पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अब मिला रिफंड:नीट यूजी छात्रों की पंजीयन फीस उनके खातों में पहुंची

जांजगीर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पिछले साल नीट यूजी यानी एमबीबीएस में एडमिशन की काउंसिलिंग के लिए जमा पंजीयन शुल्क आखिरकार छात्रों को वापस कर दी गई है। करीब चार महीने बाद 1709 छात्रों के खातों 7 करोड़ रुपए जमा कराए गए हैं। शुल्क वापस लेने के लिए छात्र डीएमई कार्यालय व बैंक के चक्कर लगा रहे थे। भास्कर ने भी इस परेशानी को प्रमुखता के साथ प्रकाशित किया था। छात्रों से पंजीयन फीस के तौर पर 5 हजार, 10 हजार और 1 लाख तक जमा कराए गए थे। इससे रकम वापस मिलने से छात्रों ने राहत की सांस ली है।

सत्र 2021-22 में एडमिशन के लिए काउंसिलिंग चिप्स ने कराई थी। इसलिए ऑनलाइन पंजीयन करने वाले छात्रों की सूची भी चिप्स के पास थी। चिप्स ने पंजीयन शुल्क रिफंड के लिए डीएमई कार्यालय को लिस्ट भेजी थी, लेकिन यह सत्यापित नहीं थी। इस पर डीएमई कार्यालय ने चिप्स को सत्यापित सूची भेजने कहा। 27 जून को चिप्स ने सत्यापित सूची भेजी। इसके बाद डीएमई कार्यालय ने 5 जुलाई को बैंक मैनेजर को छात्रों को सूची भेजते हुए राशि रिफंड करने कहा था। एक माह तक बैंक छात्रों को राशि रिफंड नहीं कर पाया। छात्रों और उनके अभिभावकों ने लगातार बैंक प्रबंधन पर दबाव बनाया इसके बाद ही रकम वापस की गई है।

खबरें और भी हैं...