पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अमेरिका ने सीरिया में पकड़ा आतंकी:अमेरिका और साथी देशों की मिलिट्री रेड में ISIS का बड़ा लीडर गिरफ्तार, माना जाता है बम बनाने में उस्ताद

सीरिया6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सीरिया में अमेरिका और उसके साथी फौज ने हेलिकॉप्टर से एक गांव में मिलिट्री रेड की थी । रेड में इस्लामिक स्टेट्स ऑफ इराक एंड सीरिया (ISIS) के एक लीडर पकड़ा गया है। यह आतंकी बम बनाने में उस्ताद बताया जा रहा है। एजेंसी के मुताबिक, पकड़े गए आतंकी का नाम हनी अहमद अल-कुर्दी है। बम बनाने के उस्ताद होने के साथ यह ISIS के बड़े लीडर्स में से एक हैं।

रेड सीरिया के उत्तर-पश्चिमी इलाके के अल हुमैरा गांव में हुई थी। यह इलाका सीरिया के खिलाफ लड़ रहे, तुर्की समर्थक बाघियों का हैं। अमेरिकी सेना इस इलाके में ज्यादा ऑपरेशन नहीं करती है।

अल हुमैरा इलाका तुर्की बॉर्डर से सिर्फ 4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।
अल हुमैरा इलाका तुर्की बॉर्डर से सिर्फ 4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

किसी नागरिक को नुकसान नहीं
रिपोर्ट में सामने आया, अमेरिकी सेना के 2 हेलिकॉप्टर अल-हुमैराह गांव में उतरे थे। कुछ देर गोलीबारी हुई, लेकिन 7 मिनट वहां रुकने के बाद दोनों हेलिकॉप्टर वहां से रवाना हो गए। अमेरिकी फौज के मुताबिक- सभी सावधानियों का ध्यान रख कर यह रेड की योजना तैयार की गई। जिससे किसी भी तरह के जान-माल का कम से कम नुकसान हो। स्थानीय लोगों से पता चला, जिस घर में रेड पड़ी वहां 10 लोग रहा करते थे। लेकिन उन्हें यह नहीं पता था कि वह लोग एक परिवार है या नहीं।

अल-हुमैरा गांव के इस घर में अमेरिका और उसके साथी फौज ने रेड की थी।
अल-हुमैरा गांव के इस घर में अमेरिका और उसके साथी फौज ने रेड की थी।

रेड के दौरान मौजूद एक चश्मदीद ने बताया कि फौज ने गांव के बाहरी इलाके के एक घर की तरफ फौज को जाते देखा गया, इस इलाके में सीरिया के अलेप्पो शहर के भगाये गए लोग रहते हैं।

2019 से खराब हालत में ISIS
2019 के सैन्य कार्रवाई के बाद, अमेरिका और उसके साथी फौज ने आतंकी संगठनों को रेगिस्तान में खदेड़ दिया गया। ऐसी ही एक रेड में अमेरिका और उसके साथी फौज ने ISIS के बड़े लीडर अबू बक्र अल-बगदादी को मार गिराया था। सीरिया में बड़े आतंकवादी अब रेगिस्तान में बसे इन छोटे गांव में छुपे रह गए हैं। लेकिन, कई विशेषज्ञों का मानना है कि इन रेगिस्तानी इलाकों से ही ISIS वापिस शक्तिशाली भी हो सकता है।

हालांकि, ISIS नेतृत्व पर अमेरिका और उसके साथी देशों के दबाव की वजह से। और 2019 में मिली करारी हार के बाद, सीरिया और इराक में ISIS की स्थिति कमजोर हो गई है।

खबरें और भी हैं...