पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57125.980.67 %
  • NIFTY17022.10.65 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476900.69 %
  • SILVER(MCX 1 KG)607550.12 %

PMCH के 180 MBBS स्टूडेंट्स सस्पेंड:हंगामा कर OPD बंद कराने वाले स्टूडेंट अब 15 दिन तक नहीं कर पाएंगे क्लास, हॉस्टल में भी नहीं हो पाएगी इंट्री

पटना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
MBBS के 180 फर्स्ट ईयर स्टूडेंट्स की हड़ताल से 2 घंटे तक PMCH की OPD प्रभावित रही। - Money Bhaskar
MBBS के 180 फर्स्ट ईयर स्टूडेंट्स की हड़ताल से 2 घंटे तक PMCH की OPD प्रभावित रही।

पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (PMCH) में OPD बंद कराकर मरीजों की जान से खिलवाड़ करने वाले 180 MBBS स्टूडेंट्स को सस्पेंड कर दिया गया है। अब वह 15 दिनों तक न तो क्लास कर पाएंगे और न ही हॉस्टल में ही एंट्री पाएंगे। पटना मेडिकल कॉलेज में पहली बार ऐसा हुआ है, जब एक साथ 180 MBBS स्टूडेंट्स को 15 दिनों के लिए सस्पेंड किया गया है। पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के प्राचार्य डॉ विद्यापति चौधरी ने इस संबंध में पटना DM के साथ स्वास्थ्य विभाग को भी लिखित सूचना दे दी है।

संक्रमण काल में हड़ताल मरीजों पर भारी

मौजूदा समय में पूरा बिहार वायरल बुखार से परेशान है। कोरोना की तीसरी लहर को लेकर अलग दहशत बनी हुई है। बच्चों में बुखार को लेकर हर परिवार परेशान है। अस्पताल मरीजों से फुल है। ऐसे में हड़ताल कर मरीजों के इलाज में बाधा डाला गया। ऐसे में 2 घंटे तक पटना मेडिकल कॉलेज की OPD प्रभावित हो रही है। इस दौरान 500 से अधिक मरीजों का इलाज प्रभावित हुआ। मधुबनी, मोतिहारी, दरभंगा, भोजपुर से लेकर बिहार के अलग अलग जिलों से इलाज के लिए आए मरीजों को सुबह से ही लाइन लगाना पड़ा। वह रजिस्ट्रेशन करा लिए लेकिन OPD में हड़ताल के कारण इलाज नहीं हो पाया।

PMCH में हुआ स्टूडेंट्स पर बड़ा एक्शन

पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में पहली बार इतना बड़ा एक्शन लिया गया है। प्रिंसिपल डॉ विद्यापति चौधरी ने बताया कि बार-बार ओपीडी बंद कराना मनमानी का काम है। इससे व्यवस्था बाधित हो रही है जिससे मरीज परेशान हो रहे हैं। PMCH प्रशासन की तरफ से MBBS के 180 फर्स्ट ईयर स्टूडेंट्स को, जो अब सेकेंड इयर में हैं, 15 दिन के लिए सस्पेंड कर दिया है। अब वह न तो क्लास कर सकते हैं और न ही हॉस्टल में रह सकते हैं। अब 15 दिन बाद 180 स्टूडेंट्स को एक शपथ पत्र लेकर आना होगा, जिसमें यह कहा जाए कि भविष्य में ऐसी गलती नहीं की जाएगी। स्टूडेंट्स को अपने गार्जियन को भी लाना होगा और उनके सामने यह कहना होगा कि अब ऐसी गलती नहीं होगी। इसके बाद ही स्टूडेंट्स को क्लास और हॉस्टल में एंट्री मिल पाएगी।

खबरें और भी हैं...