पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लचर व्यवस्था:आवास योजना के लाभार्थियाें को 5 साल बाद भी नहीं मिली दूसरी किस्त की राशि

मधुबनी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 2017 से द्वितीय किस्त मिलने की प्रतीक्षा में कट रहे दिन, लापरवाह हैं जिम्मेदार

शहर में नगर निगम प्रशासन की उदासीनता के कारण पीएम आवास योजना के हजारों लाभार्थी जिल्लत की जिंदगी जीने को मजबूर हैं। स्थिति यह हो गई है कि लोगों को मवेशियों के साथ सोना पड़ रहा है। वहीं कई स्थानों पर लोग प्लास्टिक, त्रिपाल सहित अन्य प्रकार के संसाधनों का उपयोग कर छोटे से स्थानों में 5, 7 अथवा 10 सदस्यों के साथ रह रहे हैं। आजकल की प्रतीक्षा में लगभग 5 साल बीतने को है पर स्थिति में किसी प्रकार का सुधार नहीं हो रहा है। खासकर वैसे लाभार्थी जिन्होंने पहली किस्त मिलने के बाद अपने पुराने घर को तोड़ लिया है, उनकी परेशानी और बढ़ गई है। वर्ष 2017 के बाद से ही लोग अगले किस्त की राशि के लिए नगर निगम प्रशासन की ओर टकटकी लगाए हुए हैं। वहीं, जिन लोगों ने ब्याज पर रुपए लेकर किसी तरह से घर तैयार भी कर लिया है, अब वे महाजन का ब्याज चुकता करते-करते थक चुके हैं। वहीं, जिस माह ब्याज की अदायगी में देरी होती है, उस माह में महाजन घर पहुंचकर बेइज्जत कर जाते हैं।

पहली किस्त के रूप में मिले रुपए में से 20 हजार देने पड़ गए

वार्ड 11 के दातागंज के स्थाई निवासियों ने बताया कि 2017 में मिली पहली किस्त की राशि में से 20 हजार रुपए ले लिया गया। साथ ही उन लोगों को यह भी कहा गया कि आगे की किस्त की राशि के लिए भी उन्हें पहले 20 हजार देना होगा। इसके बाद ही उन्हें अगली किस्त की राशि दी जाएगी। लेकिन भुगतान नहीं किया गया।

समस्या का समाधान नहीं होने पर होगा जनांदोलन

माहल्ले की फिरोजा खातून, हैदर अली, मो. मुस्लिम, सैबूल खातून, मुन्नी खातून सहित कई लोगों ने बताया कि सामूहिक रूप से वे लोग कई बार नगर निगम कार्यालय भी गए। वार्ड पार्षद का देहांत चार वर्ष पूर्व हो चुका है। देहांत के बाद वार्ड की स्थिति अस्त-व्यस्त हो गई। सभी ने बताया कि समस्या का समाधान नहीं होने पर जनांदोलन होगा।

डीपीआर के अनुसार कुल चयनित लाभार्थी : 265
{प्रथम किस्त : 120
{द्वितीय किस्त : 29
{तृतीय किस्त : 04

खबरें और भी हैं...