पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %

5 किमी. पैदल चलकर गांव पहुंचे मंत्री:अंबिकापुर में कच्चे रास्ते से होते हुए दलधोआ घाट पहुंचे अमरजीत भगत, ग्रामीणों के बीच चौपाल भी लगाई

रायपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंत्री अमरजीत भगत ने गांव के खेतों के रास्ते ये सफर तय किया।

खाद्य एवं संस्कृति विभाग के मंत्री अमरजीत भगत पिछले पांच दिन से अंबिकापुर में अपने विधानसभा क्षेत्र सीतापुर में हैं। खाद्य मंत्री गुरुवार को कर्महा गांव पहुंचे। वहां से ग्रामीणों से बातचीत के बाद मछली नदी पर बन रहे डायवर्जन देखने दलधोआ घाट के लिए निकल गए। वहां तक जाने के लिए मंत्री अमरजीत भगत को पांच किमी पैदल चलना पड़ा।

खाद्य एवं संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने कर्महा ग्राम पंचायत के अंतर्गत आने वाले गांवों के निवासियों से मुलाकात की और चौपाल लगाकर उनकी समस्याएं सुनीं। इस दौरान ग्रामीणों ने गांव की समस्याएं बताई और मांग रखी। मंत्री ने ग्रामीणों के राशनकार्ड, भूमि पट्टा आदि से संबंधित समस्याओं का निराकरण किया। ग्रामीणों से मुलाकात करने के बाद वे बांध निर्माण क्षेत्र की ओर पैदल ही चल पड़े, अन्य जनप्रतिनिधि व प्रशासनिक अमला भी साथ था। अमरजीत भगत ने वहां तक पहुंचने के लिए 5 किलोमीटर की दूरी पैदल तय की। उन्होंने डायवर्जन निर्माण क्षेत्र का जायजा लिया।

मंत्री अमरजीत भगत ने चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याएं सुनी।
मंत्री अमरजीत भगत ने चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याएं सुनी।

मछली नदी के पास पहुंचकर उन्होंने बांध निर्माण स्थल का अवलोकन किया। मंत्री अमरजीत भगत ने कहा, “बांध के निर्माण से आस-पास के गांव के किसानों को लाभ होगा, सिंचाई सुविधा में वृद्धि होगी। इससे उन्हें बेहतर फसल लेने में सहायता मिलेगी और वे समृद्धि की ओर अग्रसर होंगे।''

मंत्री अमरजीत भगन ने मैना नदी पार किया था।
मंत्री अमरजीत भगन ने मैना नदी पार किया था।

एक दिन पहले मैना नदी पार कर पहुंचे थे
मंत्री अमरजीत भगत ने पैदल ही पहाड़ी मैना नदी को पार किया था। वे हाथी के हमले में प्रभावित एक परिवार से मिलने बोड़ाझरिया गांव गए थे। हाथी के हमले से प्रभावित परिवार नदी के दूसरे तट पर था तो मंत्री और अन्य अधिकारी पैदल ही नदी में उतर गए। नदी पार कर सभी पीड़ित परिवार तक पहुंचे थे।