पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59005.270.88 %
  • NIFTY175620.95 %
  • GOLD(MCX 10 GM)463320.4 %
  • SILVER(MCX 1 KG)602350.53 %

छलका खूंटाघाट डैम:जिले में अच्छी बारिश की वजह से खारंग जलाशय लबालब, सुरक्षा के मद्देनजर लोगों की आवाजाही पर लगी रोक

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अब तक की बारिश में खूटाघाट डैम 101% फ़ीसदी तक भर चुका है - Money Bhaskar
अब तक की बारिश में खूटाघाट डैम 101% फ़ीसदी तक भर चुका है

बिलासपुर जिले में पिछले कुछ दिनों से हुई अच्छी बारिश की वजह से खूंटाघाट डैम (खारंग जलाशय) लबालब भर चुका है। इस साल अच्छी बारिश होने के कारण जुलाई महीने में ही रतनपुर के पास स्थित अंचल के सबसे बड़े पर्यटन केंद्र खूंटाघाट बांध का वेस्ट वियर छलकने लगा है। लगातार यह दूसरा साल है, जब वेस्ट वियर रपटा से जुलाई के अंतिम दिनों में ही पानी का बहाव शुरू हो गया। इधर वेस्ट वियर को लेकर पर्यटकों में भी खासा उत्साह है। हालांकि पिछले साल की घटना से सीख लेते हुए इस प्रशासन ने साल जलाशय के पास सैलानियों के जाने पर रोक लगा दी है।

अधिक बारिश की वजह से रतनपुर के आसपास के प्राकृतिक झरने भी बहने लगे हैं।
अधिक बारिश की वजह से रतनपुर के आसपास के प्राकृतिक झरने भी बहने लगे हैं।

101 फ़ीसदी भरा डैम

वर्तमान में इस बांध में 193.32 मिलियन घन मीटर यानी 101 फीसदी पानी है। अब तक बांध के कैचमेंट एरिया में 615 मिलीमीटर बारिश हुई है। लगातार हो रही वर्षा से अंचल के सभी नदी नाले उफान पर है। इसके चलते बांध के पानी के स्तर में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। इसके चलते रपटा के पानी के बहाव का स्तर भी लगातार बढ़ने की संभावना जताई जा रही है ।

208 गांव के खेतों में होती है बांध के पानी से सिंचाई

खुंटाघाट बांध के पानी से बिलासपुर व जांजगीर जिले के 208 गांवों के एक लाख 25 हजार हेक्टेयर खेतीहर जमीन सिंचित होती है। 369 किलोमीटर लंबी मुख्य नहर से बेलतरा, बिलासपुर व मस्तूरी विधानसभा क्षेत्र के हजारों किसानों के खेतों तक सिंचाई के लिए बांध का पानी पहुंचता है।

सुरक्षा के मद्देनजर सैलानियों के जाने पर प्रशासन ने लगाई रोक

जल संसाधन विभाग के कार्यपालन अभियंता आर.पी. शुक्ला ने कहा, बिलासपुर जिले के पिछले दिनों हुई अच्छी बारिश की वजह से खारंग जलाशय पूरा भर चुका है। हर साल की तरह इस साल भी कई सैलानी इसे देखने के लिए पहुंच रहे है। लेकिन सुरक्षा के मद्देनजर हमने उनके जलाशय के पास जाने पर रोक लगा दी है। उन्होंने कहा पिछले साल बारिश के समय एक ग्रामीण जलाशय में फंस गया था, जिसे बाद में सेना के हेलीकॉप्टर से रेस्क्यू कर निकला गया था। उस घटना के बाद से बारिश के दिनों में वहां लोगों की आवाजाही पर रोक लगा दी जाती है। हमने कुछ गार्ड्स को भी जलाशय के पास नियुक्त इसके लिए किया है।

खबरें और भी हैं...