पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चक्रवाती तूफान मंडौस सक्रिय:23 साल में दूसरी बार दिसंबर में तूफान का असर आज बादल और कल हल्की बारिश के हैं आसार

बालोद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गुरुवार को अधिकतम तापमान 26 डिग्री के बीच जयस्तंभ चौक के पास स्वेटर, जैकेट खरीदने पहुंचे लोग। - Money Bhaskar
गुरुवार को अधिकतम तापमान 26 डिग्री के बीच जयस्तंभ चौक के पास स्वेटर, जैकेट खरीदने पहुंचे लोग।

चक्रवाती तूफान मंडौस सक्रिय हो चुका है। पिछले 23 साल में यह स्थिति दूसरी बार बनी, जब दिसंबर में कोई चक्रवाती तूफान सक्रिय हुआ और हमारे जिले में असर पड़ा। इसके पहले 2016 में वरदाही तूफान का असर पड़ा था। जब अचानक मौसम बदला था।

इसके पहले व बाद में भी कई चक्रवात सक्रिय हुए लेकिन दिसंबर में नहीं। वैसे मौसम विभाग की मानें तो मानसून सीजन में अधिकांश तूफान का साया रहता है, इसके पहले 10 बार यह स्थिति बन चुकी है। वहीं मंडौस के असर से शुक्रवार को बादल छाए रहने व शनिवार को हल्की बारिश होने के आसार हैं।

मौसम विभाग के अनुसार 1999 से लेकर अब तक 16 चक्रवाती तूफान आ चुके हैं। मानसून में सबसे ज्यादा 10 बार यह स्थिति बन चुकी है। इस साल सितरंग के बाद मंडौस का असर पड़ रहा है। वैसे गुरुवार से असर दिखना शुरू हो गया है, सुबह से शाम तक मौसम में उतार-चढ़ाव का दौर जारी रहा। सुबह 9 बजे तक बादल छाए रहे। जिसके बाद धूप खिली। अधिकतम तापमान 26 डिग्री व न्यूनतम तापमान 11 डिग्री रहा।

बादल-बारिश के आसार इसलिए क्योंकि

मौसम विज्ञान विभाग नई दिल्ली के अनुसार चक्रवाती तूफान मंडौस 9 दिसंबर की आधी रात 70 किमी प्रतिघंटे की हवा की गति के साथ पुडुचेरी और श्रीहरिकोटा के बीच उत्तर तमिलनाडु, पुडुचेरी और आसपास के दक्षिण आंध्रप्रदेश के तट को पार करेगा।

जिसका असर जिले में भी पड़ेगा। इस दौरान बादल छाए रहेंगे। जो कभी भी बरस सकते हैं। हालांकि मौसम विभाग के अनुसार अगर हवा तेज गति से चलेगी तो बादल स्थिर नहीं रहेगा। इस स्थिति में बारिश नहीं होगी। 2009 में दिसंबर के पहले नवंबर में चक्रवाती तूफान का असर पड़ा था।

बच्चों और बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखें

स्वास्थ्य मनोवैज्ञानिक डॉ. दीप्ति धुरंधर ने बताया कि किसी न किसी कारण से मौसम रोजाना करवट ले रहा है, कभी ठंड ज्यादा लग रही है तो कभी कम, ऐसे में स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है इसलिए खानपान में विशेष सावधानी बरतें। बच्चों व बुजुर्गों का विशेष ख्याल रखें। अधिकांश समय गर्म कपड़ा पहनें, गर्म खाना खाएं, पानी को भी गर्म करके उपयोग करें। हो सकें तो काढ़ा लेते रहें। ताकि रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत रहें। इस मौसम में सर्दी, खांसी, वायरल मरीज बढ़ जाते है।

ठिठुरन की स्थिति क्योंकि उत्तर से आ रही ठंडी हवा

चक्रवाती तूफान के अलावा उत्तर दिशा से ठंडी व शुष्क हवा आ रही है। बुधवार रात से लेकर गुरुवार देर शाम तक अधिकांश समय के लिए ठंडी हवा चली। जिससे ठिठुरन की स्थिति बनी। हालांकि मौसम विभाग के अनुसार अगले 48 घंटे में दिन का पारा 2 डिग्री व रात का 5 डिग्री बढ़ने के आसार है। बावजूद इस दौरान ठंड का अहसास होगा। रायपुर के मौसम वैज्ञानिक एचपी चंद्रा, जनकराम साहू ने बताया कि फिलहाल अगले 2-3 दिन तक बादल छाए रहने व बारिश के आसार है। बादल हटते ही ठंड बढ़ेगी।

10-16 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चलेगी हवा

मौसम विभाग के अनुसार जिले में 9 से 11 दिसंबर तक 10 से 16 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से हवा चलने का अनुमान है। इस दौरान अधिकतम तापमान 28-29 डिग्री और न्यूनतम 15-16 डिग्री के आसपास रहने का अनुमान है।

खबरें और भी हैं...