पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

PUCSC प्रेसिडेंट आयुष के एडमिशन पर बवाल:ABVP और NSUI कार्यकर्ताओं का UILS के गेट पर धरना; जांच की मांग

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ABVP और NSUI कार्यकर्ता पंजाब यूनिवर्सिटी के UILS गेट पर प्रदर्शन करते हुए।

चंडीगढ़ स्थित पंजाब यूनिवर्सिटी कैंपस स्टूडेंट्स काउंसिल(PUCSC) के प्रेसिडेंट आयुष खटकड़ के एडमिशन पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। आज BJP की स्टूडेंट पार्टी ABVP और कांग्रेस की स्टूडेंट पार्टी NSUI ने सांझे रूप से यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ लीगल स्टडीज के गेट पर (UILS) के गेट पर विरोध प्रदर्शन किया। आयुष के एडमिशन में गड़बड़ी के आरोप लगाते हुए स्टूडेंट पार्टियां UILS की चेयरपर्सन के इस्तीफे तक की मांग कर रहे हैं।

आरोप लगाया गया कि आयुष का एडमिशन UILS ने 2 बार दिखाया है। वहीं डॉक्यूमेंट में उनका एडमिशन 17 अक्तूबर वाला चल रहा है। जबकि 12 अक्तूबर को स्टूडेंट्स काउंसिल के नॉमिनेशन फाइल हुए थे। ऐसे में आयुष स्टूडेंट्स काउंसिल के चुनावों के लिए योग्य ही नहीं थे।

कहा गया है कि कैटेगरी की सीटों को डी-रिजर्व भी नहीं किया गया था। जानकारी के मुताबिक UILS में आयुष का एडमिशन एडवोकेट कोटा में हुआ है। कहा गया है कि आयुष का एडमिशन जनरल कैटेगरी में हुआ है जबकि SC कोटे की सीटों को डी-रिजर्व बाद में किया गया था। वहीं दूसरी ओर UILS विभाग को कहना है कि पहले आयुष का एडमिशन एडवोकेट कोटे में हुआ था। वहीं बाद में सीट खाली होने पर फ्रेश लॉ ग्रेजुएट में आया। ऐसे में दोनों लिस्ट में उनका नाम दिख रहा है।

पिछले महीने हुए पंजाब यूनिवर्सिटी कैंपस स्टूडेंट्स काउंसिल चुनावों में आयुष खटकड़ प्रेसिडेंट बने थे।
पिछले महीने हुए पंजाब यूनिवर्सिटी कैंपस स्टूडेंट्स काउंसिल चुनावों में आयुष खटकड़ प्रेसिडेंट बने थे।

AAP और यूनिवर्सिटी प्रशासन की मिलीभगत बताई
ABVP नेता हरीश गुज्जर ने आरोप लगाया कि यह यूनिवर्सिटी प्रशासन, UILS चेयरपर्सन और आम आदमी पार्टी(AAP) की मिलीभगत है। यूनिवर्सिटी में फर्जी एडमिशन का आरोप लगाया गया है। आरोप लगाया गया कि आयुष का फर्जी एडमिशन करवा कर उसे चुनाव लड़वाया गया। मांग की गई कि इस एडमिशन की जांच हो और फिर से काउंसलिंग की जाए। इसके अलावा चेयरपर्सन को अपनी कुर्सी से इस्तीफा देना चाहिए। वहीं गलत तरीके से एडमिशन के बाद प्रेसिडेंट बने आयुष खटकड़ को अपनी कुर्सी से इस्तीफा देना चाहिए।

वहीं NSUI नेता ने कहा कि UILS में पहले 7 तारीख को एडमिशन हुआ था और उसके बाद 17 तारीख को एडमिशन हुआ। अगर 7 तारीख को आयुष खटकड़ का एडमिशन हो गया था तो 17 तारीख को एडमिशन की क्या जरूरत पड़ी थी। अब आयुष की 17 तारीख वाली एडमिशन चल रही है। वहीं स्टूडेंट चुनावों को लेकर नॉमिनेशन 12 तारीख को हुई थी।

बता दें कि AAP की स्टूडेंट पार्टी छात्र युवा संघर्ष समिति पहली बार पंजाब यूनिवर्सिटी में स्टूडेंट्स काउंसिल के चुनावों में खड़ी हुई थी। सिर्फ प्रेसिडेंट की पोस्ट के लिए इसने चुनाव लड़ा और जीत हासिल की।