पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वैक्सीन वितरण में लापरवाही बरतने वालों पर गिरेगी गाज:मुजफ्फरपुर के पांच हेल्थ मैनेजर से मांगा गया स्पष्टीकरण, संतोषजनक जवाब नहीं देने पर कार्रवाई तय

मुजफ्फरपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर। - Money Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर।

कोरोना वैक्सीनेशन अभियान में भारी लापरवाही सामने आई है। ये लापरवाही प्रंखड़ स्वास्थ प्रबन्धक (हेल्थ मैनेजर) द्वारा बरती गई है। राज्य मुख्यालय ने इसपर सख्त रवैया अपनाया है। मुजफ्फरपुर के पांच समेत सूबे के 35 स्वास्थ्य प्रबन्धकों से स्पष्टीकरण मांगा गया है। राज्य मुख्यालय की सख्ती के बाद महकमे में हडकंप मचा हुआ है। सिविल सर्जन डा.विनय कुमार शर्मा ने बताया कि वह अपने स्तर से कई बार चेतावनी दिए है।

CS ने बताया कि स्वस्थ्य प्रबंधक ओम प्रकाश, बंदरा, राम कृष्ण, बोचहा, ओवंद अंसारी, गायघाट, आशिष कुमार मिश्रा, कुढनी, आलोक कुमार, मुसहरी पर समय पर दवा और वैक्सीन वितरण नहीं करने का आरोप है। राज्य मुख्यालय ने 10 दिनों के भीतर इनसे स्पष्टीकरण का जवाब देने को कहा है। अगर जवाब संतोषजनक नहीं हुआ तो इन सभी पर कार्रवाई की गाज गिरनी तय है।

निर्देश का नहीं किया अनुपालन :
अपर निदेशक सह राज्य प्रतिरक्षण पदाधिकारी की ओर से जो पत्र भेजा गया है। उसके अनुसार, उल्लेख है कि 18 अक्टूबर को आयोजित कोरोना टीकाकरण महाभियान में निर्देश देने के बावजूद वैक्सीन वितरण जैसे महत्वपूर्ण कार्य में अनाधिकृत रूप से सभी प्रबंधक अनुपस्थित थे। जिससे वैक्सीन वितरण में परेशानी हुई। उसका प्रतिकूल प्रभाव पूरे प्रक्रिया में पड़ा। विभाग ने माना कि यह कृत्य राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन कार्य के प्रावधानों के विपरीत आचरण तथा कर्तव्य पालन में लापरवाही बरतने का द्योतक है।

उत्तर बिहार के कई जिले शामिल
वैक्सीनेशन और दवा वितरण कार्य मे लापरवाही बरतने वालों में सिर्फ मुजफ्फरपुर ही नहीं उत्तर बिहार के कई जिले शामिल हैं। इसमें दरभंगा, मधुबनी, पूर्वी चंपारण और सीतामढ़ी के भी हेल्थ मैनेजर शामिल हैं। इन सभी से स्पष्टीकरण मांगा गया है। सिविल सर्जन ने कहा कि राज्य मु़ख्यालय का आदेश है कि तथ्यात्मक स्पष्टीकरण दस दिनों के अन्दर देना है। अगर जवाब तथ्यपरक नहीं हुआ तो मुख्यालय स्तर से कड़ी कार्रवाई की जाएगी।