पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्यक्रम:हिंदी दुनिया की बेहद सरल, सहज और सुगम भाषा जिसे लोग बोलना, समझना और जानना चाहते हैं

समस्तीपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जवाहर नवोदय विद्यालय बिरौली में हिंदी पखवाड़ा समारोह का आयोजन, हिंदी की महत्ता पर डाला गया प्रकाश

जवाहर नवोदय विद्यालय बिरौली के परिसर में 14 सितंबर को शुरू हुआ हिंदी पखवाड़ा समारोह 29 सितंबर गुरुवार रात संपन्न हो गया। समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे समस्तीपुर के डीएम योगेंद्र सिंह ने कहा कि हिंदी हमारी सभ्यता, संस्कृति, संस्कार, पहचान सभी है। हिंदी दुनिया की बेहद सरल, सहज और सुगम भाषा हैं जिसे प्रायः लोग बोलना, समझना और जानना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि हिंदी को और अधिक बढ़ावा देने के लिए हम सभी को सदैव तत्पर रहना होगा। उन्होंने बच्चों को प्रतिस्पर्धा के महत्व के बारे में भी बताया। उन्होंने विद्यालय के बेहतरीन परीक्षा परिणाम के लिए शिक्षकों एवं छात्रों को बधाई भी दी। कार्यक्रम के दौरान डीएम ने हिंदी पखवाड़ा को लेकर आयोजित हुए विभिन्न प्रतियोगिताओं में चयनित हुए दर्जनों प्रतिभागियों को पुरस्कृत भी किया। सभी प्रतियोगिताओं के परिणाम के आधार पर विद्यालय के उदयगिरी सदन के छात्र-छात्राएं विजेता एवं अरावली सदन के छात्र-छात्राएं उपविजेता रहे।

समारोह में केंद्रीय विद्यालय पूसा के प्राचार्य ऋषि रमन विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद थे। केवी के प्राचार्य ने नवोदय विद्यालय के बच्चों की प्रतिभा की प्रशंसा की तथा उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। अतिथियों का स्वागत जेएनवी के प्राचार्य टी एन शर्मा ने किया। बाद में विद्यालय के छात्र-छात्राओं द्वारा एक से बढ़कर मनमोहक सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। मंच संचालन पीजीटी गणित के शिक्षक विनय कुमार, छात्र दिव्यांशु मिश्रा एवं छात्रा श्वेता सुमन के द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। पुरस्कार वितरण में शिक्षिका किरण सिंह और आभा कुमारी ने भरपूर सहयोग किया। धन्यवाद ज्ञापन विद्यालय के उपप्राचार्य एस के झा ने किया।

हिंदी केवल हमारी भाषा ही नहीं, बल्कि हमारी सभ्यता और संस्कृति दोनों है, इसमें अधिक कार्य करें : डॉ. कृष्ण कुमार

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा के पंचतंत्र सभागार में चल रहा हिंदी पखवाड़ा समारोह पुरस्कार वितरण के साथ ही संपन्न हो गया। समापन समारोह की अध्यक्षता करते हुए उद्यानिकी एवं वानिकी महाविद्यालय पिपराकोठी के अधिष्ठाता सह विवि के पूर्व प्रभारी कुलपति डॉ. कृष्ण कुमार ने कहा कि हिंदी बोलने में आज के युवा पीढ़ी को हीन भावना का एहसास होता है। युवा पीढ़ी को यह सोचना चाहिए की हिंदी केवल हमारी भाषा नही बल्कि हमारी सभ्यता और संस्कृति दोनों हैं। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में अब हिंदी भाषा में अधिकाधिक कार्य संपादित हो रहे हैं यह हमारे लिए गर्व की बात हैं। उन्होंने कहा कि हिंदी भाषा को सम्मान के साथ बोलने के अलावे हिंदी को आत्मसात करने की जरूरत है।

हिंदी पखवाड़े के दौरान केंद्रीय विद्यालय, कैंपस पब्लिक स्कूल, राजेंद्र शिशु सदन के अलावे विवि से जुड़े तमाम छात्र छात्राओं के लिए विभिन्न तरह के प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता में बेहतर प्रदर्शन करने वाले प्रतिभागियों को पूर्व प्रभारी कुलपति के द्वारा सम्मानित किया गया। मंच संचालन वैज्ञानिक सुमित कुमार सिंह ने किया जबकि धन्यवाद ज्ञापन वैज्ञानिक सतीश कुमार सिंह ने किया।मौके पर अधिष्ठाता बेसिक साइंस डॉ. सोमनाथ राय चौधरी, अधिष्ठाता कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय डॉ. अंबरीष कुमार, अधिष्ठाता तिरहुत कृषि महाविद्यालय ढोली डॉ.अशोक कुमार सिंह, निदेशक सुगर केन डॉ. ए के सिंह, अधिष्ठाता मात्स्यकी महाविद्यालय ढोली डॉ. पीपी श्रीवास्तव, डॉ. मुकुल सिन्हा आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...