• Home
  • Economy
  • RBI cancels license of 104 year old co operative bank CKP bank, FD stuck of Rs 485 crore

फैसला /104 साल पुराने सहकारी बैंक सीकेपी बैंक का लाइसेंस आरबीआई ने किया रद्द, 485 करोड़ रुपए की एफडी फंसी

लॉकडाउन में सीकेपी का लाइसेंस रद्द होने से बैंक के ग्राहक अब पीएमसी बैंक की तरह हंगामा भी नहीं मचा पाएंगे लॉकडाउन में सीकेपी का लाइसेंस रद्द होने से बैंक के ग्राहक अब पीएमसी बैंक की तरह हंगामा भी नहीं मचा पाएंगे

  • हाल में पीएमसी बैंक में गड़बड़ी से खाताधारक हुए थे परेशान
  • 1915 में सीकेपी बैंक को मुंबई के माटुंगा से किया गया था चालू

Moneybhaskar.com

May 02,2020 02:00:00 PM IST

मुंबई. मुंबई और ठाणे जिले में फैले 104 साल पुराने सहकारी बैंक सीकेपी बैंक का लाइसेंस भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रद्द कर दिया है। इससे 485 करोड़ रुपए की एफडी अधर में लटक गई है। यह बैंक 1915 में चालू हुआ था। इससे पहले हाल में पीएमसी बैंक में गड़बड़ी से खाताधारकों को परेशानी हुई थी। हालांकि इस पर अभी भी आरबीआई का प्रतिबंध चालू है।

बैंक में ग्राहकों की है 485 करोड़ रुपए की एफडी

गुरुवार देर रात आरबीआई ने इस आशय की सूचना जारी की। लाइसेंस के रद्द होने से बैंक के करीब 11,500 जमाकर्ताओं-निवेशकों और सवा लाख के करीब खाताधारकों पर संकट खड़ा हो गया है। बैंक की 485 करोड़ रुपये की एफडी भी अधर में अटक गई है। मुंबई के माटुंगा में इस बैंक का प्रमुख कार्यालय है और मुंबई तथा ठाणे जिले में इसकी कुल 8 शाखाएं हैं।

नेटवर्थ में बड़ी गिरावट से बैंक का लाइसेंस हुआ रद्द

आरबीआई के मुताबिक बैंक का घाटा बढ़ने और नेट वर्थ में बड़ी गिरावट आने के कारण बैंक के लेन-देन पर साल 2014 में प्रतिबंध लगाया गया था। उसके बाद इस प्रतिबंध को कई बार बढ़ाया गया। इस बार प्रतिबंध की अवधि 31 मई तक थी। इसे 31 मार्च को खत्म होने पर बढ़ाया गया था। पर बैंक की हालत में सुधार न होने पर आरबीआई ने उससे पहले ही कदम उठा लिया। कई बार बैंक का घाटा कम करने का प्रयत्न किया गया। इसके लिए निवेशकों-जमाकर्ताओं ने भी प्रयत्न किया था। इन्होंने ब्याज दर में कटौती की थी। ब्याज दर 2 प्रतिशत तक लाई गई थी।

साल 2016 में बैंक का नेटवर्थ 146 करोड़ रुपए था

कुछ लोगों ने अपने एफडी को शेयर में निवेश कर लिया था और कुछ हद तक उसके परिणाम भी दिखाई देने लगे थे। बैंक का घाटा कम हो रहा था। ऐसे में आरबीआई ने सीकेपी बैंक का लाइसेंस रद्द करके निवेशकों को बड़ा झटका दिया है। सीकेपी बैंक के नेट वर्थ में गिरावट इसके लाइसेंस रद्द करने का कारण बना। साल 2016 में बैंक की नेट वर्थ 230 करोड़ रुपये था। वह अब 146 करोड़ रुपये पर पहुंच गई है।

X
लॉकडाउन में सीकेपी का लाइसेंस रद्द होने से बैंक के ग्राहक अब पीएमसी बैंक की तरह हंगामा भी नहीं मचा पाएंगेलॉकडाउन में सीकेपी का लाइसेंस रद्द होने से बैंक के ग्राहक अब पीएमसी बैंक की तरह हंगामा भी नहीं मचा पाएंगे

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.