पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57696.46-1.31 %
  • NIFTY17196.7-1.18 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47361-0.07 %
  • SILVER(MCX 1 KG)606850.05 %

आयोजन:किसानों की आवाज को दबा रही सरकार : विनोद

राघोपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सर्वोदय आश्रम में अयोजित किसान गोष्ठी में मौजूद किसान। - Money Bhaskar
सर्वोदय आश्रम में अयोजित किसान गोष्ठी में मौजूद किसान।
  • सिमराही के सर्वोदय आश्रम में हुई किसान गोष्ठी, किसान आंदोलन का किया समर्थन

खेती-किसान बचाओ अभियान के तहत सोमवार को प्रखंड अंतर्गत सिमराही बाजार स्थित सर्वोदय आश्रम परिसर में किसान गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें जिले भर से दर्जनों प्रमुख किसानों ने हिस्सा लिया। प्रगतिशील किसान सत्यनारायण सहनोगिया की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में बिहार राज्य गांधी स्मारक मंत्री विनोद रंजन, बिहार लोक अधिकार मंच के संयोजक उदय एवं किसान आंदोलन के नेता घनश्याम उपस्थित थे। वक्ताओं ने कहा कि वर्तमान समय में जनता का शासन नहीं है, बल्कि पूंजीपतियों का शासन देश में चल रहा है। सरकार पूंजीपति चला रहे हैं। जिस कारण किसानों के हक में आवाज नहीं उठता है। वहीं, मंच संचालन रामबिलास मेहता ने किया। जहां संबोधित करते हुए वक्ताओं ने तीनों कृषि कानून एवं एमएसपी के बारे में उपस्थित किसानों को जानकारी दी।

काले कृषि कानून की वापसी तक जारी रहेगा आंदोलन
सरकार किसानों से उसकी जमीन छीनना चाह रही है। पिछले 10 महीने से देश भर के किसान दिल्ली की सीमाओं पर जमे हुए हैं। गांधी के अहिंसात्मक सत्याग्रह के रास्ते वे सब दृढ़ संकल्पित हैं कि जब तक काले कानून की वापसी नहीं होगी, तब तक घर वापसी नहीं होगी। कुछ दिन पूर्व मुजफ्फरनगर में लाखों किसान ने जम घट लगाकर सरकार को ललकारा है। क्यों देश के किसान इतने उद्वेलित हैं। क्यों लाखों महिला किसान वहां डटी हुई है। क्योंकि वह सब मानते हैं कि आज खेती-किसानी खतरे में है। युवाओं को लगने लगा है कि उनका भविष्य अंधकारमय है।

महिलाएं भी आंदोलन के लिए हो रहीं बाध्य
महिलाएं भी यह समझने लगी है कि उनके लड़े बिना महिलाओं का अस्तित्व नहीं बच सकता है। किसानों सहित मजदूर भी महसूस करने लगे हैं कि अपने देश को अगर कॉरपोरेट्स के चंगुल से नहीं निकाला गया तो करोड़ों लोग बेरोजगार हो जाएंगे एवं आत्महत्या करने को विवश हो जाएंगे। कार्यक्रम को परमेश्वर सिंह यादव, रामलगन निराला, रमेश मेहता, कृष्णदेव राउत, रामी प्रसाद भारती, महंत लक्ष्मण दास, बौआलाल राम, अर्जुन प्रसाद, भागवत सिंह ने भी संबोधित किया।

खबरें और भी हैं...