पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गिरफ्तारी:12 माह में खनन विभाग की 232 छापेमारी, मात्र 17 की गिरफ्तारी

मधुबनी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में नदियों से बालू का अवैध खनन जारी

जिले में नदियों से बालू माफियाओं के द्वारा अवैध खनन कर बालू निकालने का खेल अब भी जिले में जारी है। बालू माफियों बे धड़क हो कर नदियों के पेट से बालू निकालने का काम कर रहें हैं। इतना ही नहीं इन सब के बीच प्रशासनिक कार्रवाई एवं वाहन जब्त जैसे कार्रवाई भी इन खनन माफियाओं पर लगाम लगाने में विफल साबित हो रहें हैं। फिलहाल जिले के नदियों में जलस्तर में बढ़ोतरी को देखते हुए खनन माफियाओं अवैध खनन कार्य में तेजी ला दी है। खनन माफिया जानते हैं कि एक बार नदी में पानी भर जाने से खनन का कार्य तीन से चार महीने के लिए रोकना पड़ सकता है।

जानकरी के अनुसार खुटौना के मुनहरा नदी, लौकही के भुतही बलान, खजौली के वार्ड 13 के समीप कमला नदी, लदनियां के दोंवारी गांव, बाबूबरही के पिपराघाट व झंझारपुर कमला नदी आदि में प्रशासन के नाक के नीचे चोरी छिपी अवैध खनन का खेल जारी है। वहीं विभागीय आकड़ों की बात करें तो बीते अप्रेल 2021 से मार्च 2022 तक जिले के विभिन्न इलाकों में खनन विभाग की ओर से 232 बार छापेमारी की गई है जिसमें 1 करोड़ 39 लाख 55 हजार जुर्माना की राशि वसूल की गई है। बारिश के कारण खेतों में पानी लग जाने से लोगों को घरों में मिट्टी भरवाने व अन्य कार्यों के लिए परेशानी बढ़ गई है। इसी का फायदा उठाकर बालू माफिया नदियों के पेट मे से मिट्टी व बालू को काट कर मनमाना दाम पर बेच रहे हैं।

खबरें और भी हैं...