पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

'भैया अच्छी शेरवानी दिला देना' बोलकर बाजार गया था कुणाल:बड़े भाई अमन ने बताया- कुणाल डिप्लोमा कर सरकारी अफसर बनने की कर रहा था तैयारी

बेगूसराय7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बेगूसराय में बेटे की हत्या के बाद विलाप करतीं मां व परिजन।  - Money Bhaskar
बेगूसराय में बेटे की हत्या के बाद विलाप करतीं मां व परिजन। 

बड़े भाई की बारात सजने की तैयारी चल रही थी। लेकिन, बेगूसराय में अब छोटे भाई की अर्थी उठने की नौबत आ गई। पंचायत चुनाव में हुआ विवाद इस कदर बढ़ जाएगा। परिवार के लोगों ने कभी नहीं सोचा था। 2 दिसंबर को बड़े भाई का तिलक और 5 दिसंबर को शादी होनी थी। लेकिन, मंगलवार को छोटे बेटे की अर्थी उठ गई। दरअसल, सेामवार की रात 10 बजे चुनावी रंजिश में डिप्लोमा होल्डर छात्र कुणाल की हत्या कर दी गई। वहीं, उसका साथी मुरारी गंभीर रूप से घायल हो गया। परिवार का शादी का उत्साह मातम में तब्दील हो गया।

डिप्लोमा छात्र की हत्या के बाद बड़े भाई की शादी का कार्ड दिखाते पिता।
डिप्लोमा छात्र की हत्या के बाद बड़े भाई की शादी का कार्ड दिखाते पिता।

मां की जीते के लिए लगा दिया था जान
घटना मटिहानी थाना क्षेत्र के भवानंदपुर गांव की है। 8वें चरण के चुनाव में मटिहानी प्रखंड के सोनापुर वार्ड नंबर 16 से कुणाल की मां विमला देवी वार्ड सदस्य पद के लिए चुनाव में खड़ी हुई थीं। इस चुनाव में विमला देवी अपनी प्रतिद्वंद्वी पूजा कुमारी से हार गई थीं। कुणाल अपनी मां को जीत दिलाने के लिए जी जान लगा दिया था। कुणाल के बड़े भाई अमन ने बताया कि कुणाल बचपन से ही मेधावी था। पॉलिटेक्निक में डिप्लोमा कर वह गांव में ही नौकरी की तैयारी कर रहा था

कुणाल। (फाइल)
कुणाल। (फाइल)

अमन छोटे भाई को जी जान से चाहता था
अमन की आंखें यह बोलकर डबडबा गईं कि कुणाल ने सोमवार को शादी का कार्ड लाने जाने से पहले भाई से कहा था- भैया मैं शेरवानी पहनूंगा। आप अपनी शादी में अच्छी शेरवानी खरीद दीजिएगा। अमन ने बताया कि कुणाल अफसर बनना चाहता था। लेकिन, अब सबकुछ बिखर गया है। समझ नहीं आ रहा, क्यो करूं। परिजनों ने बताया कि अमन छोटे भाई को जी जान से चाहता था।