पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

PAK की सरकारी एयरलाइंस के हाल:ड्यूटी खत्म होने पर पायलट का टेक ऑफ से इनकार, पैसेंजर्स भी प्लेन से बाहर नहीं आए

रियाद4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (PIA) एक बार फिर विवादों में है। इस सरकारी एयरलाइंस के एक पायलट ने सऊदी अरब में एयरक्राफ्ट को इस्लामाबाद ले जाने से ही इनकार कर दिया। इसका नतीजा ये हुआ कि यात्री दूसरे मुल्क में फंस गए। मामला रविवार देर रात का है। एयरलाइंस कंपनी ने कहा कि पैसेंजर्स को वापस लाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

पिछले साल पाकिस्तान की यह सरकारी एयरलाइंस कंपनी फर्जी पायलट लाइसेंस मामले में फंस गई थी। मुल्क के सिविल एविएशन मिनिस्टर ने खुद संसद में माना था कि देश के 40% पायलटों के लाइसेंस जाली हैं।

कॉकपिट खाली, पैसेंजर्स सीट पर
पाकिस्तान के अखबार ‘द एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, रविवार को सऊदी अरब की राजधानी रियाद से PIA की फ्लाइट नंबर PK-9754 को टेकऑफ करना था। तमाम पैसेंजर ऑनबोर्ड हो चुके थे। इस फ्लाइट को यहां से टेकऑफ करने के बाद सीधा इस्लामाबाद में लैंड करना था। फ्लाइट टेकऑफ हुई और इसके बाद मौसम खराब हो गया। खराब मौसम की वजह से फ्लाइट को दम्माम शहर में लैंड कराया गया।

कुछ देर में मौसम साफ हो गया, लेकिन एक नया बवाल खड़ा हो गया। पायलट ने कहा कि उसकी ड्यूटी खत्म हो चुकी है और वो फ्लाइट को इस्लामाबाद नहीं ले जाएगा। इससे पैसेंजर बिफर गए और उन्होंने प्लेन से नीचे आने से इनकार कर दिया।

यूरोपीय यूनियन ने पाकिस्तानी फ्लाइट्स पर पिछले साल बैन लगा दिया था। (फाइल)
यूरोपीय यूनियन ने पाकिस्तानी फ्लाइट्स पर पिछले साल बैन लगा दिया था। (फाइल)

एयरपोर्ट ने सिक्योरिटी फोर्स बुलाई
हंगामा बढ़ते देख दम्माम एयरपोर्ट के अधिकारियों ने सिक्योरिटी फोर्स बुलाई। पैसेंजर्स को नीचे उतारा गया। बाद में PIA के प्रवक्ता ने कहा- पायलट को ड्यूटी चार्टर के हिसाब से सही आराम मिलना जरूरी है। यह पैसेंजर की सेफ्टी के लिए भी बेहद जरूरी है। हमने दूसरे इंतजाम किए हैं, ताकि फ्लाइट को इस्लामाबाद लाया जा सके। इस्लामाबाद से पाकिस्तान की इस सरकारी एयरलाइंस के फ्लाइट ऑपरेशन्स नवंबर में ही शुरू किए गए हैं।

मुश्किलों में है PIA
PIA की मुश्किलें पिछले साल जून में शुरू हुईं थीं। तब पाकिस्तान के एविएशन मिनिस्टर गुलाम सरवर ने संसद में खुलासा किया था कि देश के 40% पायलट फर्जी लाइसेंस और डिग्री लेकर नौकरी कर रहे हैं। इसके बाद कई देशों ने पाकिस्तान के पायलटों को नौकरी से निकाल दिया और कई देशों ने PIA की फ्लाइट्स पर बैन लगा दिया था। सबसे बड़ा झटका यूरोपीय यूनियन ने दिया। उसने पाकिस्तान से सभी तरह के फ्लाइट ऑपरेशन्स ही बंद कर दिए और ये अब तक शुरू नहीं हुए हैं।

PIA ने 261 पायलटों के लाइसेंस रद्द कर इन्हें बर्खास्त कर दिया था। 141 के खिलाफ क्रिमिनल केस दायर किए। हालांकि, इसके बाद क्या हुआ, इसकी जानकारी पाकिस्तान सरकार ने नहीं दी है।