पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60821.62-0.17 %
  • NIFTY18114.9-0.35 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476040.47 %
  • SILVER(MCX 1 KG)650340.55 %

अव्यवस्था:शहर में 72.22 लाख रुपए खर्च कर लगाए 59 सीसीटीवी कैमरे पर 85 फीसदी बंद

दुर्गएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पोल पर लगा सीसीटीवी कैमरा हुआ खराब। - Money Bhaskar
पोल पर लगा सीसीटीवी कैमरा हुआ खराब।
  • सीसीटीवी कैमरे खराब होने की वजह से असामाजिक तत्वों का बढ़ा हौंसला, लोगों में डर भी

लोगों की जानमाल की सुरक्षा को लेकर दुर्ग निगम के 12 संवदेनशील वार्डों में 59 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए। तीन साल पहले लगाए गए इन कैमरों में 85 फीसदी सीसीटीवी कैमरे बंद हैं। इन कैमरों को बनवाने के लिए पार्षदों ने लगातार निगम प्रशासन से मांग की। उसके बाद भी ये सुधारे नहीं गए। सामान्य सभा में यह मुद्दा गर्माया और उसके बाद पार्षदों को यह भरोसा दिलाया गया कि इसके लिए मेंटनेंस मद की व्यवस्था की जाएगी।

सामान्य सभा हुए दो महीने हो चुके हैं। सीसीटीवी अब भी बंद हैं। खास बात यह है कि सुरक्षा लिहाज से लगाए गए इन कैमरों का न मेंटेनेंस हुआ, न ही प्रशासन ने गंभीरता दिखाई। यहां तक पहले दिन से ही कैमरों से मॉनिटरिंग नहीं हुई। कैमरे बंद होने की वजह से स्पॉट पर होने वाली असामाजिक घटनाओं के फुटेज नहीं मिल पा रहे हैं, जिसके चलते अपराधी तत्व बेखौफ होकर वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। बहरहाल सामान्य सभा में ये मुद्दा विषक्षी पार्षदों ने उठाया है।

जानिए कहां लगे हैं सीसीटीवी कैमरे
दुर्ग निगम के वार्ड 1, 3, 4, 6, 9, 10, 17, 21, 23 32 और 42 की गलियों में कुल 59 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। पार्षद निधि के 4-4 लाख रुपए से सीसीटीवी कैमरे की खरीदे गए हैं।

सामान्य सभा में मुद्दा उठा पर जांच नहीं हुई
कोरोना की वजह से पिछले साल निगम सामान्य सभा बैठक नहीं हुई। इस साल 5 अगस्त को सामान्य सभा की बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में प्रभावित वार्डों के पार्षदों ने यह मुद्दा भी उठाया था। जब पार्षद निधि को खर्च करने की बात आई तो निगम प्रशासन के समक्ष कैमरों के मेंटनेंस को लेकर मद बनाने कहा गया था। लेकिन दो साल से इसे टाला जा रहा है। कंपनी ने एक साल का मेंटेनेंस की गारंटी दी थी। गारंटी 2 साल पहले खत्म हो चुकी है।

इस तरह शहर में बंद पड़े हैं सीसीटीवी कैमरे
केस-1: मठपारा वार्ड दक्षिण के गलियों में 24 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। इनमें से 3 सीसीसीटीवी कैमरा ही चालू हालत में है। बाकी 21 कैमरे बंद हैं। इस वार्ड के गलियों के मुख्य प्रवेश स्थान के पोल में ये कैमरे लगाए गए हैं।
केस-2: वार्ड क्रमांक 9 और 10 के बीच 22 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। वर्तमान में यहां एक भी कैमरा चालू हाल में नहीं हैं। कैमरे पोल की शोभा बढ़ा रहे हैं। यहां कैमरे बंद होने की वजह से असामाजिक गतिविधियां बढ़ गई है।
केस-3: गयानगर वार्ड में 23 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। जिसमें से 8 ही चालू हैं। 15 सीसीटीवी कैमरे बंद पड़े हुए हैं। सड़क क्रमांक 3, 14, 10,21, 43 संवेदनशील हैं। यहां कैमरे बंद होने से लोगों यहां चोरी की घटनाएं होने लगी हैं।

बंद कैमरे की वजह से असामाजिक गतिविधियां
पार्षद व नेता प्रतिपक्ष अजय वर्मा, पार्षद अरुण सिंह, पार्षद नरेन्द्र बंजारे, पार्षद लीना देवांगन, पार्षद चंद्रशेखर चंद्राकर, पार्षद देवनारायण चंद्राकर, पार्षद मीना सिंह आदि ने बताया कि संवदेनशील वार्ड होने की वजह से लोगों की जानमाल की सुरक्षा को देखते हुए वार्डो में सीसीटीवी कैमरे लगवाए गए। कैमरे बंद होने की वजह से असमाजिक गतिविधियां बढ़ रही है। रात असामाजिक तत्वों का जमावड़ा होता है। घरों में चोरी की घटनाएं भी होने लगी है। जुआ खेलने और कहीं भी शराब पीना आम बात सी हो गई है।

मेंटेनेंस कराए जाने को लेकर इस पर चर्चा हो रही
सीसीटीवी कैमरे के मेंटेनेंस मद को लेकर पार्षदों की मांग है। मद स्थापना के लिए विचार चल रहा है। फंड मिलते ही सभी सीसी टीवी कैमरों का मेंटेनेंस कराया जाएगा।
-हरेश मंडावी, आयुक्त नगर निगम दुर्ग

खबरें और भी हैं...