• Home
  • Delhi Coronavirus Cases/Government Hospitals Beds Update | Confirmed Corona Infections Cases In Delhi, 1460 COVID Infected over 10 Lakh Population

दिल्ली में कोरोना /83 कोविड अस्पतालों में 50% से भी कम बेड खाली; चिंता इसलिए, क्योंकि यहां हर 10 लाख आबादी पर 1460 संक्रमित, देश में सबसे ज्यादा

  • दिल्ली में 9 सरकारी और 74 निजी कोविड अस्पताल, इनमें 8575 बेड, अब सिर्फ 4162 बेड खाली
  • दिल्ली में महाराष्ट्र, तमिलनाडु से कम केस, लेकिन यहां हर 10 लाख आबादी पर संक्रमितों और मौतों की संख्या देश में सबसे ज्यादा
  • पिछले 10 दिन में यहां टेस्ट घटे, फिर भी रोज एक हजार से ज्यादा मामले आए; जांच में 21% पॉजिटिव निकले

मनी भास्कर

Jun 09,2020 08:25:12 AM IST

नई दिल्ली. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को फैसला लिया कि दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में सिर्फ दिल्लीवालों का इलाज होगा। हालांकि, केंद्र सरकार के अधीन आने वाले अस्पताल सभी के लिए खुले रहेंगे, लेकिन फैसले के एक दिन बाद ही उपराज्यपाल अनिल बैजल ने इस फैसले को पलट दिया। सरकार को यह फैसला इसलिए लेना पड़ा था, क्योंकि 5 डॉक्टरों की कमेटी ने एक रिपोर्ट पेश की थी, जिसमें कहा गया था कि दिल्ली के अस्पतालों में बाहरी लोगों का इलाज हुआ तो कोरोना के मरीजों के लिए रिजर्व किए गए 9 हजार बेड 3 दिन में भर जाएंगे।

17 हजार 712 एक्टिव केस

रिपोर्ट में ऐसी सिफारिश इसलिए, क्योंकि राजधानी में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। covid19india.org के मुताबिक, दिल्ली में 8 जून तक कोरोना के करीब 30 हजार केस मिले। 874 की मौत हुई। यहां 17 हजार 712 एक्टिव केस हैं। दिल्ली सरकार के आंकड़ों के मुताबिक, राज्य में 83 कोविड अस्पताल हैं। इनमें 8 हजार 575 बेड हैं। इनमें से 4 हजार 413 बेड पर मरीज हैं, जबकि 4 हजार 162 बेड खाली हैं। यानी, जितने बेड हैं उनमें से अब 50% से भी कम ही खाली हैं।

प्राइवेट अस्पतालों में 32.5% बेड खाली

83 कोविड अस्पतालों में 9 सरकारी और 74 निजी अस्पताल हैं। सरकारी की तुलना में निजी अस्पतालों के ज्यादातर बेड पर मरीज हैं। निजी अस्पतालों में 2 हजार 887 बेड हैं। इनमें से अब 937 यानी 32.5% बेड ही खाली हैं। जबकि, सरकारी अस्पतालों के 5 हजार 678 बिस्तरों में से 3 हजार 215, यानी 57% खाली हैं। यहां 518 वेंटिलेटर बेड में से 251 पर मरीज हैं, जबकि 267 ही खाली हैं। इन सबके अलावा, 7 जून तक कोविड हेल्थ सेंटर में 101 और कोविड केयर सेंटर में 4 हजार 474 बेड खाली बचे हैं।

दिल्ली में कितने अस्पताल, कितने डॉक्टर?
सेंटर फॉर डिसीज डायनामिक्स, इकोनॉमिक्स एंड पॉलिसी यानी सीडीडीईपी की रिपोर्ट बताती है कि देश में सिर्फ 69 हजार 264 अस्पताल हैं। इनमें से दिल्ली में 176 अस्पताल हैं। इनमें 109 सरकारी और 67 प्राइवेट हैं। हमारे यहां अस्पतालों के साथ डॉक्टरों की भी कमी है। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने 30 सितंबर 2019 को लोकसभा में दिए जवाब में बताया था कि देश में 12 लाख के आसपास एलोपैथिक डॉक्टर हैं। दिल्ली में 24 हजार 999 डॉक्टर हैं। सबसे ज्यादा 1 लाख 79 हजार 783 डॉक्टर महाराष्ट्र में हैं। दूसरे नंबर पर तमिलनाडु है। जहां 1 लाख 38 हजार 821 डॉक्टर हैं।

चिंता का एक कारण ये भी: हर 10 लाख में से 1460 संक्रमित
सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमितों की संख्या के मामलों में दिल्ली देश में तीसरे नंबर पर है। 2019 तक के आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली की आबादी 1.98 करोड़ के आसपास है। दिल्ली में मामले भले ही महाराष्ट्र और तमिलनाडु से कम हैं, लेकिन यहां हर 10 लाख आबादी में से 1 हजार 460 लोग संक्रमित हैं। ये आंकड़ा देश में सबसे ज्यादा है।

10 दिन में दिल्ली में टेस्ट घटे, लेकिन रोज 1000 से ज्यादा मामले आ रहे
दिल्ली में 28 मई को 1 हजार 24 मामले आए थे। तब पहली बार आंकड़ा एक दिन में 1000 से ऊपर गया था। इसके बाद से रोजाना हजार से ज्यादा नए मामले आ रहे हैं। 29 मई को यहां 7 हजार 649 लोगों की जांच हुई, लेकिन उसके बाद से यहां रोजाना टेस्ट की संख्या में कमी आने लगी। 1 जून को सिर्फ 4 हजार 753 लोगों के टेस्ट हुए, तो इस दिन 990 ही नए मामले आए।

जांचे गए 21% लोग पॉजिटिव निकले

अगले दिन 2 जून को 6 हजार 70 लोगों के टेस्ट हुए तो 1 हजार 298 मरीज मिल गए। इसी तरह 7 जून को यहां 5 हजार 42 टेस्ट हुए, लेकिन 1 हजार 282 नए मामले सामने आए। इतना ही नहीं, पिछले 10 दिन में 59 हजार 938 लोगों की कोरोना जांच हुई है, इनमें से 12 हजार 655 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। यानी, जांचे गए 21% से ज्यादा लोग कोरोना पॉजिटिव निकले। इसका मतलब यही हुआ कि जितने ज्यादा टेस्ट होंगे, उतने ज्यादा नए मामले सामने आएंगे।

दिल्ली ऐसा राज्य जहां 10 लाख आबादी पर सबसे ज्यादा टेस्ट हुए
1 अप्रैल तक देश में हर 10 लाख लोगों में से सिर्फ 32 लोगों की ही जांच हो रही थी। लेकिन, अब ये आंकड़ा 3 हजार 581 पर पहुंच गया। वहीं, राज्यों की बात करें तो दिल्ली ही ऐसा राज्य है जहां हर 10 लाख लोगों में से सबसे ज्यादा 12 हजार 714 लोगों की जांच हो रही है। दूसरे नंबर पर तमिलनाडु है, जहां हर 10 लाख में से 7 हजार 834 लोगों की जांच हुई है।

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.