पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57858.150.64 %
  • NIFTY17277.950.75 %
  • GOLD(MCX 10 GM)486870.08 %
  • SILVER(MCX 1 KG)63687-1.21 %
  • Business News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Councilor Sanjay Sinha And Mayor Seema Saha Came Face To Face, Power And Opposition Tried Hard On The Matter Of No confidence Motion Against The Mayor

गर्म हुई निगम की सियासत:आमने-सामने हुए पार्षद संजय सिन्हा और मेयर सीमा साहा, मेयर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के मामले पर सत्ता व विपक्ष की जाेर आजमाइश

भागलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मेयर ने कहा कि हिम्मत है तो सामने आकर बात करें पार्षद; संजय ने कहा कि मैं पीठ पर वार नहीं करता, वे चर्चा करें। - Money Bhaskar
मेयर ने कहा कि हिम्मत है तो सामने आकर बात करें पार्षद; संजय ने कहा कि मैं पीठ पर वार नहीं करता, वे चर्चा करें।

मेयर सीमा साह के खिलाफ बुधवार को अविश्वास प्रस्ताव लाने की काॅपी देने के बाद अब निगम की सियासत में आराेप-प्रत्याराेप शुरू हो गया है। मेयर सीमा साह ने पार्षद संजय सिन्हा से सामने आकर लड़ने की बात कही तो पलटवार करते हुए संजय सिन्हा ने कहा, मैं पीठ पीछे वार नहीं करता। मेरी व्यक्तिगत लड़ाई मेयर से नहीं, सिस्टम से है। इसलिए चर्चा के लिए मेयर बहुमत जुटाएं, अगर नहीं जुटा पाएंगी ताे पद छाेड़ना हाेगा और जुटा लेंगी ताे वे पहले की तरह ही तीसरी बार भी कुर्सी पर बनी रहेंगी। इसके लिए वे इतना बेचैन क्यों हो रही हैं?

दरअसल, यह जंग मेयर सीमा साह के पीए विकास शर्मा द्वारा अविश्वास प्रस्ताव के लिए विशेष बैठक बुलाने का पत्र रीसिव करने के बाद शुरू हुआ। नगर आयुक्त प्रफुल्लचंद्र यादव ने मेयर सीमा साह के नाम विशेष बैठक बुलाने का गुरुवार काे पत्र जारी किया। शाम में नगर आयुक्त के भेजे गए पत्र काे मेयर के पीए विकास शर्मा ने डाक से रीसिव कर लिया। इसकी सूचना उन्हाेंने मेयर काे फोन कर दी तो मेयर ने कहा, आपने अपनी मर्जी से पत्र क्यों रीसिव किया, वापस कीजिए। मैं खुद आकर लूंगी। इसके बाद विकास ने पत्र वापस निगम के डाक विभाग में लौटा दी। इतना ही नहीं, उन्होंने रजिस्टर पर किए अपने हस्ताक्षर काे भी काट दिया।

पॉकेट गर्म करने के लिए संजय सिन्हा खेल रहे हैं अविश्वास प्रस्ताव का यह खेल : सीमा साहा
मेयर सीमा साहा ने विराेध में खड़े पार्षदाें का नेतृत्व कर रहे पार्षद संजय सिन्हा से कहा है, वे सामने आकर लड़ें। छिप-छिप कर वार करना बंद करें। पार्षद की जगह उनके पतियाें काे लेकर घूम रहे हैं और अविश्वास का खेल पॉकेट गर्म करने के लिए कर रहे हैं। हमें डरा-डरा कर वे कुछ हासिल नहीं कर पाएंगे। संजय सिन्हा ने मेरे पति टुनटुन साह पर जाे आराेप लगाया, जरा अपने गिरेबां में झांक कर देखें कि वे क्या करते हैं। मेरे पति ताे राजनीति के साथ व्यापार भी करते हैं। संजय सिन्हा अपना काराेबार सार्वजनिक करें। मैंने अपने पीए से कहा कि अविश्वास का पत्र आप मत लीजिए। मैं खुद निगम आकर लूंगी।

भ्रष्टाचार के विरोध में हैं हमलोग, इसे जिस रूप में मेयर को लेना हो, लें : संजय सिन्हा
मैं पीठ पर वार नहीं करता। अविश्वास प्रस्ताव मैं अकेला नहीं लेकर आया। अगर लगाया है ताे चर्चा के लिए सामने अाएं। मेरी सीमा साह से व्यक्तिगत लड़ाई नहीं है, वह ताे सिस्टम से है। भ्रष्टाचार के विराेध में हमलाेग यह कर रहे हैं। जहां तक पॉकेट गर्म करने की बात है ताे हमलाेग हक की लड़ाई लड़ रहे हैं, इसे जिस रूप में मेयर काे लेना हाे लें। वे कहती हैं कि नाराज पार्षदाें काे बैठना चाहिए, साल भर में वे कितनी बार पार्षदाें के साथ बैठी हैं, बताएं। सामान्य बाेर्ड की बैठक ताे कर नहीं पातीं। स्थायी समिति की बैठकाें की काॅपी तक नहीं देती हैं।

कानूनविद से विपक्ष ने किया मशविरा
संजय सिन्हा अविश्वास प्रस्ताव लगाने काे लेकर अधिवक्ता संजय कुमार संजय से मिले। वकील ने उन्हें भराेसा दिया कि निगम एक्ट के मुताबिक अविश्वास प्रस्ताव सही है। उन्हाेंने एक और वकील से भी जानकारी ली। पार्षदाें ने कमिश्नर प्रेम सिंह मीणा से भी मिलने का प्रयास किया पर उनसे मुलाकात नहीं हाे सकी।

  • यह ताे प्रक्रिया है। हमारे पास अविश्वास प्रस्ताव की काॅपी आयी थी ताे हमने मेयर के नाम विशेष बैठक बुलाने का पत्र जारी कर दिया। इसलिए इसमें काेई अलग बात नहीं है, जाे एक्ट कहता है, हमने वही किया है।- प्रफुल्लचंद्र यादव, नगर आयुक्त
खबरें और भी हैं...