• Home
  • Economy
  • Despite the rise in gold prices, the share price of Titan fell by 30 percent, Jhunjhunwala has a big investment

नुकसान /सोने की कीमतों में बढ़त के बावजूद टाइटन के शेयरों की कीमत 30 प्रतिशत गिरी, झुनझुनवाला का है बड़ा निवेश

वैश्विक स्तर पर माहौल विपरीत होने से सोने की बिक्री में गिरावट आई है वैश्विक स्तर पर माहौल विपरीत होने से सोने की बिक्री में गिरावट आई है

  • 6 महीने में सोने की कीमतों में 27 प्रतिशत की वृद्धि
  • शादियों के रद्द होने से सोने की बिक्री घट रही है

Moneybhaskar.com

May 19,2020 03:02:00 PM IST

मुंबई. पिछले 6 महीनों में सोने की कीमतें 27 प्रतिशत बढ़ चुकी हैं। लेकिन इसी अवधि में सोने का कारोबार करनेवाली टाइटन समूह के शेयरों में 30 प्रतिशत की गिरावट आई है। टाटा समूह की इस कंपनी में देश के प्रसिद्ध निवेश राकेश झुनझुनवाला की बड़ी हिस्सेदारी है। पर अब शेयरों में गिरावट से उनके पोर्टफोलियो में टाइटन घाटा देनेवाला शेयर साबित हुआ है।

37,000 रुपए प्रति दस ग्राम से बढ़कर 47,000 रुपए पर पहुंची कीमत

एक दिसंबर को घरेलू बाजार में सोने की कीमत 37,000 रुपए प्रति 10 ग्राम थी। जो अब 27 प्रतिशत से अधिक बढ़कर 47,000 रुपए हो गई है। लेकिन टाइटन के शेयर 30 फीसदी गिरे हैं। यह 15 साल के रुझान के उलट है जो शेयर और सोने की कीमत के बीच 0.8 प्रतिशत कोरीलेशन करता है। इसका मतलब होता है कि दोनों की कीमतें साथ-साथ चलती हैं।

इस बार झुनझुनवाला का आइडिया काम नहीं आया

बिग बुल राकेश झुनझुनवाला का पोर्टफोलियो इस अर्थ में अनूठा होता है कि जब भी कोई वैश्विक संकट या अनिश्चितता शुरू होती है, तो उनका दूसरा रास्ता खुद शुरू हो जाता है। क्योंकि यही अनिश्चितता सोने की कीमतों को बढ़ा देती हैं। इसके बदले में इस विशेषज्ञ निवेशक को लाभ होता है। सोने की कीमतों में हर 100 बीपीएस की वृद्धि के लिए, कंपनी के ऑपरेटिंग मुनाफे में कम से 2 प्रतिशत की वृद्धि की संभावना होती है। परंतु यह आइडिया इस बार काम नहीं कर रहा है। क्योंकि पूरे विश्व का माहौल प्रतिकूल हो गया लगता है।

सोने की कीमत में अचानक वृद्धि हानिकारक है

कई ब्रोकरेज ने टाइटन के स्टॉक को ' बेचने ' के लिए अपनी रेटिंग में कटौती करते हुए कहा है कि यह कोविड-19 प्रूफ नहीं है। जो लोग लांग टर्म क्षमता देखते हैं, वे निवेशकों को बेहतर समय के लिए प्रतीक्षा करने की सलाह देते हैं। झुनझुनवाला के 4,000 करोड़ रुपए के पोर्टफोलियो में टाइटन सबसे बाद दांव है। सोने की कीमत में कोई भी अचानक छलांग जूलरी के लिए हानिकारक है। क्योंकि उपभोक्ता खरीद में देरी करते हैं औऱ करेक्शन का इंतजार करते हैं। इस तरह कंपनी के मार्जिन में सुधार होता है। क्योंकि कंपनी वित्त वर्ष 2009 के बाद से सोने की कीमतों के प्रतिशत के रूप में मेकिंग चार्ज लगाने की प्रक्रिया में चली गई थी। टाइटन में पहले एक निश्चित मेकिंग चार्ज हुआ करता था।

तीन फॉर्मेट में शोरूम ऑपरेट करती है टाइटन

इसके अलावा टाइटन का ज्वैलरी ब्रांड तनिष्क तीन स्टोर फॉर्मेट के साथ ऑपरेट करता है-L1, L2 और L3 का इसमें समावेश है। L1 के मामले में, इन्वेंट्री और स्टोर संचालन दोनों टाइटन द्वारा नियंत्रित होते हैं। L2 में इन्वेंट्री टाइटन है, स्टोर ऑपरेशंस को फ्रेंचाइजी द्वारा मैनेज किया जाता है। अंत में, L3 में दोनों इन्वेंट्री और स्टोर संचालन फ्रेंचाइजी द्वारा मैनेज किए जाते हैं। स्टोर नेटवर्क लगभग समान रूप से इन तीन प्रारूपों के बीच विभाजित है।

इस साल में शादी की तारीखें 54 प्रतिशत कमआईसीआईसीआई सिक्योरिटीज ने कहा कि सोने की कीमत में जो मुद्रास्फीति और L3 फ्रेंचाइजी अपनी इन्वेंट्री से बचाव नहीं करते हैं (जो सीधे टाइटन से खरीदा जाता है), वे इन्वेंट्री से भारी लाभ लेने को बैठे हैं। इससे स्टोर बंद होने का जोखिम कम हो जाता है। हालांकि सोने की कीमतें जूलरी की मांग को कम करने के लिए पर्याप्त थीं, लेकिन कोविड 19 ने मुश्किलों में इजाफा ही किया है। प्रभुदास लीलाधर ब्रोकरेज हाउस ने कहा कि वित्त वर्ष 21 में शादी के सीजन के वाइपआउट के कारण तनिष्क की बिक्री को पहली छमाही में बड़ा धक्का लगेगा। इसकी वजह यह भी है कि साल में शादी की तारीखें 54 फीसदी कम होंगी।

श्राद्ध में नहीं खरीदते हैं सोना

फिलिप कैपिटल के मुताबिक, आदिक मास भी आने वाला है। हिंदुओं द्वारा इसे किसी कार्य के लिए शुभ नहीं मानते हैं। यह समय हर 32 महीने में आता है। इसके अलावा यह वर्ष भी श्राद्ध के साथ मेल खाता है - जिसे खरीदारी के लिए अशुभ माना जाता है। इसमें पूर्वजों की आत्माओं को खुश करने के लिए अनुष्ठान किए जाते हैं। गोल्ड एक्सचेंज स्कीम से बढ़े योगदान ने टाइटन की वित्त वर्ष 2020 की तीसरी तिमाही में बिक्री का 42 प्रतिशत योगदान दिया।

शॉपिंग माल बंद होने से बिक्री पर असर

प्रॉफिट देने वाले और बड़े L1 स्टोर के कई मॉल शॉपिंग मालों में स्थित हैं। इसलिए, सोशल डिस्टेंसिंग मानदंडों का पालन तनिष्क के लिए मामलों को बदतर बना देगा। शादियों, त्योहार समारोहों और सामाजिक समारोहों के रद्द होने से भी मुश्किलें बढ़नी तय है। टाइटन पर ' सेल ' रेटिंग देने वाले फिलिप कैपिटल ने कहा कि परिवार द्वारा संचालित ज्वैलर्स अब ज्यादा आरामदायक स्थिति में हैं।

X
वैश्विक स्तर पर माहौल विपरीत होने से सोने की बिक्री में गिरावट आई हैवैश्विक स्तर पर माहौल विपरीत होने से सोने की बिक्री में गिरावट आई है

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.