पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लक्ष्य से दूर:जिले में अबतक सिर्फ 60% किसान ही डाल पाए हैं धान के बिचड़े

भभुआ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इस साल कैमूर में 1.10 लाख हेक्टेयर में धान की खेती का लक्ष्य निर्धारित

मॉनसून की अच्छी बारिश नहीं होने से धान के बिचड़े महज 60% किसान ही डाल पाए हैं। 40% किसान अभी भी बारिश होने का इंतजार कर रहे हैं। ऐसे में समय से बिचड़े तैयार नहीं होने के कारण रोपनी भी समय से नहीं हो पाएगी। बारिश नहीं होने की वजह से खेतों में नमी नही है। किसान बोरिंग चलाकर पहले खेतों में नमी लाने का प्रयास कर रहे हैं ताकि बिचड़ों को बचाया जा सके। किसानों का कहना है कि यदि बारिश नहीं हुई तो खेती पिछड़ जाएगी। खेती पिछड़ने की स्थिति में फसल की पैदावार भी बेहतर नहीं मिलेगी।

हालांकि जिले में मानसून ने दस्तक दे दी है। बावजूद अब तक अच्छी बारिश नहीं हुई है। इस साल कैमूर में 1.10 लाख हेक्टेयर में धान की खेती का लक्ष्य निर्धारित है। इस महीने का सामान्य वर्षापात 172.8 मिमी है।इसके मुकाबले अब तक महज 16 मिमी ही बरसात हुई है। यह महीने के औसत से महज 9% है। कृषि विशेषज्ञों के अनुसार औसत बारिश के मुकाबले अगर 80 मिमी बारिश होती है तो रोपनी में तेजी आ जाएगी। बिचड़ा डालने के लिए किसान बारिश का इंतजार कर रहे हैं। इसके बावजूद अभी तक सामान्य वर्षा के मुकाबले काफी कम बारिश अभी तक हुई है।

खबरें और भी हैं...