पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

PHOTOS में श्रीलंका के बेकाबू हालात:सड़कों पर सेना और प्रदर्शनकारी भिड़े, कर्फ्यू नाकाम, मंत्रियों के आवास भी फूंके गए

कोलंबो3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

श्रीलंका में बेहद खराब आर्थिक हालात की वजह से पैदा हुआ संकट अब एक और सिविल वॉर की तरफ बढ़ता नजर आ रहा है। सोमवार को प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने इस्तीफा दे दिया। इसके बाद जो हुआ उसकी किसी ने कल्पना नहीं की थी। राजपक्षे परिवार के समर्थकों और विरोधियों के बीच सड़कों पर खूनी संघर्ष हुआ। पुलिस ने राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे और उनके परिवार का साथ दिया।

इसके बाद तो हालात और बदतर हो गए। सेना बुलानी पड़ी। आम लोगों ने रूलिंग पार्टी के सांसदों और मंत्रियों के अलावा दूसरे नेताओं पर हमले शुरू कर दिए। एक सांसद ने भीड़ से बचने के लिए कथित तौर पर खुदकुशी कर ली। दो मंत्रियों के घर आग के हवाले कर दिए गए। यहां देखिए श्रीलंका के हालात बताते कुछ अहम फोटो। (पूरी खबर पढ़ें)

पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के समर्थकों और प्रदर्शनकारियों के बीच सोमवार को झड़प भी हुई। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने महिंदा राजपक्षे के घर के बाहर मौजूद वाहनों में आग लगा दी।
पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के समर्थकों और प्रदर्शनकारियों के बीच सोमवार को झड़प भी हुई। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने महिंदा राजपक्षे के घर के बाहर मौजूद वाहनों में आग लगा दी।
प्रदर्शनकारियों ने श्रीलंका सरकार के मंत्री सानथ निशंथा के घर में भी आग लगा दी। हिंसा और आगजनी की घटनाओं के बाद भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है।
प्रदर्शनकारियों ने श्रीलंका सरकार के मंत्री सानथ निशंथा के घर में भी आग लगा दी। हिंसा और आगजनी की घटनाओं के बाद भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है।
महिंदा राजपक्षे के इस्तीफा देने के कुछ ही घंटे बाद कोलंबो में उग्र विरोध प्रदर्शन शुरु हो गए। कोलंबो में झड़प के बाद प्रदर्शनरकारियों ने एक बस को आग के हवाले कर दिया।
महिंदा राजपक्षे के इस्तीफा देने के कुछ ही घंटे बाद कोलंबो में उग्र विरोध प्रदर्शन शुरु हो गए। कोलंबो में झड़प के बाद प्रदर्शनरकारियों ने एक बस को आग के हवाले कर दिया।
कोलंबो में आम लोगों के साथ वकीलों ने ह्यूमन चेन बनाकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किए। इसी तरह के विरोध प्रदर्शन देश के कई हिस्सों में हुए।
कोलंबो में आम लोगों के साथ वकीलों ने ह्यूमन चेन बनाकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किए। इसी तरह के विरोध प्रदर्शन देश के कई हिस्सों में हुए।
यह राजपक्षे परिवार के एक सहयोगी की गाड़ी है। इस कार में शराब ले जाई जा रही थी। लोगों ने इसे सड़क पर रोक लिया और गाड़ी में तोड़फोड़ की।
यह राजपक्षे परिवार के एक सहयोगी की गाड़ी है। इस कार में शराब ले जाई जा रही थी। लोगों ने इसे सड़क पर रोक लिया और गाड़ी में तोड़फोड़ की।
यह तस्वीर पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे के घर के बाहर की है। यहां महिंदा के समर्थकों और विरोधियों के बीच जबरदस्त टकराव हुआ। कई लोग घायल हुए।
यह तस्वीर पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे के घर के बाहर की है। यहां महिंदा के समर्थकों और विरोधियों के बीच जबरदस्त टकराव हुआ। कई लोग घायल हुए।
महिंदा राजपक्षे के घर के बाहर हालात बेहद खराब थे। हालांकि, वो घर पर मौजूद नहीं थे। यहां पुलिस के मौजूदगी के बावजूद समर्थक-विरोधी भिड़ गए।
महिंदा राजपक्षे के घर के बाहर हालात बेहद खराब थे। हालांकि, वो घर पर मौजूद नहीं थे। यहां पुलिस के मौजूदगी के बावजूद समर्थक-विरोधी भिड़ गए।
कोलंबो में एक ट्रेड फेयर चल रहा था। सोमवार को गुस्साए लोग यहां पहुंचे और तोड़फोड़ की। यहां मौजूद लोग बमुश्किल जान बचाकर भागे।
कोलंबो में एक ट्रेड फेयर चल रहा था। सोमवार को गुस्साए लोग यहां पहुंचे और तोड़फोड़ की। यहां मौजूद लोग बमुश्किल जान बचाकर भागे।
कोलंबो और देश के बाकी अहम शहरों में सेना तैनात कर दी गई है। कर्फ्यू दो दिन से लगा है, लेकिन सरकार और सुरक्षा बल इसका पालन नहीं करा पाए हैं।
कोलंबो और देश के बाकी अहम शहरों में सेना तैनात कर दी गई है। कर्फ्यू दो दिन से लगा है, लेकिन सरकार और सुरक्षा बल इसका पालन नहीं करा पाए हैं।
यह तस्वीर श्रीलंका की जर्नलिस्ट मरियाना डेविड ने शेयर की है। डेविड का कहना है कि महिंदा के दौर में श्रीलंका हर स्तर पर सिर्फ तबाही की तरफ गया है।
यह तस्वीर श्रीलंका की जर्नलिस्ट मरियाना डेविड ने शेयर की है। डेविड का कहना है कि महिंदा के दौर में श्रीलंका हर स्तर पर सिर्फ तबाही की तरफ गया है।
यह तस्वीर श्रीलंका की जर्नलिस्ट मधुभाषिणी रतनायके ने शेयर की है। रतनायके के मुताबिक, श्रीलंका सरकार शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को ताकत से दबा रही है।
यह तस्वीर श्रीलंका की जर्नलिस्ट मधुभाषिणी रतनायके ने शेयर की है। रतनायके के मुताबिक, श्रीलंका सरकार शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को ताकत से दबा रही है।
कोलंबो की सड़कों पर सोमवार को इस तरह के हालात नजर आए। खास बात ये है कि पुलिस-सेना को सिर्फ वीवीआईपी इलाकों में ही तैनात किया गया था।
कोलंबो की सड़कों पर सोमवार को इस तरह के हालात नजर आए। खास बात ये है कि पुलिस-सेना को सिर्फ वीवीआईपी इलाकों में ही तैनात किया गया था।
इस बच्ची और उसके डॉगी को सुरक्षाबलों ने एक हिंसाग्रस्त इलाके से रेस्क्यू किया। इसे कोलंबो के बाहरी इलाके में बनाए गए रिफ्यूजी कैंप में रखा गया है।
इस बच्ची और उसके डॉगी को सुरक्षाबलों ने एक हिंसाग्रस्त इलाके से रेस्क्यू किया। इसे कोलंबो के बाहरी इलाके में बनाए गए रिफ्यूजी कैंप में रखा गया है।

भास्कर कार्टूनिस्ट की नजर से देखिए श्रीलंका संकट...

श्रीलंका संकट से जुड़ी यह खबर भी पढ़ सकते हैं...