पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52574.460.44 %
  • NIFTY15746.50.4 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47005-0.25 %
  • SILVER(MCX 1 KG)67877-1.16 %

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भास्कर एक्सप्लेनर:फरार हैं दो बार के ओलिंपिक मेडलिस्ट सुशील, लुकआउट नोटिस जारी, जानिए क्या है पूरा मामला?

एक महीने पहलेलेखक: जयदेव सिंह
  • कॉपी लिंक

दो बार के ओलिंपिक पदक विजेता रेसलर सुशील कुमार के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने लुकआउट नोटिस जारी किया है। सुशील पर दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में हुई झड़प में शामिल होने का आरोप है। इस झड़प में 23 साल के पूर्व जूनियर नेशनल रेसलिंग चैंपियन की मौत हो गई थी। पिछले एक हफ्ते से दिल्ली पुलिस सुशील की तलाश में जगह-जगह छापेमारी कर रही है।

आखिर ये पूरा मामला है क्या? सुशील पर क्या आरोप लगे हैं? किस बात को लेकर विवाद चल रहा था? जिस रेसलर की मौत हुई वो कौन था? सुशील और उनके परिवार का इस मामले में क्या कहना है? पुलिस ने अब तक इस केस में क्या कार्रवाई की है? आइए जानते हैं...

पूरा मामला है क्या?
4 मई की देर रात छत्रसाल स्टेडियम में पहलवानों के दो गुटों के बीच मारपीट हुई। पुलिस के मुताबिक, घटना रात में 1.15 से 1.30 के बीच स्टेडियम के पार्किंग एरिया में हुई। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची, तो वहां 5 गाड़ियां खड़ी मिलीं। इसमें सागर धनखड़ (23), सोनू महाल (37) और अमित कुमार (27) और दो अन्य पहलवान घायल हुए। इलाज के दौरान सागर की मौत हो गई। सागर पूर्व जूनियर नेशनल चैंपियन और दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल का बेटा था। वहीं सोनू महाल गैंगस्टर काला जत्थेदी का सहयोगी है। उसे पहले एक लूट और हत्या मामले में गिरफ्तार किया गया था।

किस बात को लेकर विवाद चल रहा था?
बताया जा रहा है कि सागर और उसके दोस्त जिस घर में रहते थे, सुशील उसे खाली करने का दबाव बना रहे थे। इसी बात को लेकर झगड़ा हुआ। झगड़े की एक वजह टशन भी बताई जा रही है।

सुशील और उनके परिवार का इस मामले में क्या कहना है?
गायब होने से पहले सुशील ने मामले में सफाई दी थी। उन्होंने कहा कि वे हमारे साथी पहलवान नहीं थे। हमने पुलिस अधिकारियों को सूचित किया था कि कुछ अज्ञात लोग हमारे परिसर में घुसकर झगड़ा कर रहे हैं। घटना के साथ हमारे स्टेडियम का कोई संबंध नहीं है।

वहीं, सुशील के फरार होने पर उनके परिवार का कहना है कि सुशील का नाम गलत तरीके से घसीटा जा रहा है। सुशील जल्द सबके सामने आएगा, वह भगोड़ा नहीं है। अभी वह कानूनी सलाह ले रहा है। पहली कोशिश गिरफ्तारी से बचने की है, अग्रिम जमानत के लिए कानून विशेषज्ञों से सलाह ले रहे हैं।

पुलिस ने अब तक इस केस में क्या कार्रवाई की है?
पुलिस को घटनास्थल से 5 गाड़ियों के अलावा एक लोडेड डबल बैरल गन और 3 जिंदा कारतूस बरामद हुए। पुलिस ने सुशील के साथी प्रिंस दलाल समेत दो पहलवानों को हिरासत में लेकर पूछताछ की। पूछताछ के बाद प्रिंस दलाल को गिरफ्तार कर लिया गया।

सुशील को गिरफ्तार करने के लिए दिल्ली पुलिस ने दिल्ली-एनसीआर के साथ ही पड़ोसी राज्यों में भी छापेमारी की, लेकिन अब तक सुशील की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। पुलिस ने इस मामले में सुशील के ससुर और कोच सतपाल समेत उनके घरवालों और परिचितों से भी पूछताछ की है।

रविवार को पुलिस ने सुशील के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया। सोमवार को पुलिस ने इसकी जानकारी दी। पुलिस ने इस हत्याकांड में स्टेडियम में काम करने वाले सुरक्षा गार्ड सहित 17 कर्मचारियों से पूछताछ की है। इनमें से अधिकतर ने सुशील और उसके साथियों के खिलाफ बयान दिए हैं।

सागर के परिवार का क्या कहना है?
इस विवाद में सागर की मौत हुई। उनके परिवार का कहना है कि घटना के वक्त सुशील वहां मौजूद थे। पुलिस सूत्रों का कहना है कि पीड़ितों को जबरदस्ती स्टेडियम के अंदर ले जाया गया। उन्हें स्टेडियम के पार्किंग एरिया में ले जाकर मारा-पीटा गया। पुलिस सूत्रों का दावा है कि सुशील इस सब के दौरान वहां मौजूद थे। हालांकि, सुशील के रोल की जांच पुलिस कर रही है।

क्या इस विवाद का सुशील के करियर पर कोई असर पड़ा है?
इस विवाद के बीच सुशील को भारतीय कुश्ती संघ की कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट से बाहर कर दिया गया है। हालांकि, कुश्ती संघ के इस फैसले का सुशील से जुड़े विवाद का कोई सीधा संबंध नहीं है। सुशील ने 2019 विश्व चैंपियनशिप के बाद किसी भी इंटरनेशनल टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं लिया है। लंबे समय से नेशनल और इंटरनेशनल इवेंट में हिस्सा नहीं लेने के कारण कुश्ती संघ ने उन्हें कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट से बाहर कर दिया।

भारतीय कुश्ती संघ के असिस्टेंट सेक्रेटरी विनोद तोमर ने कहा है कि सुशील के इस विवाद से भारतीय कुश्ती की छवि को बहुत नुकसान हुआ है। हालांकि उन्होंने कहा कि कुश्ती संघ का खिलाड़ी मैट के बाहर क्या करते हैं उससे कुश्ती संघ का कोई लेना-देना नहीं है। हमारा फोकस मैट पर खिलाड़ी के प्रदर्शन पर होता है।

क्या से सुशील से जुड़ा इस तरह का पहला विवाद है?
दिसंबर 2017 में गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्‍थ गेम्स के ट्रायल के दौरान सुशील कुमार और रेसलर प्रवीण राणा के समर्थकों के बीच मारपीट हुई थी। प्रवीण राणा ने सुशील पर भी मारपीट का आरोप लगाया था। सुशील के समर्थकों ने प्रवीण राणा के साथ भी मारपीट की थी। प्रवीण राणा के साथ मारपीट के आरोप में सुशील कुमार और उनके समर्थकों के खिलाफ केस भी हुआ था।

2016 में सुशील कुमार ने रियो ओलिंपिक का टिकट न मिलने पर नरसिंह यादव को सुप्रीम कोर्ट में घसीट लिया था। 74 किग्रा वर्ग के लिए नरसिंह यादव का सिलेक्शन तो हुआ, लेकिन सुशील ने खुद को ओलिंपिक में भेजने की पेशकश की थी। बाद में नरसिंह डोप टेस्ट में फेल हो गए और भारत की ओर से इस कैटेगरी में कोई भी खिलाड़ी ओलिंपिक में दावेदारी पेश नहीं कर सका था।

खबरें और भी हैं...