पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राहत:आरटीओ पाकुरभाट का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा, केंद्र खुलने से लोगों को अतिरिक्त पैसा नहीं देना पड़ेगा, 12 परिवहन सुविधा केंद्र खुलेंगे

बालोद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में 12 परिवहन सुविधा केंद्र खोलने की तैयारी है। जहां 210 रुपए चार्ज देकर लर्निंग लाइसेंस बनवा सकेंगे। आरटीओ पाकुरभाट का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा, जहां काम देरी से होता है। सुविधा केंद्र खुलने से लोगों को अतिरिक्त पैसा देकर दलालों से काम करवाने की नौबत नहीं आएगी। हालांकि कहां-कहां कब से केंद्र खुलेंगे, इस संबंध में आरटीओ प्रकाश रावटे सहित विभागीय कर्मचारी जानकारी नहीं दे रहे हैं। जनहित के मुद्दें में अमूमन मौन ही रहते हैं।

शासन स्तर से प्लानिंग बनी है कि जिले में प्राइवेट वेंडर्स के माध्यम से लर्निंग लाइसेंस बनाया जाएगा। इसके लिए जिले के 12 स्थानों पर परिवहन सुविधा केंद्र खोलने की अनुमति दी गई है। इसमें से 8 स्थान फाइनल हो चुके है। केंद्र संचालित होने के बाद रोजाना परिवहन विभाग व शासन स्तर से मॉनिटरिंग की जाएगी। लोगों से फीडबैक भी लिया जाएगा।

चार्ज के बारे में जानकारी ली जाएगी कि लर्निंग लाइसेंस बनवाने कितना चार्ज लगा। अमूमन विभागीय लेटलतीफी की वजह से लोगों को दलालों का सहारा लेना पड़ता है। लाइसेंस के लिए आवेदन करने के बाद भी कई माह तक चक्कर लगाना पड़ता है। इसी को ध्यान में रखकर लोग अतिरिक्त पैसा देकर दलाल के माध्यम से लाइसेंस बनवा लेते है।

लाइसेंस बनवाने शहर से 6 किमी दूर जाना पड़ रहा
वर्तमान में लोगों को लर्निंग लाइसेंस सहित वाहन संबंधित अन्य जरूरी दस्तावेज के लिए जिला मुख्यालय से 6 किलोमीटर दूर संचालित आरटीओ ऑफिस पर निर्भर होना पड़ रहा है। शहर में भी केंद्र खोलने की प्लानिंग है। ऐसे में लोगों को अतिरिक्त दूरी तय करने की नौबत नहीं आएगी। केंद्र संचालित करने आवेदन मंगाए गए थे। जिसके बाद स्क्रूटनी की प्रक्रिया पूरी होने के बाद योग्य पाए गए वेंडर्स को काम सौंपने की कार्यवाही स्थानीय स्तर पर चल रही है। लोग अपनी सुविधा के अनुसार लाइसेंस बनवा सकेंगे।

स्थाई लाइसेंस लेने के लिए जाना पड़ेगा मुख्य दफ्तर
लोगों को केवल स्थाई लाइसेंस लेने के लिए मुख्य कार्यालय जाना पड़ेगा। योजना से लोगों को लंबी दूरी तय करने से निजात मिलेगी। आवाजाही में खर्च होने वाले पैसे को लेकर लोगों को निजात मिलेगी। जिले में हर महीने सैकड़ों लोग लर्निंग लाइसेंस बनवाते हैं। हालांकि वास्तविक आंकड़े आरटीओ प्रकाश रावटे व विभागीय कर्मचारी बता नहीं पा रहे हैं। बहरहाल नई सुविधा मिलने से लर्निंग लाइसेंस बनवाने के लिए लोगों को कम पैसे खर्च करने पड़ेंगे। पहले दलालों को अतिरिक्त पैसे देने पड़ते थे।

ग्रामीण क्षेत्र से पहुंचने वाले लोगों को भी मिलेगी सुविधा
शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को भी सहूलियत होगी। जिन्हें पाकुरभाट जाने में कई प्रकार की परेशानियों से जूझना पड़ता है। झलमला तक बस के माध्यम से लोग पहुंचते है। इसके बाद पैदल या अन्य माध्यम से पाकुरभाट पहुंचते है। ऐसे में केंद्र खुलने का फायदा दूर दराज क्षेत्रों से आने वाले लोगों को मिलेगा। वहीं जिला मुख्यालय के अलावा ब्लॉक मुख्यालय में भी केंद्र खोलने की तैयारी है। वेंडर्स के लिए लोगों से आवेदन मंगाए गए थे। दस्तावेज जांच की प्रक्रिया पूरी कर ली गई।

खबरें और भी हैं...