न्यूयाॅर्क टाइम्स से /कोविड-19 के चलते बच्चों के तनाव को मानसिक अवसाद में तब्दील होने से किस तरह बचाव करें ? 

बच्चे के अंदर की बातों को जानने के लिए आप उनसे बात करें और यह जानने की कोशिश करें कि उन्हें कौन सी बात परेशान कर रही हैं बच्चे के अंदर की बातों को जानने के लिए आप उनसे बात करें और यह जानने की कोशिश करें कि उन्हें कौन सी बात परेशान कर रही हैं

  • कोरोनावायरस के चलते लाॅकडाउन का सदुपयोग कर उनकी प्रगति का मार्ग प्रशस्त कर सकते हैं
  • कोरोनावायरस से लड़ने के लिए इन समय दुनियाभर के कई देशों में लॉकडाउन चल रहा है

Moneybhaskar.com

May 14,2020 04:34:46 PM IST

न्यूयाॅर्क. कोरोनोवायरस महामारी ने एक लाख से अधिक लोगों की जान ले ली है। कोरोनावायरस से लड़ने के लिए इन समय दुनियाभर के कई देशों में लॉकडाउन चल रहा है। लोग अपने घरों में बंद हैं। चारों तरफ कोरोनावायरस को लेकर ही बातें हो रही हैं। ऐसे में बच्चों के मन में नकारात्मक विचारा आना स्वाभाविक है। धीरे-धीरे यह तनाव गहरा अवसाद का रूप ले लेता है और वे अलग-अलग तरह की एक्टिविटीज कर रहे होते हैं। इसे आमतौर पर पैरेंट्स समझ नहीं पाते हैं।

कैलिफोर्निया के एक बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. नादिन बर्क हैरिस ने कहा, तनाव के चलते हार्मोन में बदलाव होता है। कुछ बच्चों में डेली रूटीन में बदलाव के चलते भी इसका असर देखा जा रहा है। लेकिन कुछ मामलों में, तनावपूर्ण घटनाओं को देखने और सुनने के कारण बच्चों में तनाव बढ़ रहा है। साथ ही दिनचर्या का अभाव, माता-पिता की नौकरी छूटना और आर्थिक तंगी भी शामिल है। परिवार के किसी सदस्य की गंभीर बीमारी या मृत्यु, जिसके बारे में बच्चों को आघात लगता है। डॉ। बर्क हैरिस ने कहा कि कोविड -19 महामारी बच्चों के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य और व्यवहार को नकारात्मक रूप से प्रभावित करने के लिए इस तनाव के लिए एक 'तूफान' की तरह काम कर रहा है। एक्सपर्ट्स बता रहे हैं कि कोविड-19 के चलते बच्चों के तनाव को मानसिक आघात में तब्दील होने से किस तरह बचाव करें ? इसके लिए तनाव से डरने के बजाय तनावपूर्ण स्थितियों में नए अवसरों को तलाशने पर जोर दिया है।

जानिए कैसे बच्चों में तनाव को गहरा अवसाद बनने से कैसे रोकें-

  • अपने बच्चों को करीब से जानने की कोशिश करें

बच्चे के अंदर की बातों को जानने के लिए आप उनसे बात करें और यह जानने की कोशिश करें कि उन्हें कौन सी बात परेशान कर रही हैं। शायद ऐसा करने से उन्हें मदद मिल सके।अपने बच्चे की आत्मसम्मान की भावनाएं बनाएं प्रोत्साहन और स्नेह का उपयोग करें परिस्थितियों में अपने बच्चे को शामिल करने की कोशिश करें जहां वह सफल हो सकता है सजा के बदले सकारात्मक प्रोत्साहन और पुरस्कार का उपयोग करने की कोशिश करें।
डॉ. नादिन बर्क हैरिस के मुताबिक, अगर आप सुनिश्चित नहीं हैं कि आप जो तनाव प्रतिक्रिया देख रहे हैं वह सामान्य है तो आप अपने बच्चे के लिए परामर्श लेना चाहते हैं। अक्सर, आपके बच्चे के नियमित स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता आपको मानसिक स्वास्थ्य संसाधनों की ओर संकेत कर सकते हैं, जो आपके घर पर रहने के आदेश के दौरान टेलीमेडिसिन के माध्यम से पहुंचा जा सकता है।

  • बच्चों पर विपरीत परिस्थितियों के प्रभाव को समझें

कई बच्चे इस समय तनावपूर्ण स्थिति का सामना कर रहे हैं। जिन लोगों को बचपन में अन्य प्रतिकूल घटनाओं से अवगत कराया गया है, उनके सामने इस समय कोरोना संकट जैसी नकारात्मक घटना है। इस तरह की घटनाओं से बच्चों में तनाव पैदा होने का खतरा बना रहता है। डॉ. बर्क हैरिस ने कहा, यह जानकर कि कोविड -19 से चलते तनाव झेलने का खतरा ज्यादा है ऐसे में बच्चों पर पड़ रहे प्रभाव को समझना जरूरी है।

पेंसिल्वेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी के मनोविज्ञान के प्रोफेसर यो जैक्सन, जो चाइल्ड माल्ट्रीटमेंट सॉल्यूशंस नेटवर्क के एसोसिएट डायरेक्टर के रूप में भी काम करते हैं। इन्होंने कहा है कि यह कहना अधिक सरल होगा कि अधिक जोखिम वाले घरों के बच्चे अभी अधिक पीड़ित हैं। वर्तमान में उपलब्ध संसाधनों की कमी के कारण भी बच्चों में तनाव पैदा हो रहे हैं।

  • धारणा बनाने से बचें

पैरेंट्स को यह समझना चाहिए कि कुछ बच्चों के लिए कोविड-19 द्वारा लाया गया यह एकांत तनाव के लिए उपहार की तरह है। इस समय जब स्कूल बंद हैं, बच्चें घरों में बंद हैं। ऐसे समय में उनके दिमाग में कई तरह की धारणाएं बनती हैं। पैरेंट्स को इस पर नजर रखना चाहिए। अपने बच्चे को आप में अधिक से अधिक विश्वास दिलाने का सबसे अच्छा तरीका एक अच्छा श्रोता बनकर होता है। उनके विचारों या आशंकाओं के बारे में मत समझो या आलोचना मत करो, लेकिन उन्हें बिना किसी दखल के सुनें। यह उन्हें एक भावना देगी कि उन्हें सुनाई जा रही है और वे न्याय किए बिना अपनी भावनाओं को व्यक्त कर सकते हैं।

  • तनाव की वजह पता करने की कोशिश करें

बर्क हैरिस ने कहा, इस बारे में सोचना है कि बच्चे क्या कर सकते हैं, और हम उस तनाव की स्थिति में क्या कर सकते हैं। बर्क हैरिस ने बताया कि नींद, व्यायाम और पोषण भी बच्चों को तनाव को नियंत्रण में रखने में मदद कर सकते हैं। बर्क हैरिस ने सलाह दी है कि माता-पिता बच्चों को पहले महामारी के बारे में बात करने से तनाव के हानिकारक प्रभावों से बचने में मदद करें।
डॉ. बर्क हैरिस माता-पिता को सलाह दी है कि वे अपने बच्चों को उनके दोस्तों से जोड़े रखें। यह वीडियो चैट, फोन कॉल और लेटर के माध्यम से किया जा सकता है। अंत में वह बच्चों के लिए एक दिनचर्या बनाने की सलाह देती है जिसमें जो बच्चों के लिए खेलने का समय, स्वच्छता, फूड, पढ़ाई, व्यायाम सबकुछ समयानुसार शामिल रहें।

X
बच्चे के अंदर की बातों को जानने के लिए आप उनसे बात करें और यह जानने की कोशिश करें कि उन्हें कौन सी बात परेशान कर रही हैंबच्चे के अंदर की बातों को जानने के लिए आप उनसे बात करें और यह जानने की कोशिश करें कि उन्हें कौन सी बात परेशान कर रही हैं

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.