पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59005.270.88 %
  • NIFTY175620.95 %
  • GOLD(MCX 10 GM)463320.4 %
  • SILVER(MCX 1 KG)602350.53 %

भास्कर डेटा स्टोरी:10 ग्राफिक्स में समझिए देश में कैसा चल रहा है वैक्सीनेशन प्रोग्राम, दुनिया के मुकाबले अभी हम कहां पहुंचे?

2 महीने पहलेलेखक: जयदेव सिंह
  • कॉपी लिंक

देश में अब तक 45 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन डोज दिए जा चुके हैं। देश की 7% से ज्यादा आबादी पूरी तरह वैक्सीनेट हो चुकी है। वहीं, 26% से ज्यादा आबादी को वैक्सीन की कम से कम एक डोज लगाई जा चुकी है। अगर दिसंबर तक 100% वयस्क आबादी को वैक्सीनेट करना है तो वैक्सीन कंपनियों को प्रोडक्शन बढ़ाना होगा।

प्राइवेट सेक्टर ने कितना वैक्सीनेशन किया?
सरकार ने मई में तय किया कि 25% वैक्सीन डोज प्राइवेट सेक्टर को दी जाएगी, लेकिन सरकार का ही डेटा कहता है कि पिछले करीब तीन महीने में प्राइवेट सेक्टर ने केवल 7% वैक्सीनेशन किया है। मौजूदा संसद सत्र में सरकार ने राज्यसभा में एक सवाल के जवाब में बताया कि 1 मई से 15 जुलाई के बीच हुए कुल वैक्सीनेशन में से 7% प्राइवेट सेक्टर की ओर से किया गया। कई राज्य सरकारें मांग कर चुकी हैं कि प्राइवेट सेक्टर का कोटा कम किया जाए। कुछ ने तो इसे बंद तक करने की मांग की है।

सरकार ने जुलाई तक कितने वैक्सीन डोज लगाने की बात कही थी?
इस साल मई में सरकार ने दावा किया था कि जुलाई अंत तक 51.6 करोड़ वैक्सीन डोज देश में होगी। महीना खत्म होने को है। ऐसे में जुलाई का टारगेट पूरा होना मुश्किल है। अब तक 45 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन डोज दी जा चुकी हैं। अगले दो दिन में सरकार को टारगेट पूरा करने के लिए हर रोज 2.5 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन डोज लगानी होगी, जबकि इस वक्त औसतन 43 लाख डोज रोज लग रही हैं। ऐसे में अगले दो दिन में ये टारगेट पूरा होना लगभग नामुमकिन है।

टारगेट पूरा नहीं होने के पीछे क्या वजह है?
सरकार के तय टारगेट से पीछे रहने की बड़ी वजह कोवैक्सिन बनाने वाली भारत बायोटेक है। भारत बायोटेक का प्रोडक्शन उम्मीद के मुताबिक नहीं बढ़ पाया है। पिछले करीब साढ़े छह महीने में देश में 45 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन के डोज लगाए जा चुके हैं। इनमें 39 करोड़ से ज्यादा डोज कोवीशील्ड के हैं, जबकि कोवैक्सिन के सिर्फ 6 करोड़ डोज लगाए गए हैं।

रोज लग रहे 46 लाख से ज्यादा डोज
16 जनवरी से देश में वैक्सीनेशन की शुरुआत हुई। पहले ही दिन 1 लाख 91 हजार से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई गई। साढ़े छह महीने बाद 7 दिन के औसत के लिहाज से रोज 46 लाख से ज्यादा वैक्सीन डोज लग रहे हैं। हालांकि जून के अंत में ये रफ्तार और भी ज्यादा थी। 26 जून को 7 दिन औसत के हिसाब से सबसे ज्यादा 64 लाख से अधिक वैक्सीन डोज लगे थे।

दुनियाभर में वैक्सीनेशन की क्या स्थिति है?
दुनिया की करीब 28% आबादी को अब तक वैक्सीन की कम से कम एक डोज लगाई जा चुकी है। 14% से ज्यादा आबादी पूरी तरह वैक्सीनेट हो चुकी है। अब तक 397 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन डोज दी जा चुकी हैं। रोज औसतन 3.4 करोड़ वैक्सीन रोज लगाई जा रही हैं। हालांकि, गरीब देशों की केवल 1.1% आबादी को वैक्सीन की कम से कम एक डोज लग पाई है।

खबरें और भी हैं...