पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

थाने में कॉन्स्टेबल ने किया जमकर हंगामा, बर्खास्त:नाबालिग से रेप मामले में धराया छोटा भाई, तो आरक्षक ने खोया आपा, पुलिसकर्मियों से की धक्कामुक्की

जांजगीर-चांपा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी साहिल टंडन। - Money Bhaskar
आरोपी साहिल टंडन।

जांजगीर-चांपा के पामगढ़ थाने में पदस्थ आरक्षक को थाने में हंगामा और अन्य पुलिसकर्मियों से गालीगलौज व धक्कामुक्की करना भारी पड़ गया। दरअसल आरक्षक रज्जू टंडन के भाई साहिल टंडन (21 वर्ष) को POCSO (The Protection of Children from Sexual Offences) एक्ट के तहत पुलिस ने 4 अगस्त की रात गिरफ्तार कर लिया था, जिस पर वो आवेशित हो गया।

जब आरक्षक रज्जू टंडन ने अपने भाई साहिल को थाने में देखा, तो पहले तो उसे लॉकअप से निकालने का प्रयास किया, लेकिन जब ऐसा नहीं हो सका, तो उसने पुलिसकर्मियों से धक्कामुक्की और गालीगलौज की। थाने में हंगामा करने पर एसपी विजय अग्रवाल ने आरक्षक रज्जू टंडन को बर्खास्त कर दिया है।

आरक्षक ने पुलिसकर्मियों के साथ की धक्कामुक्की

आरक्षक का आरोपी भाई साहिल टंडन सैनिक कॉलोनी पामगढ़ का रहने वाला है। उसे आईपीसी की धारा 363, 366, 376 और पॉक्सो एक्ट की धारा 4 के तहत गिरफ्तार किया गया था। आरक्षक रज्जू टंडन रात करीब 11.30 बजे थाने पहुंचा। जब उसने अपने भाई साहिल टंडन को लॉकअप में देखा, तब वो उसे खोलने का प्रयास करने लगा। इस दौरान ड्यूटी पर तैनात प्रधान आरक्षक राजेश कोसले, आरक्षक भुनेश्वर साहू, आरक्षक राजेश कश्यप, आरक्षक विजय पटेल ने उसे समझाते हुए रोकने की कोशिश की, तब उसने इन सबके साथ गालीगलौज और धक्कामुक्की की।

आरक्षक रज्जू टंडन।
आरक्षक रज्जू टंडन।

अनुशासनहीनता पर कार्रवाई

आरक्षक रज्जू टंडन थाना प्रभारी के समझाने के बावजूद हंगामा करता रहा। इस बीच जब थाना प्रभारी ने स्टाफ को उसका मुलाहिजा कराने का निर्देश दिया, तब वह मौके से फरार हो गया। आरक्षक रज्जू टंडन की अनुशासनहीनता की शिकायत थाना प्रभारी ने तत्काल एसपी विजय अग्रवाल से की। इस मामले की जांच की जिम्मेदारी एसपी विजय अग्रवाल ने डीएसपी संदीप मित्तल को दी।

आरक्षक को एसपी ने किया बर्खास्त

जांच के दौरान पाया गया कि आरक्षक रज्जू टंडन ने आरोपी को बचाने और पुलिस जवानों के साथ जो गालीगलौज और अभद्रता की, वो गंभीर अनुशासनहीनता और अपराध है। पुलिस का मुख्य काम अपराध और अपराधियों पर नियंत्रण रखकर लोगों को सुरक्षित रखना है। साथ ही पुलिस को अपनी ड्यूटी के प्रति निष्ठावान होना जरूरी है। जांच रिपोर्ट के बाद आरक्षक रज्जू टंडन को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है।

आरक्षक का भाई नाबालिग लड़की का अपहरण कर हो गया था फरार

बर्खास्त आरक्षक रज्जू टंडन का छोटा भाई साहिल टंडन जुलाई में 13 साल की नाबालिग लड़की का अपहरण कर फरार हो गया था। लड़की के परिजनों की शिकायत पर पामगढ़ थाने में आरोपी साहिल टंडन के खिलाफ दुष्कर्म सहित पॉक्सो एक्ट की धाराओं के तहत अपराध पंजीबद्ध कर उसे 4 अगस्त को कुटरा गांव से गिरफ्तार किया गया था। 5 अगस्त को उसे कोर्ट में पेश किया गया, जहां से आरोपी को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया।

खबरें और भी हैं...