दो साल बाद गुरुवार को कलेक्टर्स कांफ्रेंस की। इसमें एक अहम फैसला सुनाते हुए उन्होंने कहा कि जिले की कानून व्यवस्था भी कलेक्टर देखें। लाॅ एंड आर्डर के लिए उन्हें फ्री हैंड दिया जा रहा है। हाल ही में जशपुर, कवर्धा और रायपुर समेत कुछ जिलों में कानून व्यवस्था को लेकर आई दिक्कतों को लेकर कड़ा रुख अपनाया। उन्होंने कलेक्टरों को उनके दंडाधिकारी पावर की याद दिलाते हुए फ्री हैंड दिया।

अब जिलों में लॉ एंड आर्डर बनाए रखने की जिम्मेदारी कलेक्टरों की होगी। सीएम बघेल ने कहा कि इस अधिकार का पूरा इस्तेमाल करते हुए कानून व्यवस्था बिगाड़ने वालों को बख्शा न जाए। उन्होंने अफसरों से कहा कि प्रशासन की सख्ती होनी चाहिए। सीएम ने कहा कि विरोध-प्रदर्शन से परहेज़ नहीं है, लेकिन योजनाबद्ध रूप से माहौल बिगाड़ने की साज़िश को सफल नहीं होने दिया जाना है। इंटेलिजेंस को मजबूत करना चाहिए। सीएम ने कहा कि प्रशासन की सजगता से ही कानून व्यवस्था की स्थिति बेहतर हो सकती है।

संचार क्रांति के दौर में एक घटना का असर प्रदेश और देश में होता है, इसलिए ज़िम्मेदारी बहुत अधिक है। सोशल मीडिया पर नजर रखना भी जरूरी है। इसके लिए सूचना तंत्र सुदृढ़ किया जाना जरूरी है। गलत तथ्यों का खंडन करें, अफवाह न फैलने दें। जिला दंडाधिकारी को टीम लीडर के रूप में कार्य करना है। जिला दंडाधिकारी साप्ताहिक टीएल बैठक के पूर्व एसपी, कार्यपालिक दंडाधिकारियों के साथ कानून-व्यवस्था की समीक्षा करें। रणनीतिक योजनाएं बनाएं। शासन प्रशासन की पैठ स्थापित होनी चाहिए। 8 घंटे से अधिक चली मैराथन कांफ्रेंस में सीएम बघेल ने पहले अपनी बात रखी और फिर एक-एक कर कलेक्टरों से अपनी सरकार की योजनाओं की धरातलीय स्थिति की जानकारी ली। न्यू सर्किट हाउस में कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, सीएस अमिताभ जैन, डीजीपी डीएम अवस्थी, एसीएस सुब्रत साहू, पीएस , सेक्रेटरी, कमिश्नर, कलेक्टर व सीईओ जिपं शामिल हुए।

बस्तर, राजनांदगांव की पीठ थपथपाई, मुंगेली में दिक्कत
सीएम ने एजेंडे के दो दर्जन प्वाइंट्स पर दो सालों में अच्छा परफार्म करने वाले जिलों के कलेक्टरों की पीठ थपथपाई। वहीं सीएम ने बेहतर रिजल्ट न देने पाने वाले कलेक्टरों से उन्हें आ रही दिक्कतों के वारे में पूछा। सीएम ने कहा कि बस्तर, राजनांदगांव और चांपा-जांजगीर जिले में सरकार की फ्लैगशिप योजनाएं बेहतर तरीके से संचालित हो रहीं हैं। वहीं बलौदाबाजार, मुंगेली में दिक्कते हैं।

अतिक्रमण रोकने बनेगा वर्क-प्लान, दिलाएंगे हक
सीएम ने कहा कि नए अतिक्रमण पर प्रभावी रोकथाम लगाने राजस्व अधिकारी वर्क-प्लान बनाएं। अतिक्रमण व्यवस्थापन की कार्यवाही में तेज़ी लाकर नागरिकों को मालिकाना हक दिलाएं। इससे शासन के राजस्व में वृद्धि भी होगी। हर स्थिति में भू-राजस्व प्रकरणों का सिटीज़न चार्टर में तय समय सीमा में निराकरण हो। अविवादित नामांतरण, खाता विभाजन जैसे सरल कार्य तत्काल किए जाएं।

सीएम ने ये टारगेट भी दिए

  • शहरीकरण के बढ़ते दबाव, सीमित संसाधनों को दृष्टिगत रखते हुए अर्थव्यवस्था का विकेंद्रीकरण करें।
  • गोठानों को केंद्र बिंदु रख ग्रामीण औद्योगिक पार्क विकसित करें। महिला समूहों को अधिक से अधिक काम दें।
  • रोका छेका अभियान बना जनआंदोलन, यह धान कटाई तक सीमित न रहेगा, उतेरा के चक्र पूर्ण होते तक चलेगा।
  • ग्राम स्तर पर स्कूल शिक्षा व आजीविका के साधन सृजित हों। अब ग्रामीण औद्योगिक पार्क बनाने की तैयारी हो।
  • क्लस्टर चिह्नांकित कर ब्लाकों में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में अन्य फसलों को प्रोत्साहन। वृक्षारोपण में भी तेजी लाएं।
  • भूमिहीन कृषि मज़दूर न्याय योजना के लिए पंचायतवार टीम बनाकर मिशन मोड पर काम करना होगा।