पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टिकट पर घमासान:टिकट कटने पर मोहिंदर केपी बोले- पार्टी का फैसला नामंजूर, 17 को लूंगा बड़ा फैसला

जालंधर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
30 दिन में बदला टिकट का गणित- पार्टी जॉइन करते समय कोटली ने छूए थे पैर (फाइल फोटो) - Money Bhaskar
30 दिन में बदला टिकट का गणित- पार्टी जॉइन करते समय कोटली ने छूए थे पैर (फाइल फोटो)
  • कांग्रेस की पहली लिस्ट जारी, जालंधर और मोगा में विरोध
  • 17 दिसंबर को बसपा से कांग्रेस में आए कोटली को आदमपुर से मिला टिकट
  • 30 दिन में बदला टिकट का गणित- पार्टी जॉइन करते समय कोटली ने छूए थे पैर

दोआबा की आरक्षित सीटों में सबसे हॉट सीट माने जानी वाली आदमपुर (जालंधर) पर मोहिंदर सिंह केपी का टिकट कट गया है। अब उनकी जगह पर 17 दिसंबर को बसपा से कांग्रेस मंे आए महासचिव (पंजाब) सुखविंदर सिंह कोटली को टिकट दिया गया है। यहां से शिअद के लोग कोटली को कमजोर बता रहे हैं, जबकि कांग्रेस हाईकमान की सोच है कि जो दौरे सीएम चन्नी ने यहां किए हैं, उन्हीं के दम पर लोग कोटली को मतदान करेंगे।

दूसरी तरफ, टिकट कटने पर ना सिर्फ केपी बल्कि उनके समर्थकों में भी भारी रोष देखा जा रहा है। केपी इस सीट के प्रबल दावेदारों में से एक थे। वह सीएम चरणजीत सिंह चन्नी के रिश्तेदार भी हैं। हालांकि, 2017 में आदमपुर सीट से केपी को शिअद के पवन टीनू के हाथों पराजय मिली थी। केपी ने मीडिया से कहा कि अब वे 17 जनवरी को अपने समर्थकों से पूछकर आगे की रणनीति बनाएंगे। आदमपुर सीट पर शिअद के पवन टीनू दो बार से विधायक हैं। वह बसपा से शिअद में आए थे। अब कांग्रेस के जो उम्मीदवार हैं, वह भी बसपा से ही आए हैं। सुखविंदर कोटली राजनीति में टीनू के पुराने साथी हैं। अगर सीएम चन्नी या फिर केपी यहां से लड़ते तो परिदृश्य शायद अलग होता।

30 दिन में बदला टिकट का गणित- पार्टी जॉइन करते समय कोटली ने छूए थे पैर

ये तस्वीर मजह 30 दिन पुरानी है। सीएम चन्नी ने 17 दिसंबर 2021 को जालंधर की प्रतापपुरा दाना मंडी में रैली के दौरान बसपा के पंजाब महासचिव सुखविंदर सिंह कोटली को कांग्रेस जॉइन करवाई थी। इस दौरान कोटली ने मोहिंदर केपी के पैर छुए थे। उस समय सीएम चन्नी भी साथ थे जो कि केपी के रिश्तेदार भी हैं। आज उन्हीं कोटली को आदमपुर विस हलके से कैंडिडेट बनाया गया है। यहां मोहिंदर सिंह केपी की टिकट कटा। केपी पार्टी के फैसले से नाराज हैं।

कांग्रेस से टिकट कटने पर विधायक हरजोत कमल ने जॉइन की भाजपा

कांग्रेस पार्टी के मौजूदा विधायक डॉ. हरजोत कमल ने कांग्रेस द्वारा टिकट न दिए जाने पर शनिवार शाम को चंडीगढ़ में भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया है। कमल ने कहा कि अगर मोगा से सोनू सूद खुद चुनाव लड़ते तो उन्हें मलाल न होता, लेकिन छोटी बहन मालविका उनके राजनीति कैरियर के सामने बहुत छोटी हैं। कांग्रेस पार्टी ने उन्हें टिकट देकर गलत फैसला लिया है। पार्टी ने अन्य जगह से लड़ने की पेशकश की थी, लेकिन वह मोगा से ही चुनाव लड़ेंगे।

जोगिंदर सिंह मान और डॉ. वजीर सिंह जस्सल कांग्रेस छोड़ आप’ में शामिल

कांग्रेस के सीनियर नेता जोगिंदर सिंह मान और डॉ. वजीर सिंह जस्सल शनिवार को आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए। कांग्रेस से 5 दशक पुराना नाता तोड़ते हुए मान ने शुक्रवार को इस्तीफा दिया था। वहीं, आप के वरिष्ठ और नेता प्रतिपक्ष हरपाल सिंह चीमा ने जस्सल को औपचारिक तौर पर पार्टी में शामिल कराया।

मैंने पार्टी को अपनी जिंदगी दी, मुझे यह सिला मिला- मोहिंदर सिंह केपी

Q. क्या आपको उम्मीद थी कि आपको पार्टी हाईकमान टिकट नहीं देगा ?
-मैं फैसले से सहमत नहीं हूं। पार्टी के लिए जिंदगी दी है, मुझे यह सिला मिला।

Q. क्या पार्टी ने आपके लिए कोई अन्य महत्वपूर्ण भूमिका का प्रस्ताव दिया है?
-नहीं। ऑफर नहीं मिला। मैं किसी दूसरे हलके में कोई भूमिका नहीं चाहता।

Q. अब आपकी आगे की क्या रणनीति है?
-17 जनवरी को समर्थकों से सलाह करने के बाद अगली रणनीति तय करूंगा। मैं, पार्टी के फैसले से बहुत आहत हूं।

खबरें और भी हैं...