पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अपराधियों ने दो महीने में लूट लिए थे 6 गाड़ी:7वें लूट की प्लानिंग के वक्त पुलिस ने 3 अपराधियों को दबोचा, 5.6 लाख बरामद

पटना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पटना के SSP मानवजीत सिंह ने सिटी SP ईस्ट को सौंपा था टास्क। - Money Bhaskar
पटना के SSP मानवजीत सिंह ने सिटी SP ईस्ट को सौंपा था टास्क।

पटना के ग्रामीण इलाके में वाहन लुटेरों का गैंग इस कदर एक्टिव है कि सिर्फ दो महीने के अंदर ही 6 गाड़ियां लूट ली। इसमें बोलेरो, ट्रॉली सहित ट्रैक्टर, मिक्सर सहित ट्रैक्टर शामिल है। वाहन लूट की वारदातें लगातार धनरूआ और इसके आसपास के इलाकों में हो रही थी। अपराधियों के इस गैंग को पकड़ने के लिए पटना के SSP मानवजीत सिंह ने सिटी SP ईस्ट को खास टास्क सौंपा था।

इसके बाद मसौढ़ी SDPO की अगुवाई में धनरूआ और कादिरगंज थाना की एक ज्वाइंट टीम बनाई गई। ये टीम लगातार वाहन लुटेरों के बारे में सबूत जुटाने लगी हुई थी। उसी दरम्यान रसलपुर गांव के तीन मुहानी के पास रविवार को एक स्कॉर्पियो और पल्सर बाइक पर सवार तीन संदिग्धों को पकड़ा गया। जब पुलिस ने पड़ताल की तो ये तीनों वाहन लुटेरे निकले। ये लोग फिर से किसी गाड़ी को लूटने की प्लानिंग में जुटे थे। तत्काल पुलिस टीम ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया।

पिस्टल के साथ 11 गोली भी बरामद

इनमें जहानाबाद के घोषी का सत्यम कुमार उर्फ संतोष कुमार उर्फ छोटू, वैशाली जिले के जंदाहा के रसलपुर का नीतीश कुमार और नालंदा जिले के हिलास के पकड़िया बिगहा का चंदन कुमार उर्फ चुन्नू कुमार शामिल है। इन अपराधियों के पास से पुलिस ने एक देशी पिस्टल और 11 गोली भी बरामद किया। थाना लाकर इन अपराधियों से पूछताछ की गई। तब जाकर खुलासा किया कि धनरूआ में तीन, कादिरगंज में दो और मसौढ़ी में एक गाड़ी ये अपराधी लूट चुके हैं। इसमें पिछले साल नवंबर 3, दिसंबर में 2 और इस जनवरी महीने में 1 गाड़ी लूटी गई है।

फरार रंजन की छापेमारी जारी

सारे वारदातों को हथियार के बल पर अंजाम दिया गया। पूछताछ में इन अपराधियों ने नालंदा जिले के रहने वाले अपने चौथे साथी रंजन कुमार, जो पटना में किराए के मकान में रहता है। पुलिस टीम ने इसके बाद पटना वाले घर पर छापेमारी की। वहां रंजन तो नहीं मिला, पर 5 लाख 6 हजार रुपया कैश उसके कमरे से जरूर मिला। जिसे पुलिस ने जब्त कर लिया है। SSP के अनुसार ये अपराधी स्कॉर्पियो से हाइवे पर घूमते थे और फिर गाड़ी लूट लेते थे। फरार रंजन की तलाश में छापेमारी चल रही है।