पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59005.270.88 %
  • NIFTY175620.95 %
  • GOLD(MCX 10 GM)463320.4 %
  • SILVER(MCX 1 KG)602350.53 %

बस्तर में नकली नोटों का धंधा:कलर प्रिंटर से छापते थे 100, 200 और 500 के नोट; जगदलपुर में खपाने जा रहे 2 युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार किया, 78 हजार के जाली नोट जब्त

जगदलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
78500/- रुपए के नकली नोटों के साथ कोड़ेनार पुलिस ने 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया है - Money Bhaskar
78500/- रुपए के नकली नोटों के साथ कोड़ेनार पुलिस ने 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया है

बस्तर जिले के कोड़ेनार पुलिस ने शुक्रवार को नकली नोटों के साथ 2 युवकों को पकड़ा है। पकड़े गए दोनों युवक बस्तर संभाग के बीजापुर जिले के हैं। ये बीजापुर से जगदलपुर लगभग 78 हजार 500 रुपए के नकली नोट को खपाने लेकर जा रहे थे, तभी कोडेनार पुलिस ने दोनों को दबोच लिया। इनके पास से पुलिस ने लैपटॉप, कलर प्रिंटर, एक बाइक सहित अन्य सामान भी बरामद किया है। इन दोनों आरोपियों पर कार्रवाई करते हुए इन्हें न्यायिक रिमांड पर जेल भेजा गया है।

बीजापुर जिले के रहने वाले संतोष कुमार मिच्चा (21) व मनकू हेमला (25) कई दिनों से नकली नोट बनाने का कारोबार कर रहे थे। नकली नोट बनाकर उसे नक्सल इलाकों में लगातार खपाया करते थे। अब तक कितने हजार या लाख रुपए इन्होंने खपाए हैं, पुलिस इनसे पूछताछ कर रही है। शुक्रवार को मुखबिर से पुलिस को जानकारी मिली थी कि नकली नोट को लेकर 2 युवक बीजापुर से निकले हैं जो जगदलपुर शहर में नकली नोट खपाएंगे।

इसी सूचना के आधार पर पुलिस ने जगदलपुर-बीजापुर नेशनल हाईवे में स्थित कोड़ेनार थाना के सामने में आने-जाने वाली वाहनों की तलाशी लेनी शुरू की। इसी दौरान बीजापुर की तरफ से दो युवक बाइक से जगदलपुर की तरफ आ रहे थे। इनकी तलाशी लेने पर पुलिस ने 78 हजार 500 रुपए के नकली नोट बरामद किए। इनमें 100, 200 और 500 के नोट हैं। साथ ही इन दोनों आरोपियों के घर जाकर वहां से लैपटॉप, रंगीन कलर प्रिंटर सहित अन्य सामान भी बरामद किया गया है।

रंगीन प्रिंटर से छापते थे नकली नोट
पुलिस के अनुसार- दोनों आरोपी पिछले कई महीनों से कलर प्रिंटर से नकली नोट बनाने का कारोबार चला रहे थे। पहले स्कैनर से असली नोट को स्कैन करते फिर कलर प्रिंटर से उसकी फोटो निकालते थे। इस काम में इनकी इतनी सफाई थी कि अब तक इन्हें कोई पकड़ नहीं पाया था। शुरुआत में 100-200 के इक्का-दुक्का नोट को इन्होंने मार्केट में दिया था, जो आसानी से चल गया। फिर ज्यादा नकली नोट बना कर उसे बाजार में खपाने का प्रयास कर रहे थे, लेकिन पकड़े गए।

खबरें और भी हैं...