पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57858.150.64 %
  • NIFTY17277.950.75 %
  • GOLD(MCX 10 GM)486870.08 %
  • SILVER(MCX 1 KG)63687-1.21 %
  • Business News
  • Local
  • Chandigarh
  • Even After The Bones Of Both The Legs Were Shattered, The Lady Constable Did Not Give Up, Said, Do Not Tell The Mother, Then The Police Informed The Brother

नोटों से भरे RBI ट्रकों में टक्कर का मामला:लेडी कॉन्स्टेबल के दोनों पैरों की हड्‌डी चकनाचूर, बोली- मां को मत बताना, कुछ दिन पहले ही पिता की मौत हुई

चंडीगढ़5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हादसे के बाद ट्रक में फंसी लेडी कॉन्स्टेबल को बाहर निकालते पुलिसकर्मी। - Money Bhaskar
हादसे के बाद ट्रक में फंसी लेडी कॉन्स्टेबल को बाहर निकालते पुलिसकर्मी।

चंडीगढ़ में सेक्टर-26 मध्य मार्ग पर सोमवार दोपहर को कैश लेकर जा रहे RBI के 2 ट्रकों की भीषण टक्कर में लेडी कॉन्स्टेबल पोपीता की दोनों पैरों की हड्‌डी चकनाचूर हो गई। इसके बावजूद लेडी कॉन्स्टेबल ने हार नहीं मानी। उसके इलाज के दौरान पीजीआई चौकी इंजार्ज चंद्रमुखी घायल के पास मौजूद थी। घायल पोपीता ने उनसे कहा कि सब कुछ ठीक हो जाएगा, मगर यह बात मेरी मां से मत बताना। कुछ दिन पहले ही मेरे पिता की मौत हुई है। यह शब्द सुनकर वहां पर मौजूद सभी लोग भावुक हो गए। इसके बाद मामले की सूचना सिर्फ घायल के भाई को दी गई। उससे भी यही कहा गया कि वह इस बात को अपनी मां से न बताए।

पैर काटने न पडे़ं.. 8 डॉक्टरों की टीम ने लगाई पूरी ताकत
बता दें कि इस हादसे के बाद लेडी कॉन्स्टेबल के दोनों पैर बुरी तरह से चोटिल हुए हैं। पैर को काटने की नौबत न आए, इसके लिए पीजीआई में 8 डॉक्टरों की टीम द्वारा पूरी रात सर्जरी जारी रखी गई। हड्डी रोग विशेषज्ञ और पीजीआई के ट्रॉमा सेंटर के इंचार्ज प्रो. समीर अग्रवाल ने बताया कि कॉन्स्टेबल के घुटने के नीचे की हड्डी क्रैश हो गई हैं। खून का रिसाव भी ज्यादा हो चुका है। पैरों में घाव हुए हैं।

पीजीआई के डॉ. हिमांशु के नेतृत्व में 8 डॉक्टर्स की टीम उसके इलाज में जुटी हुई हैं। जो हड्डियां क्रैश हुई हैं, उन्हें टेंपरेरी तौर पर शिकंजा लगाया जा रहा है। करीब 4 घंटे सर्जरी चली है। लेडी कॉन्स्टेबल की किडनी पर भी हादसे का असर पड़ा है। अगर इंफेक्शन नहीं हुआ और सबकुछ ठीक-ठाक रहा तो पैर काटने की नौबत नहीं आएगी। डॉक्टर अग्रवाल ने बताया कि अगर दौ-तीन दिन इंफेक्शन नहीं हुआ तो रॉड डालकर हड्डियों को फिक्स करेंगे। इसके कुछ दिन बाद उसके पैरों की प्लास्टिक सर्जरी की जाएगी।

घायल महिला पुलिसकर्मी की फाइल फोटो
घायल महिला पुलिसकर्मी की फाइल फोटो

क्या है पूरा मामला
चंडीगढ़ में सेक्टर-26 मध्य मार्ग पर सोमवार दोपहर को 2 ट्रकों की भीषण टक्कर हो गई थी। दोनों ट्रक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के थे और रेलवे स्टेशन से सेक्टर-17 की मुख्य ब्रांच में कैश जमा कराने जा रहे थे। इस हादसे लेडी कॉन्स्टेबल पोपीता की दोनों पैरों की हड्‌डी चकनाचूर हो गई थी। दोनों ट्रक कैश जमा करवाने के लिए आगे-पीछे चल रहे थे। इस दौरान आगे वाले ट्रक चालक ने अचानक ब्रेक लगा दी और पीछे वाला ट्रक उससे जा टकराया।

टक्कर इतनी जोरदार थी की पिछला ट्रक बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया और उसमें बैठी महिला कॉन्स्टेबल बीच में फंस गई थी। जिसे कई घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद क्रेन की मदद से बाहर निकाला गया था। महिला कॉन्स्टेबल को पीजीआइ में भर्ती करवाया गया है। हादसे के बाद तीसरे ट्रक के चालक राम सिंह कि शिकायत पर पुलिस ने दुर्घटनाग्रस्त दोनों ट्रकों के चालक गुरभेद और तेजिंदर के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

महिला कॉन्सटेबल को ट्रक से बाहर निकालते पुलिसकर्मी।
महिला कॉन्सटेबल को ट्रक से बाहर निकालते पुलिसकर्मी।

रेलवे स्टेशन से कैश लेकर लौट रहे थे 5 ट्रक
आरबीआई से 5 ट्रक सोमवार को रेलवे स्टेशन से कैश लेकर सेक्टर-17 स्थित आरबीआई की मुख्य ब्रांच के लिए निकले थे। सभी ट्रक कैश से भरे थे।दरअसल, सभी ट्रकों की सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस लाइन की प्रोटेक्शन फोर्स पर रहती है। घायल महिला कॉन्सटेबल की ड्यूटी इस समय पुलिस लाइन है और इसी वजह से उसे ट्रक की सुरक्षा में तैनात किया गया था।

टक्कर से क्षतिग्रस्त हुआ RBI का ट्रक और उसमें फंसी महिला कॉन्स्टेबल।
टक्कर से क्षतिग्रस्त हुआ RBI का ट्रक और उसमें फंसी महिला कॉन्स्टेबल।
खबरें और भी हैं...