पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इमरजेंसी वार्ड में नहीं थे डाक्टर, हंगामा:स्वास्थ्य कर्मी होने के बावजूद अस्पताल में नहीं हुआ मरीज का इलाज

जमुई2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में चिकित्सक के नहीं रहने पर मरीज के परिजनों ने हंगामा किया। इसके बावजूद कोई चिकित्सक अथवा स्वास्थ्य कर्मी नहीं पहुंचने पर मरीज को परिजन मरीज को निजी क्लीनिक ले जाने को मजबूर हो गए। बताया जाता है कि बुधवार की सुबह खैरा निवासी गौतम विश्वास अपनी 72 वर्षीय मां मालती सिन्हा को गंभीर अवस्था में इलाज के लिए सुबह लगभग 4 बजे सदर अस्पताल पहुंचे ।

जहां इमरजेंसी वार्ड में न तो चिकित्सक मिले और न ही कम्पाउंडर। किसी तरह से गौतम ने अपनी मां को ऑक्सीजन लगाकर चिकित्सक का इंतजार करने लगे। लेकिन सुबह 8 बजे तक कोई भी चिकित्सक उपस्थित नहीं हुए। सदर अस्पताल में फैली इस कुव्यवस्था पर गौतम विश्वास ने नाराजगी जताते हुए हंगामा भी किया लेकिन फिर भी कोई चिकित्सक उनकी मां को देखने नहीं पहुंचे।

गौतम विश्वास ने बताया कि वो खुद मेडिकल स्टॉप हैं और झाझा अस्पताल में कार्यरत हैं। मंगलवार की देर रात उनकी मां की तबियत अचानक बिगड़ गई तो उन्हें इलाज के लिए खैरा अस्पताल लाया गया। जहां चिकित्सक द्वारा बेहतर इलाज के लिए सदर अस्पताल जमुई रेफर कर दिया।

खबरें और भी हैं...