पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52344.450.04 %
  • NIFTY15683.35-0.05 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47122-0.57 %
  • SILVER(MCX 1 KG)68675-1.23 %
  • Business News
  • Why Keep GST 5%? It Can Also Do 0.10%; Input Tax Credit To Producers Pay Cash In Inverted Duty Structure

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वैक्सीन पर GST का मामला:GST 5% क्यों रखना? इसे 0.10% भी कर सकते हैं; उत्पादकों को इनपुट टैक्स क्रेडिट इनवर्टेड ड्यूटी स्ट्रक्चर में नकद चुका दें

मुंबईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

वैक्सीन पर GST 5% से कम कर देने से टीका महंगा होने के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बयान पर विशेषज्ञ सवाल उठा रहे हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि उत्पादकों को इनपुट टैक्स क्रेडिट का फायदा देने के लिए जीएसटी की दर 5 फीसदी रखना जरूरी नहीं है। इसे 1% या इससे भी कम किया जा सकता है।

वैक्सीन पर GST की दर को कम करना चाहिए
GST विशेषज्ञ बिमल जैन कहते हैं, वैक्सीन पर GST को बिना संदेह कम किया जा सकता है। GST काउंसिल के पास इसके अधिकार हैं। केंद्र सरकार को महामारी की आपात स्थिति को देखते हुए GST काउंसिल को मीटिंग बुलानी चाहिए और वैक्सीन पर GST की दर को कम करना चाहिए। ताकि लोगों को कम कीमत पर टीका मिले। इसके लिए जरूरत पड़ने पर टीके में इस्तेमाल होने वाले रॉ मैटेरियल पर भी दरें घटा देनी चाहिए।

जरूरी मेडिकल इक्विपमेंट पर टैक्स कम करने की जरूरत
ऑक्सीजन कॉन्संट्रेटर और वेंटिलेटर पर भी 12% GST लग रहा है, इसमें भी कमी की जानी चाहिए। वहीं, इंदौर CA शाखा के चेयरमैन CA कीर्ति जोशी कहते हैं, GST इनपुट क्रेडिट के लिए वैक्सीन को 5% स्लैब में रखना जरूरी नहीं है। सरकार इसकी दरों को न्यूनतम स्तर पर ले जाकर भी ऐसा कर सकती है। GST काउंसिल की सिफारिश पर केंद्र सरकार को यह अधिकार प्राप्त है।

वहीं, वित्त मंत्री सीतरमण निर्मला ने कहा था कि अगर वैक्सीन को GST से पूरी छूट दी गई तो उत्पादक इनपुट टैक्स क्रेडिट नहीं ले पाएंगे। वे इसका बोझ वैक्सीन की कीमत बढ़ाकर उपभोक्ताओं पर डालेंगे।

एक्सपर्ट पैनल में शामिल इंदौर CA शाखा चेयरमैन कीर्ति जोशी और पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स में के चेयरमैन बिमल जैन ने कहा कि GST काउंसिल वैक्सीन पर टैक्स की दर घटा सकती है। मर्चेंट एक्सपोर्ट की तर्ज पर इसे 0.10% किया जा सकता है। ऐसा करने पर उत्पादकों को इनपुट टैक्स क्रेडिट मिल जाएगा। कच्चे माल पर जो अतिरिक्त टैक्स का भुगतान उत्पादक ने किया है उसका इनवर्टेड ड्यूटी स्ट्रक्चर में उन्हें नकद रिफंड दिया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...