पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्यवाही शून्य:खेती के काम में तेजी लेकिन खाद संकट

राजिम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खेती में जुताई के साथ ही अब बोआई भी शुरू हो गई है। - Money Bhaskar
खेती में जुताई के साथ ही अब बोआई भी शुरू हो गई है।

अंचल में झमाझम बारिश होते ही किसान खरीफ फसल बरसात में धान बोआई की तैयारी में जुट गए हैं। खेतों की जुताई लघु किसान नागर और बड़े किसान ट्रैक्टरों से कर रहे है। यह काम पूरे राजिम क्षेत्र में तेजी से चल रहा है। राजिम क्षेत्र में तकरीबन 90 हजार एकड़ में धान की फसल बोया जाता हैं।

इधर सरकारी खाद खरीदी केंद्रों में खादों में डीएपी ,यूरिया और स्वर्णा धान की शार्टेजी के चलते किसानों को दर-दर भटकना पड़ रहा है। इसका फायदा व्यापारी खुलेआम उठा रहे हैं। इसके पूर्व भी ग्रीष्मकालीन रवि फसल के समय भी डीएपी की शार्टेजी थी। इसका फायदा जमकर व्यापारियों ने उठाया था। और हुआ यह कि सरकारी रेट से 3 गुने दामो पर डीएपी को बेचा था। गरियाबंद जिले में छापामार कार्रवाई नहीं की जा रही है।

रायपुर जिले में कार्रवाई, गरियाबंद जिले में नहीं

रायपुर जिले में व्यापारियों के गोदामों में छापामार कार्यवाही जिला प्रशासन द्वारा किया जा रहा है ।लेकिन गरियाबंद जिला में फिलहाल कार्यवाही शून्य हैं। बैल नांगर से प्रतिदिन 05 सौ रुपए में की दर से जुताई कर रहे है। बैल नागर नहीं मिलने से ट्रैक्टर का भी उपयोग किसान कर रहे हैं। इससे जुताई जल्दी और समय पर हो जाए। ट्रैक्टर प्रति घंटा 900 से लेकर एक हजार रुपए तक ले रहे हैं।

खबरें और भी हैं...