पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60821.62-0.17 %
  • NIFTY18114.9-0.35 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476040.47 %
  • SILVER(MCX 1 KG)650340.55 %

कोविड काल:स्कूल तो खुले पर गिनती के बच्चे ही आ रहे

राजनांदगांवएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पढ़ाई से भी पीछे हट रहे, भूल गए हैं पढ़ना-लिखना, लंबे समय से स्कूल से दूर रहे बच्चे

कोविड काल में लंबे समय से स्कूल से दूर रहने की वजह से बच्चों की मनोस्थिति में काफी बदलाव आया है। स्कूल खुलने के बाद अब स्थिति सामने आ रही है। राज्य शासन ने सभी क्लासेस संचालित करने के निर्देश दिए हैं। स्कूल तो खुल गए हैं पर गिनती के बच्चे ही स्कूल आ रहे हैं। प्राथमिक स्तर के जो बच्चे स्कूल अा भी रहे हैं तो वे पढ़ना-लिखना तक भूल गए हैं। पहाड़ा पढ़ते समय अटक जा रहे हैं।

इसलिए शिक्षकों को पढ़ाई कराने में पहले से कहीं ज्यादा दिक्कत आ रही है। शिक्षकों ने बताया कि जो बच्चे ऑनलाइन क्लासेस से जुड़े रहे, उन्हें पढ़ाई में तकलीफ नहीं हो रही है पर उन बच्चों की परेशानी बढ़ गई है जो कोविड काल के दौरान पूरी तरह पढ़ाई से दूर रहे हैं। इसलिए शिक्षकों को नई चुनौती के साथ ही क्लासेस लेनी पड़ रही है। कई शिक्षकों ने तो ऑनलाइन क्लासेस को जारी रखा है ताकि छुट्‌टी के दिन भी बच्चे पढ़ाई से जुड़े रहें हैं। इससे बच्चों की मनोस्थिति में सुधार आएगा।

प्रोटोकॉल का पालन
कोविड काल के दौरान जिन बच्चों को सूखा राशन नहीं मिल पाया था, उनके परिजनों के खाते में रकम डाली जाएगी। डीईओ एचआर सोम ने बताया कि सभी क्लासेस ली जा रही है। स्कूलों में प्रोटोकॉल का पालन भी कराया जा रहा है। डीईओ ने बताया कि शिक्षकों को निर्देशित किया गया है कि वे रुचिकर तरीके से पढ़ाई कराएं ताकि बच्चों की मनोस्थिति में सुधार आए और रुचि बढ़े।

पालकों को दे रहे बच्चों को स्कूल भेजने की समझाइश
स्कूल खुलने के बाद भी दर्ज संख्या के हिसाब से सभी बच्चे स्कूल नहीं आ रहे हैं। इसलिए शिक्षक पालकों को समझाइश दे रहे हैं कि बच्चों को स्कूल भेजें। बताया कि मध्याह्न भोजन भी शुरू कर दिया गया है ताकि बच्चों को भोजन के लिए दोपहर में घर न जाना पड़े।

खबरें और भी हैं...