पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57696.46-1.31 %
  • NIFTY17196.7-1.18 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47361-0.07 %
  • SILVER(MCX 1 KG)606850.05 %

कार्यक्रम:तरक्की चाहिए तो पढ़ें कुरआन : मौलाना मिस्बाही

चौसा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चंदा में जलसे को संबोधित करते मौलाना। - Money Bhaskar
चंदा में जलसे को संबोधित करते मौलाना।
  • चंदा ईदगाह मैदान में रबीउल अव्वल शरीफ के मौके पर एक दिवसीय जलसा का आयोजन

प्रखंड क्षेत्र के चंदा ईदगाह मैदान में रविवार की संध्या में रबीउल अव्वल शरीफ के मौके पर एक दिवसीय जलसा का आयोजन किया गया। जिसमें इलाके के नामवर खतीब हजरत मौलाना मुफ्ती गुलाम समदानी साहब मिस्बाही ने अपने तकरीर के दौरान कहा कि आज मुसलमान परेशान क्यों है। इसका सिर्फ एक कारण है कि हमलोगों ने कुरआन को पढ़ना छोड़ दिया है। हमारी मस्जिदें दिन प्रति दिन वीरान होती जा रही है। अगर मुसलमान को तरक्की चाहिए तो कुरआन पढ़ें और मस्जिदों को आबाद करें। उन्होंने कहा कि मुसलमानों के दिल से अल्लाह का डर निकल गया और अल्लाह के रसूल सल्लाह अलैह वसल्लम की मोहब्बत नहीं रही, जो यही असले ईमान है।

इस्लाम के मुताबिक नहीं हो रहा हमारा कोई भी काम
मौलाना गुलाम मुरसलीन बिहपुर ने कहा कि आज हमारा समाज बहुत खराब हो गया है। हमारा कोई भी काम इस्लाम के मुताबिक नहीं हो रहा है। काश, अगर हम अपनी जिंदगी पैगम्बरे इस्लाम के बताए हुए तरीके पर जीते तो आज हम जिल्लत के शिकार नहीं होते। अगर आज भी हम इस्लाम के दामन को मजबूती से पकड़ लें तो हमारी दुनिया व आखरत दोनों कामयाब हो जायेगी। मौलाना उमैर बंदगी ने कहा कि इसी महीने की उर्दू 12 तारिख को मोहम्मद सल्लल्लाह अलैहि वसल्लम अरब के पवित्र शहर मक्का में पैदा हुए। इसलिए पूरी दुनिया के मुसलमान इसी तारीख को उनका जन्म दिन मनाकर अपनी मोहब्बतों का नजारा पेश करते हैं। शायरे इस्लाम माेज्जफर अंजुम मोज्जफरपुरी, शाहजाद, मोहम्मद फरयाद ने नाते नबी पढ़कर लोगों को बाग-बाग कर दिया। मौलाना बदरूजमा सिद्दीकी, मौलाना अब्बास, मोहम्मद मंसूर, अनवार, सोहेल आदि ने जलसे को संबोधित किया। जबकि जलसे की नकाबत हाफिज तौकीर ने की। मौके पर आयोजक कमेटी के सदस्य मोहम्मद जफर आलम, मो. गुलफान, सरफराज, खालिद, अब्दुल कादिर, तौहीद, कासीम आदि दर्जनों सदस्य विधि व्यवस्था में सक्रिय थे।

खबरें और भी हैं...