पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में नई शुरुआत:40 नहीं, अब 50 स्कूलों में स्मार्ट क्लास का सेटअप तैयार

दंतेवाड़ा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अभी दंतेवाड़ा जिले के 70 और स्कूलों में स्मार्ट क्लास का सेटअप होगा तैयार, स्कूल खुलने के बाद इसी में होगी पढ़ाई

नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले के बच्चों को पढ़ाई से जोड़े रखने के लिए नई शुरुआत की गई है। कई इलाकों में नेटवर्क की भले ही समस्या हो लेकिन शहर से लेकर गांवों में भी बच्चे स्मार्ट क्लास में स्मार्ट तरीके से पढ़ाई करेंगे। अभी जिले की 50 से ज्यादा स्कूलों में स्मार्ट क्लास के लिए सेटअप तैयार हो गया है। यह सेटअप जिले की कुल 120 स्कूलों में यह होना है। जहां स्मार्ट क्लास के लिए सेटअप हो गया है वहां टीचर्स की ट्रेनिंग के बाद ट्रायल भी हो गया है। अब जब कोरोना की तीसरी लहर के बाद बच्चे स्कूल आएंगे तो नए तरीके से पढ़ाई करेंगे। जिले की इन 120 स्कूलों के 10000 से ज्यादा बच्चों को इसका फायदा मिलेगा। दरअसल नक्सल इलाके में शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ करने नया प्रयोग हो रहा है। पहले चरण के लिए 40 स्कूलों को तय किया गया था। लेकिन बाद में इसे बढ़ाकर 120 स्कूल कर दिया गया।

पहली से 12वीं तक का सिलेबस उपलब्ध

डीईओ राजेश कर्मा ने बताया कि जिले की 120 स्कूलों में स्मार्ट क्लास के जरिए पढ़ाई कराई जाएगी। अभी 50 स्कूलों में सेटअप तैयार कर टीचर्स को ट्रेनिंग देकर ट्रॉयल हो गया है। कोरोना के कारण स्कूलें बंद हो गईं। स्कूलें खुलेंगी तो स्मार्ट क्लास में बच्चे पढ़ाई करेंगे। प्रोजेक्टर, चार्जिंग पेंसिल, रिमोट का इस्तेमाल होगा। नई तकनीक से पढ़ाई होगी। पहली से 12वीं तक सिलेबस उपलब्ध है। जहां ट्रायल हुआ वहां बच्चे बेहद उत्साहित होकर पढ़ रहे है।

नक्सल प्रभावित इलाके के बच्चों को फायदा

  • नक्सल प्रभावित इलाके की स्कूलों में स्मार्ट क्लास में पढ़ाई होने से बच्चे पढ़ाई से जुड़े रहेंगे।
  • स्कूल आने में भी रुचि लेंगे व उपस्थिति रहेगी।
  • दृश्य व श्रव्य तरीके से पढ़ाई होने पर समझ आसान होगी।
  • जिले में शिक्षकों की कमीं है ऐसे में इस तरह की पढ़ाई से कुछ हद तक फायदा मिल सकेगा।
  • इसके अलावा भी इस जिले में इस तकनीक के जरिए पढ़ाई होने का कई सारा फायदा मिल सकेगा।
खबरें और भी हैं...