पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Happylife
  • California Start up Bionaut Labs Sends Tiny Robots On Voyage Into Brains To Cure Diseases

अब दिमाग में भेजे जाएंगे रोबोट्स:आकार इतना छोटा कि इंजेक्शन के जरिए शरीर में पहुंचेंगे, मानसिक बीमारियों का इलाज करेंगे

कैलिफोर्निया16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मानसिक बीमारियों को ठीक करने के लिए इंसान के दिमाग में रोबोट्स भेजना किसी साइंस फिक्शन मूवी की कहानी लगती है, लेकिन अमेरिका के कैलिफोर्निया में स्थित बायोनॉट लैब्स इसे हकीकत बनाने में जुटा हुआ है। कंपनी के अनुसार, अगले दो सालों में इंसानों पर इस तकनीक का क्लिनिकल ट्रायल भी किया जाएगा।

इंजेक्शन के जरिए भेजे जाएंगे रोबोट्स

माइक्रोरोबोट्स बुलेट के आकार के छोटे मेटल सिलेंडर हैं, जो पहले से प्रोग्राम किए गए रास्ते को फॉलो करते हैं।
माइक्रोरोबोट्स बुलेट के आकार के छोटे मेटल सिलेंडर हैं, जो पहले से प्रोग्राम किए गए रास्ते को फॉलो करते हैं।

माइक्रोरोबोट्स बुलेट के आकार के छोटे मेटल सिलेंडर हैं, जो पहले से प्रोग्राम किए गए रास्ते को फॉलो करते हैं। बायोनॉट लैब्स के CEO माइकल शपिगेलमाकर के अनुसार, ये रोबोट्स इतने सूक्ष्म हैं कि इन्हें इंजेक्शन की मदद से इंसान के शरीर में भेजा जा सकता है। फिर मैग्नेट की मदद से इन्हें दिमाग की ओर गाइड किया जा सकता है।

माइकल कहते हैं कि माइक्रोरोबोट्स का सबसे अच्छा उदाहरण 1966 में आई फिल्म फंटास्टिक वोएज है, जिसमें वैज्ञानिकों की टीम एक सूक्ष्म स्पेसशिप में दिमाग के अंदर खून के थक्के को ठीक करने जाती है।

कैसे काम करते हैं माइक्रोरोबोट्स?

रोबोट्स को दिमाग की तरफ भेजने के लिए मैग्नेटिक एनर्जी का इस्तेमाल किया गया है।
रोबोट्स को दिमाग की तरफ भेजने के लिए मैग्नेटिक एनर्जी का इस्तेमाल किया गया है।

बायोनॉट लैब्स ने जर्मनी के मैक्स प्लांक रिसर्च इंस्टीट्यूट के साथ मिलकर रोबोट्स को विकसित किया है। रोबोट्स को दिमाग की तरफ भेजने के लिए उन्होंने अल्ट्रासोनिक या ऑप्टिकल एनर्जी की जगह मैग्नेटिक एनर्जी का इस्तेमाल किया, क्योंकि यह शरीर को नुकसान नहीं पहुंचाता है।

ये मैग्नेटिक कॉइल मरीज के सिर पर लगाकर इसे एक कंप्यूटर से लिंक किया गया। इसकी मदद से रोबोट्स को सही दिशा में ले जाया जा सकता है और दिमाग के प्रभावित हिस्से को ठीक किया जा सकता है। इस पूरे डिवाइस को आसानी से कहीं भी ले जाया जा सकता है और ये MRI स्कैन के मुकाबले 10 से 100 गुना कम बिजली इस्तेमाल करता है।

माइक्रोरोबोट्स करेंगे बड़ी बीमारियों का इलाज

माइक्रोरोबोट्स दिमाग में कैंसर ट्यूमर्स, एपिलेप्सी, पार्किंसंस डिजीज और स्ट्रोक का इलाज करने के भी कम आ सकेंगे।
माइक्रोरोबोट्स दिमाग में कैंसर ट्यूमर्स, एपिलेप्सी, पार्किंसंस डिजीज और स्ट्रोक का इलाज करने के भी कम आ सकेंगे।

न्यूज एजेंसी AFP की रिपोर्ट के मुताबिक, माइक्रोरोबोट्स डैंडी-वॉकर सिंड्रोम का इलाज कर सकेंगे। यह एक जन्मजात बीमारी है जिसके चलते दिमाग के अंदर फ्लुइड भरने लगता है और एक गोल्फ बॉल की साइज तक के सिस्ट भी पनपने लगते हैं। इससे मस्तिष्क पर दबाव बढ़ता है और दिमाग और शरीर का संतुलन नहीं बैठ पाता। माइक्रोरोबोट्स दिमाग में कैंसर ट्यूमर्स, एपिलेप्सी, पार्किंसंस डिजीज और स्ट्रोक का इलाज करने के भी कम आ सकेंगे।

जानवरों पर हो चुका ट्रायल
माइकल का कहना है कि उनकी कंपनी भेड़ों और सुअरों जैसे बड़े जानवरों पर इस तकनीक का प्रयोग कर चुकी है। ट्रायल के नतीजे बताते हैं कि तकनीक इंसानों के लिए भी सुरक्षित है। बायोनॉट लैब्स को पिछले साल अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) से अप्रूवल मिल चुका है।

खबरें और भी हैं...