• Home
  • Consumer
  • Quikr’s new tool helps users locate nearest shops, medical centres functioning during 21 day lockdown

कोरोनावायरस /लाॅकडाउन के दौरान Quikr से जानें नजदीकी ग्रॉसरी शॉप और मेडिकल स्टोर, Google बताएगा रहने और खाने का सेंटर, शेयरचैट करेगा जागरूक

  • लाॅकडाउन के दौरान इस ऐप जरिए आप नजदीकी मेडिकल और ग्राॅसरी स्टोर्स के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। साथ ही ग्राहक स्टोर की स्थिति और स्वच्छता से संबंधित जानकारी भी ले पाएंगे।

Moneybhaskar.com

Apr 01,2020 09:58:54 PM IST

नई दिल्ली.. लाॅकडाउन के दौरान अगर आपको अपने नजदीकी मेडिकल शाॅप या फिर किराने की दुकान के बारे में जानना है तो आप क्विकर ऐप की मदद ले सकते हैं। दरअसल, क्लासिफाइड एडवरटाइजमेंट प्लेटफ़ॉर्म क्विकर ने stillopen.in ऐप को लॉन्च किया है। लाॅकडाउन के दौरान इस ऐप जरिए आप नजदीकी मेडिकल और ग्राॅसरी स्टोर्स के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। इसके जरिए ग्राहक स्टोर की स्थिति और स्वच्छता से संबंधित जानकारी भी ले पाएंगे। साथ ही इस ऐप पर आप किराने के सामान की जानकारी के साथ-साथ रिव्यू, तस्वीरों के जरिए अन्य जानकारी भी ले पाएंगे।

क्या कहना है कंपनी का

कंपनी ने अपने बयान में कहा है कि यह देश के लिए संकट का समय है। ऐसे में संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने का एकमात्र तरीका है 'घर में रहना'। इस बीच लोगों को जरूरी सामान के लिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि कहां मेडिकल या फिर ग्राॅसरी की दुकानें खुलीं हैं। नजदीकी दुकानें खुली या फिर बंद हैं? दुकानों में लोगों की भीड़ तो नहीं है ? कितनी जल्दी खरीदारी हो सकती है? इस तरह की तमाम जानकारियां आप इस ऐप के जरिए ले सकेंगे।

इन शहरों के लोगों को मिलेंगी सुविधाएं

यह वर्तमान में यह कंपनी अपनी सेवा बैंगलोर, हैदराबाद, चेन्नई, पुणे, मुंबई, नवी मुंबई, ठाणे, दिल्ली, गुड़गांव, नोएडा, ग्वालियर, गाजियाबाद, फरीदाबाद, लखनऊ, कोलकाता, अहमदाबाद, पटना, इंदौर, जयपुर, कोच्चि, चंडीगढ़, कोयम्बटूर, और सिकंदराबाद समेत 23 शहरों में दे रही है।

Google Maps पर पता कीजिए कहां मिल रहा मुफ्त खाना

Google Maps के जरिए आप दिल्ली सरकार के हंगर रिलीफ सेंटर का पता लगा सकते हैं। जहां आप जरूरतमंदों को जगह के बारे में बताकर मदद कर सकते हैं। दिल्ली सरकार ने लॉकडाउन के दौरान गरीबों, मजदूरों और बेघरों को भरपेट खाना खिलाने की घोषणा की है। केजरीवाल सरकार ने एक कस्टमाइज गूगल मैप शेयर किया है, जिसमें उन स्थानों को चिन्हित किया गया है जहां मुफ्त खाना मिल रहा है। इस मैप पर आपको शेल्टर होम की जानकारी भी मिल जाएगी।

500 से ज्यादा जगहों पर खाने और रहने की व्यवस्था की है

दिल्ली में करीब 500 से ज्यादा जगहों पर खाने और रहने की व्यवस्था की गई है। दिल्ली सरकार द्वारा चलाए जा रहे हंगर रिलीफ केंद्रों में दोपहर 12 बजे से शाम 3 बजे तक दोपहर का खाना परोसा जा रहा है। इसके साथ ही शाम को छह बजे से रात 9 बजे तक रात का खाना परोसा जा रहा है।

ऐसे मिलेगी हंगर रिलीफ सेंटर की जानकारी

  • कोरोनावायरस लॉकडाउन के चलते चलाए जा रहे हंगर रिलीफ सेंटर की जानकारी यहां क्लिक करके जान सकते हैं।
  • इन लोकेशन आप शेयर कर जरूरतमंदों की मदद कर सकते हैं।
  • मैप पर लाल रंग से शेल्टर होम (रहने की जगह) और नीले रंग में स्कूल (जहां खाने की व्यवस्था) को दर्शाया गया है।

शेयर चैट पर शरु हुआ 7 क्षेत्रीय भाषआों में कैंपेन


कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में रोग प्रतिरोध क्षमता बढ़ाने के लिए शेयरचैट पर एक कैपेंन शुरु हुआ है। जिसमें शेयरचैट पर चार दिनों तक #AskSriSriTattva कैम्पेन चलाएगा। यह कैम्पेन सात भाषाओं- हिंदी, गुजराती, मराठी, तमिल, तेलुगू, मलयालम और कन्नड़ में चलाया जाएगा। ब्रांड की ओर से लांच की गई इस चार दिवसीय कैम्पेन का लक्ष्य आयुर्वेद के बारे में जागरुकता उत्पन्न करना है और साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के बारे में पूछे गए प्रश्नों का उत्तर दिया जाएगा तथा यह भी बताया जाएगा कि इस मुश्किल स्थिति में कौन-कौन से निवारक उपाय अपनाए जा सकते हैं। यह कैम्पेन 30 मार्च 2020 से शेयरचैट पर आरंभ हो रही है। यूज़र्स को आमंत्रित किया जा रहा है कि वे अपने सवाल पोस्ट करें और जानें की आयुर्वेद के अभयास एवं जीवनशैली सुधार के जरिए किस प्रकार स्वस्थ रहा जाए। श्री श्री तत्वा के आयुर्वेद वैद्याचार्य भारत के विभिन्न भागों से आने वाले सवालों के जवाब देंगे। शेयरचैट यूज़र्स वीडियो पोस्ट की ओर से अपनी पसंद की भाषा में प्रश्न पूछ सकते हैं।

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.