पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्‍कर खास:तेजी से चल रहा नेऊरा-दनियावां लाइन का काम, इस साल हो जाएगा पूरा

पटना4 महीने पहलेलेखक: आलोक कुमार
  • कॉपी लिंक
भूमि अधिग्रहण को लेकर विलंबित नेऊरा-दनियावां रेल लाइन प्रोजेक्ट में अब तेजी से काम चल रहा है। - Money Bhaskar
भूमि अधिग्रहण को लेकर विलंबित नेऊरा-दनियावां रेल लाइन प्रोजेक्ट में अब तेजी से काम चल रहा है।

काफी समय से भूमि अधिग्रहण को लेकर विलंबित नेऊरा-दनियावां रेल लाइन प्रोजेक्ट में अब तेजी से काम चल रहा है। काम की जो गति है, उसे देखते हुए लगता है कि इस साल के अंत तक काम पूरा हो जाएगा। बता दें कि इस रेल लाइन के पूरा होने की डेडलाइन वर्ष 2022 है। मुृख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस रेल लाइन का काम समय से पूरा हो सके इसके लिए प्रधानमंत्री से आग्रह किया था।

इसके बाद बीते साल के बजट में इस रेल लाइन को रफ्तार देने के लिए बजट में 150 करोड़ की राशि जारी की गई थी। उम्मीद है इस बार के बजट में भी पर्याप्त राशि मिलेगी। अभी फुलवारीशरीफ इलाके में इस योजना का काम देखा जा सकता है। निर्माण कार्य भारतीय रेल विकास निगम कर रहा है।

जमीन अधिग्रहण नहीं होने से हुई देरी : इस रेललाइन से जुड़ने वाली बिहारशरीफ से नवादा रेल लाइन, 16 किमी बरबीघा शेखपुरा रेल लाइन, 25 किमी लंबी बिहारशरीफ बरबीघा रेल लाइन और 38 किमी लंबी दनियावां बिहारशरीफ रेल लाइन का काम पूरा हो गया है। अब अगले फेज में नेऊरा से जटडुमरी के रास्ते दनियावां तक 42.2 किमी लंबी रेल लाइन का काम पूरा होना है। अब तक यह लाइन बन कर तैयार हो जाता, लेकिन भूमि अधिग्रहण की समस्या को लेकर देरी हुई। अब भूमि अधिग्रहण की समस्या का समाधान हो गया है। ऐसे में नेऊरा-दनियावां डबल लाइन बाईपास रेल लाइन का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है।

जानिए इस रेल लाइन परियोजना को

  • कुल लागत : लगभग 1200 करोड़
  • कुल लंबाई : 42.2 किमी
  • वर्ष 2016 में हुआ था टेंडर
  • काम पूरा करने का नया लक्ष्य : वर्ष 2022
  • भूमि अधिग्रहण के चलते काम में हुई देरी

इस रेल लाइन से फायदा क्या
रेलवे के लिए यह प्रोजेक्ट इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि मेन लाइन में पटना से किउल के बीच ट्रेनों की अधिक संख्या रहने के कारण ट्रेनों के समय पालन और तेज रफ्तार में बाधा होती है। नेऊरा-दनियावां लाइन चालू हो जाने के बाद काफी हद तक मेन लाइन में लोड कम होगा। क्योंकि मालगाड़ियां और कई पैसेंजर ट्रेनें भी इस बाइपास लाइन से निकल जाएंगी। यह रेल लाइन पटना-किउल रेललाइन का विकल्प होगा। इस रेलखंड से मालगाड़ियों एवं नॉन स्टॉप पैसेंजर ट्रेनों का भी परिचालन किया जाएगा। इसके बन जाने के बाद मेन लाइन का लोड कम होगा, जिससे ट्रेनों के रफ्तार और पंक्चुएलिटी में वृद्धि होगी।

जानिए इस पूरे प्रोजेक्ट को
नेउरा से शेखपुरा के बीच 123.2 किमी की नई रेल लाइन बिछाने की योजना के तहत पहले चरण में दनियावां से बिहारशरीफ तक रेल लाइन का निर्माण कार्य पूरा हुआ। दूसरे चरण में बिहारशरीफ से बरबीघा तक रेल लाइन बिछा दी गई। इसके बाद बरबीघा से शेखपुरा तक रेल लाइन का निर्माण हो चुका है। तीसरे चरण में नेउरा से दनियावां के बीच रेल लाइन के निर्माण का कार्य चल रहा है। इस पूरी परियोजना में रेलवे की ओर से लगभग 1200 करोड़ की राशि खर्च की जा रही है। माना जा रहा है कि इस साल के अंत तक इस रेलखंड पर नेउरा से शेखपुरा तक ट्रेनों का परिचालन शुरू हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...