पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हरियाणा में वैक्सीन लगवाओ तो स्कूल आओ:16,815 गुरुजी ने लगवाई ही नहीं; 5.20 लाख बच्चों को भी लगनी बाकी है; सरकार लगा रही विशेष कैंप

चंडीगढ़7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाण के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने घोषणा की है कि स्कूल खुलने पर उन बच्चों को प्रवेश करने नहीं दिया जाएगा, जिन्होंने कोरोना वैक्सीन नहीं लगवाई। परंतु दिलचस्प बात यह है कि इन बच्चों को पढ़ाने वाले शिक्षकों ने भी वैक्सीन की डोज नहीं लगवाई। ऐसे में क्या सरकार हरियाणा के 16,815 शिक्षकों पर कोई कार्रवाई करेगी, जिन्होंने दोनों डोज ही नहीं लगवाई। हालांकि सरकार ने शिक्षकों को भी डोज लगवाना अनिवार्य किया है, लेकिन सरकार ने अभी तक कोई आदेश जारी नहीं किया कि जिसमें गुरुजी के बिना डोज लगवाए स्कूल में आने पर प्रतिबंध हो। प्रदेश में 14,160 स्कूलों में 1,04,162 शिक्षक कार्यरत हैं। करीब 16,167 टीचर हैं, जिन्होंने एक ही डोज लगवाई है। दोनों डोज लगवाने वाले 71,180 टीचर हैं।

90 प्रतिशत वैक्सीन लगवाने वाले जिले

हरियाणा का कोई ऐसा जिला नहीं, जिसमें सरकारी स्कूल के पूरे स्टाफ ने वैक्सीन की डोज लगवा ली हो। परंतु कई जिले ऐसे हैं, जिनमें स्कूलों में 90 प्रतिशत से ज्यादा वैक्सीन लग गई। इन जिलों में यमुनानगर, रेवाड़ी, करनाल, झज्जर, गुरुग्राम जिले हैं। सबसे ज्यादा वैक्सीन झज्जर में लगी है। जबकि 80 प्रतिशत से ज्यादा वाले जिलों में पानीपत, पंचकूला, पलवल, महेंद्रगढ़, कुरुक्षेत्र, कैथल, जींद, फतेहाबाद, फरीदाबाद,चरखीदादरी और अंबाला हैं।

स्कूलों में वैक्सीनेशन टीचर का डाटा
स्कूलों में वैक्सीनेशन टीचर का डाटा

2 लाख 37 हजार 555 बच्चों ने लगवाई डोज

प्रदेश के सरकारी स्कूलों में 7 लाख 56 हजार 797 स्कूली बच्चे हैं। इनमें से 2 लाख 37 हजार 555 बच्चों ने पहली डोज लगवा ली है। बाकी बच्चे अभी शेष हैं। इन बच्चों को स्कूल खुलने से पहले वैक्सीनेशन करवानी होगी। फिलहाल कोरोना के चलते स्कूल 26 जनवरी तक बंद हैं।

कोरोना से 15 जनवरी को 7 की मौत

हरियाणा में कोरोना से शनिवार को 7 लोगों की मौत हो गई। यह अब तक एक ही दिन में मौत का सबसे ज्यादा आंकड़ा है। इससे पहले 14 जनवरी को 6 की मौत हुई थी। शनिवार को मरने वालों में गुरुग्राम में 1, सोनीपत में 2, अंबाला में 1, यमुनानगर में 1, भिवानी में 1 और कैथल में 1 की मौत हुई है। जबकि कोरोना के नए केस 9050 आए हैं। प्रदेश में कुल 46,720 एक्टिव मरीज है। वहीं 40,096 मरीज होम आइसोलेशन में हैं। जबकि 3743 मरीज ठीक होकर घरों को लौटे हैं।