पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शुल्क निर्धारित:लोक सेवा केंद्र, पोस्ट ऑफिस, सीएससी, एसबीआई बैंक शाखा में पहुंचकर करवा सकते हैं सत्यापन व अपडेट

बालोद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लोक सेवा केंद्र में आधार कार्ड का सत्यापन व अपडेट करवा सकते हैं। - Money Bhaskar
लोक सेवा केंद्र में आधार कार्ड का सत्यापन व अपडेट करवा सकते हैं।
  • आधार कार्ड का दस्तावेज सत्यापन कराने देना पड़ेगा ~50 चार्ज

जिले में 2010 के बाद 2016 तक जिन लोगों ने आधार कार्ड बनवाया है। उन्हें 50 रुपए चार्ज देकर दस्तावेज सत्यापन कराना पड़ेगा। आधार कार्ड सत्यापन के लिए केंद्र शासन से शुल्क निर्धारित की गई है। जिसके बाद स्थानीय स्तर पर सूचना दी जा रही है। वहीं अपडेट कराना भी जरूरी है।फ्री में बने आधार कार्ड का दस्तावेज सत्यापन कराने 50 रुपए और अपडेट कराने 100 रुपए चार्ज देना पड़ेगा।

इस संबंध में यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (यूआईडीएआई) ने आदेश जारी कर 10 साल पहले बने आधार कार्ड को अपडेट करने के निर्देश दिए हैं। जिसके बाद जिले के लोक सेवा केंद्रों, सीएससी(कॉमन सर्विस सेंटर), एसबीआई बैंक शाखा में पहुंचने वाले लोगों को ऑपरेटर सूचना दे रहे है कि जल्द आधार कार्ड को अपडेट कराओ। एसबीआई के आधार सेवा केंद्र में बायोमैट्रिक अपडेट कराने के लिए 100 रुपए चार्ज लगेगा।

ऑनलाइन भी अपडेट करवाने की सुविधा दी गई है। वर्तमान में पोस्ट ऑफिस, लोक सेवा केंद्र, सीएससी एवं बैंक की ओर से स्थापित आधार सेवा केन्द्रों पर आधार अपडेशन किया जा रहा है। केंद्र सरकार ने आधार को लेकर नियमों में संशोधन किया है। जिसके मुताबिक आधार कार्ड बनवाने के 10 साल पूरे होने पर इसमें नाम, पता और बायोमैट्रिक पहचान अपडेट करवाना अनिवार्य है। बच्चों के चेहरे की आकृति हर पांच साल में बदल जाती है। इसलिए उनके आधार कार्ड में उनका फोटो भी अपडेट करना जरूरी होता है। आधार केंद्र पर बायोमैट्रिक अपडेट करने से काम हो जाता है। 70 साल से अधिक आयु के लोगों को आधार कार्ड अपडेट कराना जरूरी नहीं है।

अपडेट नहीं कराने पर योजनाओं से होंगे वंचित
आधार कार्ड अपडेट न होने पर राशन, पेंशन जैसी अन्य जरूरी सुविधाएं में दिक्कतें हो सकती हैं। यही नहीं, जिन लोगों ने 5 साल से आधार नंबर का कोई इस्तेमाल नहीं किया है, उनका आधार नंबर अनुपयोगी हो सकता है। इस स्थिति में आधार नंबर किसी भी सुविधा से लिंक नहीं हो पाएगा। आधारकार्ड धारक न तो नया सिम खरीद पाएंगे और न ही अन्य प्लेटफॉर्म पर ओटीपी वेरिफिकेशन कर पाएंगे। जनवरी 2009 में केंद्र ने भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण का गठन कर सितंबर 2010 में कार्ड बनाने का काम शुरू हुआ था।

सुविधा: ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों विकल्प
आधार कार्ड को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से अपडेट करा सकते हैं। पोर्टल के जरिए इसे ऑनलाइन अपडेट किया जा सकता है। हालांकि यहां सिर्फ दस्तावेज के आधार पर सीमित अपडेट ही संभव हैं। जबकि आधार केंद्रों में फिंगर प्रिंट, फोटो और रेटिना स्कैन अपडेट होगा। वयस्क का आधार हर 10 साल और बच्चों का हर 5, 10 और 15 साल में अपडेट करना होता है। 5 साल तक के बच्चों के फिंगर प्रिंट स्कैन नहीं होते हैं। उसके बाद उनका आधार एक्टिव बनाए रखने के लिए बायोमैट्रिक डाटा अपडेट करवाना जरूरी होता है।

खबरें और भी हैं...