पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60821.62-0.17 %
  • NIFTY18114.9-0.35 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476040.47 %
  • SILVER(MCX 1 KG)650340.55 %

अच्छी पहल:परवी में बैरियर लगाकर गश्त करते हैं ताकि हो सके जंगल की रक्षा

भानुप्रतापपुरएक महीने पहलेलेखक: सुमंत सिन्हा
  • कॉपी लिंक
भानुप्रतापपुर। ग्रामीण गांव के मुख्य मार्ग पर बैरियर लगाकर कर रहे पहरेदारी। - Money Bhaskar
भानुप्रतापपुर। ग्रामीण गांव के मुख्य मार्ग पर बैरियर लगाकर कर रहे पहरेदारी।
  • जंगल में बांस की कमी और लकड़ी की हो रही थी चोरी, जिसे रोकने गांव के लोगों ने उठाया कदम, बारी-बारी से करते हंै गश्त

वन परिक्षेत्र भानुप्रतापपुर और वन परिक्षेत्र कोरर सीमावर्ती गांव परवी के ग्रामीण पर्यावरण संरक्षण को लेकर बेहद जागरूक हैं। अपने क्षेत्र के जंगल को बचाने के लिए ग्रामीण लगातार जंगल में पहरेदारी कर रहे हैं। इतना ही नहीं सड़कों से बांस, लकड़ी चोरी न चली जाए, इसको लेकर बकायदा गांव के मुख्य मार्ग पर बैरियर लगाकर पहरा देते हैं।

ग्रामीणों के जागरूक होने का यह परिणाम हुआ कि जंगल में पेड़ों की अवैध कटाई बंद हो गई और जंगल हरे भरे होने लगे हैं। राजेश मंडावी, तुलसीराम कोमरे ने बताया कि ग्राम में वन सुरक्षा समिति व ग्रामीणों की बैठक हुई। बैठक में जंगल में बांस और पेड़ों की अवैध कटाई को लेकर चिंता जताई गई।

इसके बाद ग्रामीणों ने इस पर रोक लगाने ग्रामीणों की टीम बनाकर पहरेदारी करने व जंगल की सुरक्षा करने का फैसला लिया गया। गांव के चार मोहल्लों से ग्रामीणों की टीम बनाई गई। प्रतिदिन 10 लोगों की ड्यूटी लगाई गई हैं इनमें से प्रतिदिन जंगल में 8 लोगों का समूह जंगल में गश्त करता है।

वहीं 2 लोग गांव के मुख्य मार्ग पर बनाए गए बैरियर पर पहरेदारी करते हैं। लोगों की बैरियर में तैनाती और जंगल की पहरेदारी से जंगल में अवैध कटाई पर भी फिलहाल रोक लगी है।

ग्रामीणों का कार्य सराहनीय

वन परिक्षेत्र अधिकारी मुकेश नेताम ने कहा कि वन परिक्षेत्र के परवी के ग्रामीणों का पर्यावरण के प्रति जो रुझान है वह निश्चित रूप से सराहनीय है। इनके कार्य करने से जंगल सुरक्षित रहने के साथ परिवहन भी संतुलित रहेगा।

पर्यावरण संरक्षण को लेकर दिया जा रहा जोर

पूर्व सरपंच गोकुल नेताम ने बताया कि सरहद सीमांकन के दौरान पता चला कि परवी गांव वन परिक्षेत्र भानुप्रतापपुर और कोरर के सीमावर्ती है। इससे हरे भरे पेड़ों की कटाई हो रही है। इस पर वन सुरक्षा समिति और ग्रामीणों ने मिलकर जंगल की सुरक्षा करने का फैसला लिया। प्रति दिन गांव के 10 लोग जंगल की सुरक्षा में रहते हैं। दिनभर 8 लोग जंगल में निगरानी करते हैं और 2 लोग बैरियर में रहते हैं।

परवी के लोगों ने पेश की अच्छी मिसाल

ग्रीन कमांडो वीरेंद्र सिंह ने कहा कि परवी के ग्रामीणों ने पर्यावरण संरक्षण के प्रति जो कार्य कर रहे हैं वह एक अच्छी मिसाल है। ऐसे भाव हर गांव, हर व्यक्ति में होना चाहिए। इससे लोगों में अपने आप जागरूकता आ जाएगी।

खबरें और भी हैं...