पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

श्रीलंका में गृह युद्ध का खतरा:पूर्व PM राजपक्षे नेवल बेस में छिपे; हिंसा करने वालों को गोली मारने के आदेश; अब तक 8 की मौत

कोलंबो3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

श्रीलंका में आर्थिक संकट के बाद पैदा हुए हालात उसे सिविल वॉर की तरफ धकेलते नजर आ रहे हैं। सोमवार को महिंदा राजपक्षे ने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद वो परिवार के साथ नेवी के एक बेस में छिप गए हैं। बाहर प्रदर्शनकारी मौजूद हैं। ये राजपक्षे को बाहर निकालने की मांग कर रहे हैं। उधर, सोमवार को हुई हिंसा में मरने वालों का आंकड़ा मंगलवार को 8 हो गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पूर्व PM महिंदा राजपक्षे और उनके परिवार ने पूर्वी श्रीलंका के त्रिंकोमाली नेवल बेस में पनाह ली है। उन्हें एक हेलिकॉप्टर के जरिए बेस तक ले जाया गया। इस बीच, श्रीलंका की डिफेंस मिनिस्ट्री ने एक ऑर्डर जारी किया है। इसमें सेना को हिंसा और लूटपाट करने वालों को गोली मारने का अधिकार दिया गया है।

इस बीच, श्रीलंका में जारी संकट के बीच भारत ने मंगलवार को मदद का वादा किया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा- श्रीलंका में स्थिरता और आर्थिक सुधार के लिए भारत पूरी मदद करेगा। श्रीलंका के लिए भारत इस साल 3.5 बिलियन डॉलर (करीब 27 हजार करोड़ रुपए) की मदद भेज चुका है।

श्रीलंका संकट के बड़े अपडेट्स...

  • कोलंबो में मंगलवार को भीड़ ने पश्चिमी प्रांत के सीनियर DIG देशबंधु तेनाकून पर हमला किया। बाद में उनके वाहन में भी आग लगा दी गई।
  • श्रीलंका में मौजूद भारतीय दूतावास ने मंगलवार रात एक बयान जारी किया। कहा- सोशल मीडिया और कुछ मेन स्ट्रीम मीडिया पर मौजूद कुछ खबरों में कहा गया है कि श्रीलंका की कुछ सियासी हस्तियां परिवार समेत भारत पहुंची हैं। हम इनका खंडन करते हैं। ये बेबुनियाद रिपोर्ट्स हैं।
  • श्रीलंका में फंसे भारतीयों के लिए हेल्पलाइन नंबर +94-773727832 और ईमेल ID cons.colombo@mea.gov.in जारी की गई है।
  • श्रीलंकाई सांसद जनक बंडारा तेनाकून के दांबुला स्थित घर में आग लगा दी गई।
  • श्रीलंका बार एसोसिएशन ने लोगों को घरों से नहीं निकलने की अपील की।
  • प्रदर्शनकारियों ने पूर्व मंत्री रोहिता अबेगुणवर्धने के आवास पर हमला किया।
  • हिंसक प्रदर्शनों के बीच सोमवार को पूरे देश में कर्फ्यू लगा दिया गया।

श्रीलंका में हालात बेकाबू:सड़कों पर सेना और प्रदर्शनकारी भिड़े, कर्फ्यू नाकाम- सेना तैनात; देखें 10 फोटोज

महिंदा को गिरफ्तार करने की मांग

प्रदर्शनकारियों ने पूर्व मंत्री जॉनसन फर्नांडो को कार समेत कोलंबो की बीरा झील में फेंक दिया।
प्रदर्शनकारियों ने पूर्व मंत्री जॉनसन फर्नांडो को कार समेत कोलंबो की बीरा झील में फेंक दिया।

विपक्षी नेताओं ने मंगलवार को महिंदा को गिरफ्तार करने की मांग की है। इनका कहना है कि महिंदा ने शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे लोगों को उकसाया और हिंसा भड़काई। प्रदर्शनकारियों ने सोमवार को हंबनटोटा में महिंदा राजपक्षे के पुश्तैनी घर को आग के हवाले कर दिया। वहीं, राजधानी कोलंबो में पूर्व मंत्री जॉनसन फर्नांडो को कार सहित झील में फेंक दिया गया। अब तक 12 से ज्यादा मंत्रियों के घर जलाए जा चुके हैं।

प्रधानमंत्री आवास के अंदर फायरिंग
न्यूज एजेंसी AFP के मुताबिक, सोमवार को हजारों प्रदर्शनकारियों ने PM के आधिकारिक आवास 'टेम्पल ट्री' का मेन गेट तोड़ दिया, यहां खड़े ट्रक में आग लगा थी। इसके बाद आवास के अंदर गोलीबारी भी की गई। उग्र होती भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे और हवाई फायरिंग की।

श्रीलंका में अब 12 से ज्यादा मंत्रियों के घर जलाए जा चुके हैं।
श्रीलंका में अब 12 से ज्यादा मंत्रियों के घर जलाए जा चुके हैं।

श्रीलंका 1996 वर्ल्ड कप विजेता टीम के कप्तान अर्जुन रणतुंगा ने PM आवास पर हिंसा के लिए श्रीलंका पोडुजाना पेरामुना (SLPP) पार्टी को जिम्मेदार ठहराया है। रणतुंगा ने कहा कि SLPP ने ही लोगों की हिंसक भीड़ को इकट्ठा किया था।

विपक्ष के दबाव में श्रीलंका के PM का इस्तीफा:सरकार समर्थक-विरोधियों की हिंसा में सांसद की मौत, पूर्व मंत्री का घर जलाया

श्रीलंकाई सांसद अमरकीर्ति अथुकोरला की मौत
बीते दिन श्रीलंकाई सांसद अमरकीर्ति अथुकोरला की मौत की खबर भी सामने आई थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमरकीर्ति ने प्रदर्शनकारियों पर फायरिंग कर दी थी और बाद में भीड़ से बचने के लिए बिल्डिंग में छिप गए। यहीं से उनका शव बरामद हुआ है। हालांकि, अभी तक यह साफ नहीं है कि उनकी मौत किस वजह से हुई है।

चुनावी पोस्टर में अमरकीर्ति नजर आ रहे हैं। उनकी सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मौत से पहले वो भीड़ से घिर गए थे। बचने के लिए फायरिंग की थी। (फाइल)
चुनावी पोस्टर में अमरकीर्ति नजर आ रहे हैं। उनकी सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मौत से पहले वो भीड़ से घिर गए थे। बचने के लिए फायरिंग की थी। (फाइल)

एक महीने में 2 बार लगा आपातकाल
खराब आर्थिक हालात के मद्देनजर आम लोगों ने शुक्रवार को नेशनल असेंबली में हिंसक प्रदर्शन किए थे। इसके बाद राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने फिर से इमरजेंसी लगाने की घोषणा की थी। श्रीलंका में एक महीने बाद दोबारा आपातकाल लगाया गया है। इसके पहले 1 अप्रैल को भी इमरजेंसी लगाई गई थी, जिसे 6 अप्रैल को हटा दिया गया था।

भास्कर कार्टूनिस्ट की नजर से देखिए श्रीलंका संकट...

खबरें और भी हैं...