पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नक्सलियों ने स्वतंत्रता दिवस का किया बहिष्कार:सड़क पर पेड़ गिराकर लगाए पोस्टर-बैनर, लिखा-अमृत उत्सव का त्योहार गरीब जनता के लिए नहीं

कांकेर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नक्सलियों ने स्वतंत्रता दिवस के बहिष्कार और अमृत महोत्सव को न मनाने की अपील की है। - Money Bhaskar
नक्सलियों ने स्वतंत्रता दिवस के बहिष्कार और अमृत महोत्सव को न मनाने की अपील की है।

छत्तीसगढ़ के कांकेर में नक्सलियों ने स्वतंत्रता दिवस का बहिष्कार किया है। नक्सलियों ने सड़क पर पेड़ गिराकर मार्ग बाधित कर दिया। पोस्टर और बैनर भी लगा दिए हैं। इसमें लोगों से आजादी का अमृत महोत्सव नहीं मनाने की अपील की है। वहीं मार्ग बाधित होने से वाहनों की लंबी लाइन लग गई। सूचना पर पहुंचे BSF जवानों ने काफी मशक्कत के बाद वहां से पेड़ हटाकर रास्ता साफ कराया। मामला सिकसोड़ थाना क्षेत्र का है।

अंतागढ़ इलाके में मेटाबोदली चारगांव खदान की ओर जाने वाले मार्ग पर भैसासुर से सुरेवाही के बीच में नक्सलियों ने बड़ी संख्या में पेड़ काटकर सड़क पर गिरा दिए।
अंतागढ़ इलाके में मेटाबोदली चारगांव खदान की ओर जाने वाले मार्ग पर भैसासुर से सुरेवाही के बीच में नक्सलियों ने बड़ी संख्या में पेड़ काटकर सड़क पर गिरा दिए।

जानकारी के मुताबिक, अंतागढ़ इलाके में मेटाबोदली चारगांव खदान की ओर जाने वाले मार्ग पर भैसासुर से सुरेवाही के बीच में नक्सलियों ने बड़ी संख्या में पेड़ काटकर सड़क पर गिरा दिए। वहीं पर काले रंग का बैनर और पोस्टर लगा दिया। इस पर नक्सलियों ने स्वतंत्रता दिवस के बहिष्कार और अमृत महोत्सव को न मनाने की अपील की है। लिखा है कि अमृत महोत्सव शासक वर्ग का त्योहार है। जनता के लिए नहीं है।

सड़कों पर पेड़ गिरे और रास्ता बाधित होने के चलते वहां वाहनों की लंबी कतार लग गई।
सड़कों पर पेड़ गिरे और रास्ता बाधित होने के चलते वहां वाहनों की लंबी कतार लग गई।

सड़कों पर पेड़ गिरे और रास्ता बाधित होने के चलते वहां वाहनों की लंबी कतार लग गई। ग्रामीणों से सूचना मिलने पर BSF जवान मौके पर रवाना हुए। इसके बाद मार्ग की बहाली के लिए प्रयास शुरू किया। हालांकि नक्सलियों के रास्ता बंद किए जाने की सूचना पर वाहनों को पहले ही रोक दिया गया था। आशंका थी कि इसके चलते कहीं नक्सली विस्फोटक लगाकर या घात लगाकर नुकसान न पहुंचा दें। नक्सली लगातार स्वतंत्रता दिवस का विरोध कर रहे हैं।