पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59005.270.88 %
  • NIFTY175620.95 %
  • GOLD(MCX 10 GM)463320.4 %
  • SILVER(MCX 1 KG)602350.53 %

17 अगस्त को अगली सुनवाई:अरपा में अवैध उत्खनन, हाईकोर्ट ने दो ठेकेदारों से मांगा जवाब

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अवैध उत्खनन पर नहीं लग पा रही रोक। - Money Bhaskar
अवैध उत्खनन पर नहीं लग पा रही रोक।
  • जनहित याचिका में गंदगी को हटाने और रेत उत्खनन नीति को चुनौती दी गई है

अरपा में जलकुंभी, गंदगी की सफाई और अवैध उत्खनन के मुद्दे पर गुरुवार को हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान राज्य शासन और नगर निगम बिलासपुर ने स्टेटस रिपोर्ट प्रस्तुत किया। हालांकि तकनीकी कारणों से सुनवाई नहीं हो सकी। लेकिन कोर्ट ने निगम क्षेत्र में रेत का उत्खनन करने वाले दो ठेकेदारों को भी पक्षकार बनाया है।

साथ ही दोनों ठेकेदारों को जवाब के लिए समय दिया है। मामले की सुनवाई कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश प्रशांत कुमार मिश्रा और न्यायाधीश रजनी दुबे की युगलपीठ में हुई। अरपा अर्पण महा अभियान समिति ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की है। इसमें अरपा में हो रहे अवैध उत्खनन को रोक लगाने और जमी गंदगी व जलकुंभी की सफाई करवाने की मांग की है। साथ ही खनन नीति को लेकर भी जनहित याचिका दायर हुई है।

सुनवाई के दौरान अरपा अर्पण के अधिवक्ता ने कोर्ट को बताया कि बेतरतीब खुदाई से नदी को नुकसान पहुंच रहा है। उसका इको सिस्टम चौपट होने से नदी सूख रही है। मामले की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने नगर निगम बिलासपुर और राज्य शासन को स्टेटस रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए थे। अगली सुनवाई के लिए 17 अगस्त को निर्धारित करते हुए कोर्ट ने निगम क्षेत्र में लीज लेकर उत्खनन करने वाले ठेकेदार बबलू जोशी और विजय कुमार को पक्षकार बनाने का निर्देश दिया है।

उत्खनन से भूजल स्तर गिर रहा, पानी नहीं रुक पा रहा
याचिका में रेत उत्खनन को शहरी क्षेत्र में रोक लगाने की मांग की गई है। इसमें तर्क दिया गया है कि शहर का भूजल स्तर गिर रहा है। लोग पानी के लिए परेशान हो रहे हैं। रेत उत्खनन से नदी का पानी को अवशोषित कर रखने की क्षमता खत्म हो रही है। नदी में गाद जमा होने से उसका स्पंजी खत्म हो रहा है।

नाले-नालियों के पानी को उपचारित कर नदी में छोड़ें
नाले नालियों से निकल रहे शहर के गंदे पानी को अभी अरपा में सीधे छोड़ा जा रहा है। इससे नदी में जलकुंभी बढ़ रही है। इसलिए गंदे पानी को जल उपचार संयंत्र में उपचारित कराकर ही नदी में छोड़ा जाए। संयंत्र पहले से बिलासपुर में लग चुका है, बस व्यवस्था ठीक होने से इस समस्या का निदान हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...