पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

CG के सांसद भी ट्रेन मुद्दे पर बैरंग लौटे:भाजपा के MP ने केंद्र सरकार,रेल मंत्री से यात्री ट्रेनों पर बात की,हासिल कुछ नहीं हुआ

रायपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ से होकर गुजरने वाली 40 से अधिक यात्री गाड़ियां बंद कर दी गई हैं। इसकी वजह से 10 लाख से अधिक लोगों को काफी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। केंद्र सरकार सांसदों से भी रेल सुविधा की स्थिति स्पष्ट नहीं कर रही है। उनको कहा जा रहा है, कोयला परिवहन में तेजी लाने के लिए यात्री ट्रेन रद्द हुई है। स्थिति सुधरेगी तो रेल सेवा बहाल कर दी जाएगी। यह स्थिति कब आएगी इसका जवाब किसी सांसद के पास नहीं है।

दैनिक भास्कर ने छत्तीसगढ़ के सांसदों के सामने यह सवाल रखा। उनसे पूछा गया कि रेल गाड़ियों को फिर से शुरू कराने के लिए वे क्या कर रहे हैं। भाजपा की राज्यसभा सांसद सरोज पाण्डेय का कहना था, "मैं केंद्रीय रेल मंत्री से मिली थी। उन्हें इस समस्या से अवगत कराया था। उन्होंने 15 दिन में ट्रेन शुरू करने की बात कही थी। अभी 15 दिन नहीं हुए हैं। देख लेते हैं, यदि इसके बाद भी कुछ नहीं होता है तो दोबारा उनसे मिलकर इस समस्या का समाधान निकालने की कोशिश करेंगे।'

वहीं राजनांदगांव सीट से भाजपा सांसद संतोष पाण्डेय ने कहा, "इस संबंध में केंद्र सरकार से लगातार बातचीत हो रही है। ट्रेन को बंद करने के कारण बड़े जेनविन हैं। आश्वासन मिला है कि बहुत जल्द बंद रेल गाड़ियों को शुरू कर दिया जाएगा।' बिलासपुर से भाजपा सांसद अरुण साव ने बताया, "रेल मंत्रालय से लगातार संपर्क में हूं। लोगों को हो रही परेशानी से उन्हें अवगत कराया है। सरकार ने आश्वासन दिया है कि लोगों का ध्यान रखा जाएगा। कहा जा रहा है, जैसे-जैसे परिस्थितियां सामान्य होंगी, बारी-बारी से ट्रेन सेवा को बहाल कर दिया जाएगा।' फिलहाल रेल सेवा को बहाल करने की निश्चित टाइमलाइन बताने की स्थिति में कोई नहीं दिख रहा है।

दुर्ग सांसद ने एक विकल्प सुझाया है

इस बीच दुर्ग से भाजपा सांसद विजय बघेल ने केंद्रीय रेल मंत्री से मुलाकात के दौरान विकल्प भी सुझाया है। उन्होंने कहा, "मैं इस बारे में केंद्रीय रेल मंत्री से मिला था। मैंने उनसे कहा है कि यदि माल भाड़ा से अधिक कमाई होती है तो पहले उन ट्रेनों को गुजार दीजिए। बीच में जो समय बचता है उस समय पर पैसेंजर और एक्सप्रेस ट्रेने चलाएं। उन्होंने सुझाव को माना है। जल्द ही इस समस्या का समाधान होगा।'

बंद रेल सेवा को बहाल कराने के लिए मुख्यमंत्री ने रेल मंत्री से फोन पर चर्चा की थी।
बंद रेल सेवा को बहाल कराने के लिए मुख्यमंत्री ने रेल मंत्री से फोन पर चर्चा की थी।

मुख्यमंत्री ने भी रेल मंत्री से की थी बात

पिछले महीने ट्रेनों को रद्द करने की जानकारी आने के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव से बात की थी। छत्तीसगढ़ सरकार ने रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष को पत्र लिखकर आधिकारिक आपत्ति दर्ज कराई थी। उसके बाद छह ट्रेनों को फिर से शुरू करने का आदेश जारी हुआ। बाद में कुछ और ट्रेनों को जून तक बंद रखने का आदेश जारी हो गया। उन ट्रेनों का परिचालन अब बंद कर दिया गया है।

छत्तीसगढ़ से गुजरने वाली कई ट्रेनों के बंद होने से यात्रियों को जरूरी यात्रा के लिए अधिक खर्च करना पड़ रहा है।
छत्तीसगढ़ से गुजरने वाली कई ट्रेनों के बंद होने से यात्रियों को जरूरी यात्रा के लिए अधिक खर्च करना पड़ रहा है।

बिलासपुर जोन से गुजरती हैं 343 रेलगाड़ियां

बताया जा रहा है, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के बिलासपुर जोन से होकर 343 एक्सप्रेस और लोकल रेल गाड़ियां चलती है। कोरोना काल के दौरान इन सभी गाड़ियों काे बंद कर दिया गया था। बाद में धीरे-धीरे कर कुछ गाड़ियों को स्पेशल ट्रेन का नाम देकर शुरू किया गया। कोरोना का संक्रमण नियंत्रित हो जाने के बाद ज्यादातर ट्रेनों को बहाल किया गया। लेकिन छत्तीसगढ़ से होकर गुजरने वाली 87 ट्रेनों को अब तक शुरू नहीं किया गया है। वहीं, पिछले तीन माह से कोयला परिवहन के नाम से 40 से अधिक ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। इनमें से 36 से अधिक गाड़ियां जून महीने तक कैंसिल हैं।

फिर ट्रेनें कैंसिल, बेहाल यात्री, भड़का आक्रोश:सबसे ज्यादा कोयला उत्पादन का दुष्परिणाम झेल रहा छत्तीसगढ; 10 लाख से ज्यादा यात्री प्रभावित

खबरें और भी हैं...