पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57684.791.09 %
  • NIFTY17166.91.08 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47590-0.92 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61821-0.24 %

ब्लैक फंगस कमजोर:422 से अधिक मरीजों के डेटा का विश्लेषण; 45-60 की उम्र वाले ज्यादा पीड़ित सिर्फ 22 एक्टिव केस बचे

रायपुर2 महीने पहलेलेखक: अमिताभ अरुण दुबे
  • कॉपी लिंक

प्रदेश में ब्लैक फंगस के अब केवल 22 एक्टिव केस ही रह गए हैं। यहां रिकवरी रेट 77 फीसदी से अधिक रहा है। 423 में से 329 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। कुल मरीजों में से 276 को ही ऑपरेशन की जरूरत पड़ी है। 49 मरीजों की मौत केवल ब्लैक फंगस और 23 मरीजों की मौत ब्लैक फंगस समेत कोमॉर्बिडिटी के साथ हुई है।

पहली बार स्वास्थ्य विभाग के कोविड कंट्रोल और कमांड सेंटर ने ब्लैक फंगस बीमारी पर एक व्यापक रिसर्च की, जिसके यह नतीजे आए हैं। रिसर्च में यह बात भी सामने आई कि ब्लैक फंगस ने 45-60 के बीच की उम्र वालों को ही प्रभावित किया है। रिसर्च में ब्लैक फंगस से जुड़े सभी पहलुओं का आंकलन किया गया है। इसके कमांड सेंटर ने सिंतबर 5 तारीख तक 422 से अधिक मरीजों के डेटा का पूरी विश्लेषण किया है। जिसमें कुछ चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं। ब्लैक फंगस के मरीजों में से 71 प्रतिशत पुरुष रहे हैं।

वहीं इस बीमारी से पीड़ित होने वाले मरीजों का प्रतिशत केवल 28 रहा है। प्रदेश में ब्लैक फंगस के 303 मरीज पुरुष रहे हैं। जबकि 119 महिला मरीज रही हैं। शोध के अनुसार 422 से अधिक मरीजों में से 49.52 फीसदी मरीजों में ब्लैक फंगस के केस सबसे ज्यादा हुए। वहीं कुल मरीजों में डायबिटीज की बीमारी वाले मरीजों का प्रतिशत 77.77 से अधिक रहा है। अर्थात ब्लैक फंगस के 309 से अधिक मरीजों में डायबिटीज की बीमारी पाई गई है। जबकि कोरोना ट्रीटमेंट के दौरान दिए जाने वाले स्टेरॉयड लेने वाले मरीजों की संख्या 241 रही है। यानी इनका प्रतिशत 57 फीसद के लगभग रहा है। वहीं कोरोना ट्रीटमेंट के दौरान ऐसे मरीज जिनको ऑक्सीजन लेने वाले मरीजों का प्रतिशत 45 रहा है। ब्लैक फंगस के ऐसे मरीजों की संख्या 190 के आसपास रही जिन्होंने कोरोना के दौरान ऑक्सीजन थैरेपी ली।

तीसरी लहर में पोस्ट कोविड पर फोकस, इसलिए शोध
कोरोना की तीसरी लहर में पोस्ट कोविड बीमारियों को लेकर भी अग्रिम तैयारियों पर फोकस किया जा रहा है। जानकारों के मुताबिक ऐसी आशंका है कि तीसरी लहर में कोरोना के साथ पोस्ट कोविड कांप्लीकेशन में ब्लैक फंगस की बीमारी भी एक बड़ी दिक्कत बन सकती है। ऐसे में ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल के दौरान इस तरह की बीमारियां न हों, इसके लिए तैयारियां की जा रही हैं। ब्लैक फंगस पर रिसर्च इसलिए भी हुआ है, ताकि आने वाले समय में ऐसी दिक्कत आए, तो उससे निपटने की तैयारी रहे।

14 नए संक्रमित, 3.50 से कम एिक्टव मरीज
प्रदेश में कोरोना के 14 नए संक्रमित मिले हैं, जिसमें रायपुर के तीन शामिल हैं। पिछले 24 घंटे में शून्य मौत हुई है। इस बीच प्रदेश में कोरोना के टेस्ट की संख्या 1.60 करोड़ के पार हो चुकी है। 1.60 करोड़ से अधिक जांच में अब तक 10 लाख से अधिक लोग ही पॉजिटिव हुए हैं। वहीं कोरोना से स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या 9.91 लाख के पार पहुंच गई है। प्रदेश में अब 3.50 से कम एिक्टव मरीज ही बचे हैं।

प्रदेश में ब्लैक फंगस नियंत्रण की स्थिति में रहा है। बाकी राज्यों की तुलना में यहां अधिक संख्या में मरीज स्वस्थ हुए हैं। ब्लैक फंगस के नियंत्रण में समय पर जांच, इलाज और जागरूकता ने अहम भूमिका निभाई है।
-डॉ. सुभाष मिश्रा, डायरेक्टर, एपिडेमिक कंट्रोल

खबरें और भी हैं...