पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52344.450.04 %
  • NIFTY15683.35-0.05 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47122-0.57 %
  • SILVER(MCX 1 KG)68675-1.23 %
  • Business News
  • International
  • China Bangladesh | China Warning To Bangladesh As Joins US led Quad Alliance; Sheikh Hasina Reply To XI Jinping

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ड्रैगन की धमकी:चीन ने कहा- भारत और अमेरिका वाले क्वॉड ग्रुप में शामिल न हो बांग्लादेश; हसीना सरकार बोली- अपना रास्ता खुद तय करेंगे

बीजिंग/ढाकाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चीन अकसर छोटे देशों को अपने फायदे के लिए कभी लालच तो कभी धमकी का सहारा लेता रहा है। ऐसी ही हरकत उसने हमारे पड़ोसी बांग्लादेश के साथ की, लेकिन बांग्लादेश सरकार ने बीजिंग को दो टूक लहजे में समझा दिया कि वो अपने हितों और भविष्य का फैसला खुद करने में सक्षम है। चीन के रक्षा मंत्री पिछले दिनों ढाका गए थे। उनके लौटने के बाद मंगलवार को चीनी राजदूत ने कहा- बांग्लादेश अगर भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान के क्वॉड ग्रुप में शामिल हुए तो उसे इसका बड़ा खामियाजा उठाना पड़ेगा। इसके बाद बांग्लादेश ने चीन की धमकी का नपे-तुले शब्दों, लेकिन सख्त अंदाज में जवाब दिया।

चीन की धमकी
चीन के रक्षा मंत्री जनरल वेई फेंग पिछले महीने ढाका गए थे। यहां उन्होंने प्रधानमंत्री शेख हसीना और मिलिट्री लीडरशिप से मुलाकात की थी। इस बातचीत का ज्यादा ब्योरा सामने नहीं आया था। इसके बाद मंगलवार को बांग्लादेश में चीनी राजदूत ली जिमिंग का बांग्लादेश को धमकी वाला बयान सामने आया।

जिमिंग ने कहा- ढाका के लिए हमारा मैसेज बहुत साफ है। बांग्लादेश को चीन के खिलाफ बने किसी क्लब या गुट में शामिल नहीं होना चाहिए। अगर ऐसा हुआ तो ढाका को इसका गंभीर नुकसान होगा। बांग्लादेश को साउथ एशिया के बाहर की ताकतों का हमारे साथ मिलकर मुकाबला करना चाहिए।

बांग्लादेश का सटीक जवाब
शेख हसीना सरकार को चीन का यह धमकी वाला अंदाज सख्त नागवार गुजरा। विदेश मंत्री डॉक्टर एके अब्दुल मोमेन ने कहा- हम किसी गुट में शामिल नहीं है। हम अपनी फॉरेन पॉलिसी में बैलेंस रखते हैं। साथ ही ये भी साफ कर देना चाहते हैं कि कोई हमें सिद्धांत नहीं सिखा सकता। हम आजाद मुल्क हैं और खुद अपनी विदेश नीति तय करेंगे।

चीन के राजदूत के बयान का जवाब देते हुए मोमिन ने कहा- वो अपने देश के राजदूत हैं। उनको अपनी राय देने का हक है। चीन नहीं चाहेगा कि हम क्वॉड का हिस्सा बनें। हमसे अभी किसी ने संपर्क भी नहीं किया। चीन इतनी जल्दबाजी में रिएक्शन क्यों दे रहा है।

क्या है क्वॉड
Quad यानी क्वॉड्रिलेटरल सिक्योरिटी डायलॉग। इसमें भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान शामिल हैं। 2007 में इसकी स्थापना हुई। शुरुआत में इसने कुछ खास नहीं किया। 2019 में डोनाल्ड ट्रम्प के दौर यह अचानक और काफी एक्टिव हो गया। कहने को तो यह ट्रेड और कल्चर का प्लेटफॉर्म है, लेकिन सच्चाई यह है कि यह चीन के खिलाफ अघोषित मिलिट्री अलायंस है। चीन को दक्षिण एशिया में दबदबा कायम करने में यह अलायंस सबसे बड़ा खतरा नजर आता है।