पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पंजाब में बनी पहली शहीद किसान स्मारक:संगरूर में मंत्री सिंगला ने किया 'यादगार ए शहीदां' का उद्घाटन; दिल्ली आंदोलन में मरे किसानों के नाम लिखे

चंडीगढ़8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
संगरूर में बनी शहीद स्मारक के आगे बैठे मंत्री विजयेंद्र सिंगला और अन्य। - Money Bhaskar
संगरूर में बनी शहीद स्मारक के आगे बैठे मंत्री विजयेंद्र सिंगला और अन्य।

दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन के मरे किसानों की याद में संगरूर में शहीद किसान स्मारक बना दी गई है। बुधवार को पंजाब सरकार के लोक निर्माण मंत्री विजयेंद्र सिंगला ने इसका उद्घाटन किया। इस स्मारक को 'यादगार ए शहीदां' का नाम दिया गया है।

इस स्मारक पर संगरूर जिले से संबंधित उन सभी किसानों के नाम लिखे हुए हैं, जिनकी दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन में मौत हुई है। सिंगला ने कहा कि देश भर में आंदोलन में जान गंवाने वालों की याद में यह पहली यादगार है।

किसान स्मारक का उद्घाटन करते मंत्री विजयेंद्र सिंगला
किसान स्मारक का उद्घाटन करते मंत्री विजयेंद्र सिंगला

पंजाबियों ने पूरे आंदोलन की अगुवाई की
स्मारक का उद्घाटन करते हुए मंत्री सिंगला ने कहा कि किसान आंदोलन में हर वर्ग के लोगों ने हिस्सा लिया। किसान और मजदूरों के साथ दुकानदार भी आंदोलन में शामिल हुए। यह आंदोलन सच्ची पंजाबियत का प्रतिनिधित्व करता है, जहां लोग बिना किसी मकसद के एक -दूसरे के साथ जुड़े। सिंगला ने कहा कि वह पंजाबी हैं और उन्हें इस बात पर गर्व हो रहा है कि पंजाबियों ने पूरे देश की अगुवाई की। उन्होंने सबको केंद्र सरकार को थोपे जा रहे काले कानूनों के खिलाफ लामबंद किया।

सीएम भी स्मारक बनाने की बात कह चुके
इससे पहले पंजाब के CM चरणजीत चन्नी भी प्रदेश में आंदोलन में जान गंवाने वाले किसानों की याद में स्मारक बनाने की बात कह चुके हैं। उन्होंने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा जहां और जैसा कहेंगे, किसानों की यादगार बनाई जाएगी। हालांकि संयुक्त किसान मोर्चा ने हरियाणा सरकार से दिल्ली बॉर्डर पर ही मृतक किसानों की यादगार बनाने के लिए जगह की मांग कर रखी है।